होम /न्यूज /तकनीक /Android के SMS ऐप में जल्द आने वाला है ये फीचर, Google ने शुरू की टेस्टिंग

Android के SMS ऐप में जल्द आने वाला है ये फीचर, Google ने शुरू की टेस्टिंग

Image Credit: Google

Image Credit: Google

Google ने ऐप में ग्रुप चैट्स के लिए  एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन (E2EE) को लाने की तैयारी शुरू कर दी है. जल्द इसे बीटा यूजर् ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

RCS ग्रुप चैट्स में मिलेगा एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन.
बीटा यूजर्स कर पाएंगे E2EE पावर्ड RCS ग्रुप चैट्स को एक्सेस.
Google ने RCS ना अपनाने पर की Apple की आलोचना,

नई दिल्ली. Google ने एंड्रॉयड में अपने मैसेजिंग ऐप में ग्रुप चैट्स के लिए एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन (E2EE) को इंप्लिमेंट करने के लिए टेस्टिंग शुरू कर दिया है. मैसेज ओपन बीटा प्रोग्राम के लिए एनरोल हुए बीटा यूजर्स को नए E2EE पावर्ड RCS ग्रुप चैट्स का एक्सेस मिलेगा. आपको बता दें कि RCS का मतलब रिच कम्यूनिकेशन सर्विसेज होता है. ये एक प्रोटोकॉल है, जिसका इस्तेमाल टेलीकॉम इंडस्ट्री द्वरा एंड्रॉयड फोन्स में SMS/MMS मैसेजिंग को इंप्रूव करने के लिए किया जाता है.

RCS के जरिए यूज़र्स हाई रेजोलूशन मीडिया शेयर कर सकते हैं. साथ ही इसमें WhatsApp की तरह रीड रिसिपिएंट्स फीचर भी मिलता है. इस साल मई में I/O 2022 के दौरान गूगल ने ये घोषणा की थी कि कंपनी साल के अंत तक बीटा में E2EE बेस्ड RCS ग्रुप चैट्स पेश करेगी. फिलहाल इसके रोलआउट के लिए कोई ऑफिशियल डेट नहीं बताई गई है. लेकिन, यूजर्स के साथ ये बीटा टेस्टिंग के रेडी है, ऐसे में ये फीचर जल्द सभी के लिए दस्तक दे सकता है.

ये भी पढ़ें-  Facebook प्रोफाइल पर चाहिए Blue Tick तो इन आसान स्टेप को फॉलो करके हो जाएगा काम

Apple ने नहीं अपनाया RCS
पर्सन-टू-पर्सन कन्वर्सेशन के लिए E2EE पहले से ही एंड्रॉयड मैसेज ऐप में सभी के लिए उपलब्ध है. एक तरफ जहां टेलीकॉम इंडस्ट्री पहले से RCS SMS कम्युनिकेशन में शामिल है, तो वहीं Apple ने इसे अभी भी नहीं अपनाया है.

गूगल सार्वजनिक रूप से Apple को  RCS पावर्ड SMS को इग्नोर करने को लेकर कह चुका है, लेकिन कंपनी इसके बावजूद iPhone में अपने iMessage सिस्टम के साथ खड़ी है. एक ब्लॉग पोस्ट में गूगल ने बीटा की घोषणा की है और स्टैंडर्ड को इग्नोर करने को लेकर Apple की आलोचना भी की है.

ये भी पढ़ें-WhatsApp जैसे ही हैं ये 5 दमदार मैसेजिंग ऐप्स, चैटिंग के लिए मिलते हैं ज़बरदस्त फीचर्स

Messages by Google की ग्रुप प्रोडक्ट मैनेजर नीना बुद्धिराजा ने ब्लॉग में लिखा है कि आज सभी मोबाइल कैरियर्स और मैन्युफैक्चरर्स ने स्टैंडर्ड तौर पर RCS को एडॉप्ट कर लिया है- केवल Apple को छोड़कर. उन्होंने आगे लिखा है कि इसके बावजूद Apple ने RCS को अपनाने से मना कर दिया है. इनका टेक्स्टिंग सिस्टम अभी भी 1990s में अटका हुआ है.

Tags: App, Google, Tech news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें