गूगल प्‍लेस्‍टोर ने स्‍कैनर-2 समेत हटाए 6 ऐप्‍स, अगर आपके स्‍मार्टफोन में भी हैं ये ऐप तो तुरंत करें डिलीट

गूगल प्‍लेस्‍टोर ने स्‍कैनर-2 समेत हटाए 6 ऐप्‍स, अगर आपके स्‍मार्टफोन में भी हैं ये ऐप तो तुरंत करें डिलीट
गूगल ने प्‍ले स्‍टोर से 6 ऐसे ऐप्‍स को हटा दिया है, जिनमें मैलवेयर पाया गया था. साथ ही यूजर्स को तुरंत इन्‍हें हटाने को कहा है.

गूगल प्ले स्टोर (Google Play Store) ने कंवीनिएंट स्‍कैनर-2 और सेफ्टी एपलॉक समेत 6 मोबाइल ऐप्‍लीकेशन (Apps) को हटा दिया है. इनमें मैलवेयर (Malware) छिपा हुआ था. इन ऐप्स को अब तक 2 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड्स किया जा चुका था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2020, 9:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गूगल (Google) ने प्‍ले स्‍टोर (Play Store) से कंवीनिएंट स्‍कैनर-2 (Convenient Scanner 2) और सेफ्टी ऐपलॉक (Safety Applock) समेत छह ऐसी मोबाइल ऐप्‍लीकेशंस (Apps) को हटा दिया है, जिनमें मैलवेयर (Malware) छिपा हुआ था. हटाए गए ऐप्‍स में पुश मेसेज-टेक्सटिंग एंड एसएमएस (Push Message-Texting and SMS), इमोजी वॉलपेपर (Emoji Wallpaper), सैपरेट डॉक स्कैनर (Separate Doc Scanner) और फिंगरटिप गेमबॉक्स (Fingertip GameBox ) भी शामिल हैं. इन खतरनाक ऐप्‍स का पता साइबर सिक्यॉरिटी रिसर्चर्स ने लगाया है. इन ऐप्‍स में जोकर मैलवेयर था. यूजर्स को इन सभी ऐप्‍स को तत्‍काल डिलीट करने की सलाह दी गई है.

तीन साल में गूगल प्‍ले स्‍टोर हटाए जा चुके हैं 1,700 से ज्‍यादा ऐप्‍स
साइबर सिक्‍योरिटी फर्म प्रेडियो (Pradeo) के मुताबिक, जिन स्‍मार्टफोन में जोकर मैलवेयर आ जाता है, उनमें बिना यूजर की जानकारी के ही प्रीमियम सर्विस सब्‍सक्राइब हो जाती हैं. पिछले तीन साल में गूगल ने प्‍ले स्‍टोर से जोकर मैलवेयर वाले 1,700 ऐप्‍स को हटाया है. बता दें कि इन 6 खतरनाक ऐप्स को अब तक 2 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है. यूजर्स डाटा सिक्योरिटी के लिहाज से इन ऐप्स को खतरनाक कैटेगरी में रखा गया है. यूजर्स को इन ऐप्स को इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी गई है. इन ऐप्स पर मलीशश कंटेंट पाया गया है.

ये भी पढ़ें - 'एक जिला, एक उत्‍पाद' योजना पर राज्‍यों के साथ काम कर रहा केंद्र! जुड़ेगा 20 खरब रुपये का उत्‍पादन
बिना यूजर की मंजूरी लिए ही एक्टिव कर देता है प्रीमियम सर्विसेस


गूगल ने इन सभी ऐप्‍स को प्लेस्टोर से हटा दिया है, लेकिन अगर ये आपके मोबाइल में हैं तो खतरनाक साबित हो सकते हैं. पिछले साल भी 100 से ज्यादा ऐप में मैलवेयर पाया गया था. मैलवेयर वाले ऐप्स को पहचानना आसान नहीं होता है. साइबर सिक्योरिटी फर्म के रिसर्चर ने गूगल प्‍ले स्‍टोर पर जोकर ड्रॉपर और प्रीमियम डायलर स्पाइवेयर का एक नया साफ्टवेयर पकड़ा था, जो आपके स्‍मार्टफोन में कई तरह की गड़बड़ियां कर सकता है. यह यूजर्स की मंजूरी लिए बिना ही कई प्रीमियम सर्विस शुरू कर देता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज