लाइव टीवी

लोगों की प्राइवेट बातें सुनती थी ये मैसेजिंग ऐप, Google ने प्ले स्टोर से किया डिलीट

News18Hindi
Updated: February 16, 2020, 9:05 AM IST
लोगों की प्राइवेट बातें सुनती थी ये मैसेजिंग ऐप, Google ने प्ले स्टोर से किया डिलीट
File Photo

जानें कौन सी है वह ऐप जो यूज़र्स की जासूसी कर रही थी, अगर आपके फोन में भी है तो कर दें डिलीट...

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 16, 2020, 9:05 AM IST
  • Share this:
दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल (search engine google) ने पॉपुलर मैसेजिंग ऐप टूटॉक (ToTok) को एक बार फिर प्ले स्टोर से हटा दिया है. यह दावा किया जा रहा था कि इसका इस्तेमाल संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) सरकार द्वारा व्यापक निगरानी के लिए किया जा रहा है. ऐप को इससे पहले दिसंबर में ऐपल के ऐप स्टोर और गूगल के प्ले स्टोर से हटाया गया था.

9टू5 गूगल रिपोर्ट में शुक्रवार को बताया गया कि जिन लोगों ने यह ऐप इंस्टॉल कर रखा है, उनका डेटा सुरक्षित नहीं हैं, क्योंकि UAE द्वारा कथित तौर पर टूटॉक का इस्तेमाल हर प्रकार की गतिविधि पर नजर रखने के लिए किया जा रहा है.

(ये भी पढ़ें- Airtel का सस्ता प्लान! सिर्फ 19 रुपये में करें अनिलिटेड फ्री Call, मिलेगा इंटरनेट डेटा भी...)

इसमें लोगों की आपसी बातचीत से लेकर उनकी हर एक्टिविटी जैसे आपसी रिश्ते, लोग कहां जा रहे हैं और क्या कर रहे हैं, जैसी व्यक्तिगत चीजों पर निगरानी रखी जा रही है. इसके अलावा लोगों की भेजी जाने वाली फोटो और बाकी कंटेंट पर भी नजर रखी जा रही है.





खुफिया एजेंसियों से परिचित अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, यह ऐप जो कि टेलीग्राम और सिग्नल (ऐप) की तरह काम करता है, इसे मिडिल ईस्ट, यूरोप, एशिया, अफ्रीका और उत्तरी अमेरिका में एंड्रॉएड और आईओएस डिवाइस पर लाखों बार डाउनलोड किया गया है.

(ये भी पढ़ें- लोगों में Xiaomi के इस नए 5G स्मार्टफोन की दीवानगी, 1 मिनट में बिक गए 200 करोड़ के फोन)

ऐप रैंकिंग और रिसर्च फर्म ऐप एनी के अनुसार, टूटॉक पिछले हफ्ते अमेरिका में सबसे ज्यादा डाउनलोड किए जाने वाले सोशल ऐप में से थी.



(ये भी पढ़ें- Jio प्लान! सिर्फ 129 रुपये के रिचार्ज पर महीने भर करें अनलिमिटेड फ्री कॉल, डेटा का फायदे भी..)

न्यूयॉर्क टाइम्स द्वारा की गई एक जांच में पाया गया है कि टूटॉक नामक ऐप को ब्रीज होल्डिंग नाम की एक कंपनी ने बनाया है, जो अबू धाबी स्थित साइबर इंटेलिजेंस और हैकिंग कंपनी डार्क मैटर के साथ जुड़ी हुई है. डार्क मैटर पहले से ही संभावित साइबर क्राइम के चलते एफबीआई की जांच के घेरे में है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 16, 2020, 8:14 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर