Google एंड्राॅयड में कर रहा अपडेट, अब गूगल आपके फोन के ऐप्स के बिहेव की करेगा निगरानी

एंड्राॅयड (प्रतीकात्मक तस्वीर)

एंड्राॅयड (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गूगल की यह नई पॉलिसी 5 मई से प्रभावी होगी और यह एंड्राॅयड वर्जन 11 और इससे नए वर्जन पर ही कम्पेटिबल होगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिग्गज आईटी कंपनी गूगल (Google) एक नयी पॉलिसी लेकर आ रही है, जिसके अनुसार गूगल अब प्ले स्टोर से डाउनलोड किए गए ऐप्स के बिहैविअर की निगरानी करेगा. सरल शब्दों में, गूगल अब ऐप्स को आपके फोन इंस्टॉल अन्य ऐप्स की जानकारी इकठ्ठा करने से रोकेगा. गूगल की यह नई पॉलिसी 5 मई से प्रभावी होगी और यह एंड्राॅयड वर्जन 11 और इससे नए वर्जन पर ही कम्पेटिबल होगा. जो ऐप्स गूगल के इस पॉलिसी शर्तो को पूरा नहीं करते, उन्हें गूगल अपने प्ले स्टोर से हटा देगा.

ऐप्स की निगरानी करेगा गूगल

गूगल का कहना है कि यह पॉलिसी उन ऐप्स की निगरानी करेगा, जो यूजर के पर्सनल डेटा या संवेदनशील डेटा के रूप में इंस्टॉल होते हैं. हालांकि गूगल की यह पॉलिसी एक रिसर्च के कुछ दिन बाद आई है, जिसमें कहा गया है कि गूगल एप्पल (Apple) की तुलना में यूजर के डेटा को इकठ्ठा कर रहा है.

ये भी पढ़ें- Amazon Pay ICICI Bank Credit Card: ई-वॉलेट में मनी लोड करने पर भी पाएं 1 फीसदी रिवॉर्ड प्वाइंट, जानिए अन्य फीचर्स
गूगल ने साफ किया कि जब तक किसी ऐप का कोर फंक्शनलिटी या उद्देश्य, यूजर के फोन में इनस्टॉल अन्य ऐप्स की जानकारी लेने आवश्यकता हो, तभी उन्हें यूजर के फोन में इंस्टॉल अन्य ऐप्स की जानकारी शेयर की जा सकती है. अगर ऐप इस शर्त को पूरा नहीं करता, तब उसे यूजर से दूसरे ऐप्स की जानकारी लेने का परमिशन नहीं दिया जाएगा. फाइनेंस और बैंकिंग से जुड़े ऐप्स को फोन में इंस्टॉल ब्राउजर्स, एंटीवायरस, इंस्टॉल डिवाइस और फाइल मैनेजर का परमिशन ले सकते हैं.

एप्पल भी आईओएस के लिए ला रहा है अपडेट

हालांकि ये अपडेट थोड़े देर से आए हैं क्योंकि गूगल को इस पॉलिसी को पिछले साल से तैयार कर रहा था. साथ में एप्पल भी आईओएस के लिए ऐसा ही अपडेट ला रहा है जिसमें यूजर के फोन में इंस्टॉल ऐप दूसरे ऐप्स की जानकारी नहीं ले पाएगा जब तक यूजर परमिशन न दे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज