Google अगले साल तक गूगल Hangouts को करेगा बंद, डेटा करेगा यहां ट्रांसफर

गूगल ने कहा, Hangout यूजर को Google चैट में बिना किसी शुल्क के ट्रांसफर किया जाएगा.
गूगल ने कहा, Hangout यूजर को Google चैट में बिना किसी शुल्क के ट्रांसफर किया जाएगा.

गूगल ने एक आधिकारिक घोषणा में कहा कि वह 2021 की पहली छमाही में Google Hangouts को रिटायर कर देगा और उसका डेटा गूगल चैट में ट्रांसफर कर देगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2020, 3:43 PM IST
  • Share this:
Google ने पहले ही घोषणा कर दी है कि वह Hangouts को अगले साल तक बंद कर देगा और उसे Google चैट में शिफ्ट करेगा. गूगल ने एक आधिकारिक घोषणा में कहा कि वह 2021 की पहली छमाही में Google Hangouts को रिटायर कर देगा. गूगल का कहना है कि Hangout यूजर को Google चैट में बिना किसी शुल्क के ट्रांसफर किया जाएगा. यूजर अपनी चैट हिस्ट्री और कॉन्टेक्ट को नए चैट प्लेटफॉर्म पर आसानी से ट्रांसफर कर पाएंगे. इसका मतलब है गूगल Hangouts गूगल चैट में बदल जाएगा.

मिलेंगी ये सुविधाएं-
फिलहाल इस बदलाव में लगने वाले समय को लेकर स्थिति साफ़ नहीं है. इससे पहले गूगल ने हैंगआउट को चैट या गूगल मीट के साथ मर्ज करने का सुझाव भी दिया था. गूगल ने अपने बयान में खुद का स्टैंडअलोन ऐप लाने के अलावा वेब क्लाइंट और जीमेल ऐप के लिए डेडिकेटेड सेक्शन लाने की बात कही है. गूगल वर्कस्पेस के यूजर के लिए चैट अभी जीमेल ऐप पर उपलब्ध है. गूगल का कहना है कि हैंगआउट यूजर्स को चैट ऐप में इनबॉक्स, फास्टर सर्च, इमोजी आदि अतिरिक्त फीचर मिलेंगे. Google हैंगआउट से जुड़ा Fi गूगल के मैसेज इस्तेमाल करने के लिए उपलब्ध होगा.

ये भी पढ़ें : Tricks and Tips: Google प्ले स्टोर पर करें ये 3 सेटिंग्स, बैटरी के साथ बचेगा अच्छा खासा डेटा
वॉइस ऐप पर मिलेगी फ्री कॉलिंग-


Fi के यूजर्स को वॉइस कॉल और वॉइस मैसेज चेक करने का ऑप्शन मिलेगा जिससे डिवाइस में मैसेज पर बातचीत मैनेज की जा सकेगी. यह बदलाव इसी महीने से देखने को मिलेगा. इसी तरह गूगल वॉइस इस्तेमाल करने वाले यूजर और स्टैंडअलोन का प्रयोग कर पाएंगे. इस वॉइस ऐप पर फ्री कॉलिंग का लुफ्त उठाया जा सकता है.

गूगल ने हैंगआउट से बाहर आने का निर्णय लिया है इसलिए प्लेटफॉर्म पर मौजूद सेवाएं भी इसी साल बंद हो जाएगी. फ़ोन्स कॉल फीचर इस महीने से यूरोपियन संघ और यूनाइटेड स्टेटस में बंद हो जाएगा. बताया जा रहा है कि यह नए टेलीकम्यूनिकेशन रेग्युलेशन के कारण ऐसा होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज