होम /न्यूज /तकनीक /सरकार ने विंडोज यूजर्स के लिए हाई सिक्योरिटी चेतावनी जारी की, तुरंत अपडेट करें डिवाइस

सरकार ने विंडोज यूजर्स के लिए हाई सिक्योरिटी चेतावनी जारी की, तुरंत अपडेट करें डिवाइस

विंडोज यूजर्स के लिए हाई सिक्योरिटी चेतावनी जारी

विंडोज यूजर्स के लिए हाई सिक्योरिटी चेतावनी जारी

विंडोज डेस्कटॉप यूजर्स के लिए भारत सरकार ने हाई सिक्योरिटी वार्निंग जारी की है. तावनी में कहा गया है कि विंडोज डिफेंडर ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

विंडोज डेस्कटॉप यूजर्स के लिए सरकार ने हाई सिक्योरिटी वार्निंग जारी की है.
विंडोज डिफेंडर क्रेडेंशियल गार्ड में सिक्योरिटी बाईपास खामियों की सूचना मिली है.
खामियां हमलावर को सिक्योरिटी सिस्टम को बायपास करने अनुमति दे सकती हैं.

नई दिल्ली. विंडोज डेस्कटॉप यूजर्स के लिए भारत सरकार ने हाई सिक्योरिटी वार्निंग जारी की है. इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Meity) के अंडर आने वाली भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (CERT-In) ने सभी विंडोज यूजर्स के लिए एक एडवाइजरी जारी की है, जिसमें कहा गया है कि विंडोज में गंभीर खामियां हो सकती हैं. CERT-In यूजर्स को अपने डिवाइस को तुरंत अपडेट करने के लिए कहा है.

दरअसल, ऑर्गेनाइजेशन को एक सिक्योरिटी फ्लो के बारे में अलर्ट किया गया है, जो माइक्रोसॉफ्ट विंडोज के कुछ वर्जन में विंडोज डिफेंडर को नुकसान पहुंचा सकता है. बता दें कि विंडोज डिफेंडर प्रोग्राम विंडोज को वायरस, मैलवेयर और अन्य खतरों से बचाता है.

सीईआरटी की चेतावनी में कहा गया है कि विंडोज डिफेंडर क्रेडेंशियल गार्ड में सिक्योरिटी बाईपास खामियों की सूचना दी गई है, जो स्थानीय रूप से प्रमाणित हमलावर को security restrictions को बायपास करने और टारगेट सिस्टम पर एक्सेस प्राप्त करने की अनुमति दे सकता है.

यह भी पढ़ें- Antivirus Apps For Phone: इन पांच ऐप्स को डाउनलोड करने पर नहीं रहेगा वायरस का खतरा

आसानी से एक्सेस हासिल कर सकते हैं हैकर्स
सीईआरटी-इन और माइक्रोसॉफ्ट के विशेषज्ञों का कहना है खामियों के कारण हैकर सुरक्षा उपायों का पता लगाए बिना कंप्यूटर तक एक्सेस कर सकते हैं. यह नोट किया गया है कि विंडोज डिफेंडर के क्रेडेंशियल गार्ड कॉम्पेनेंट में एक बग है, जिसके परिणामस्वरूप, अटैकर्स को सुरक्षा उपायों के आसपास पहुचं सकते हैं और टारगेट सिस्टम तक एक्सेस हासिल कर सकते हैं.

डोमेन तक एक्सेस
उन्होंने आगे कहा कि डिफॉल्ट को ट्रिगर करने वाला बग खामियों में फिट बैठता है. यह केवल उपयोग में होने पर ही ढूंढा जा सकता है. यह आपको धोखा दे सकता है और एक अधिकृत यूजर्स की तरह सामने आ सकता है. यह अटैकर्स को पूरे डोमेन तक एक्सेस प्रदान करता है. यह उन कंपनियों और संगठनों के लिए गंभीर परिणाम पैदा कर सकता है, जो पूरे सिस्टम से जुड़ी हर मशीन या अकाउंट को कंट्रोल करने के लिए डोमेन का उपयोग करते हैं.

यह भी पढ़ें-WhatsApp सेटिंग में जल्द मिलेगा ‘Language’ से जुड़ा ये ज़रूरी फीचर, स्क्रीनशॉट से हुआ खुलासा

43 माइक्रोसॉफ्ट वर्जन पर इफेक्ट
दुनिया भर के कई सिक्योरिटू प्रोफेशनल्स द्वारा किए गए एक विश्लेषण के अनुसार, इन खामियों को कथित तौर पर वर्ष 2021 में पाया गया था. वर्तमान में लगभग 1.5 बिलियन एक्टिव विंडोज यूजर्स हैं. विशेषज्ञों का यह भी अनुमान है कि हाल ही में जिस खामी का पता चला है, वह लगभग 43 विभिन्न Microsoft वर्जन को प्रभावित करती है.

अपडेट करने डिवाइस
सीईआरटी-इन ने अपनी एडवाइजरी में यूजर्स से अपने डिवाइस को अपडेट करने के लिए कहा है. अपडेट के लिए यूजर्स बस सेटिंग टैब पर जाकर और लेटेस्ट अपडेट इंस्टॉल कर सकते हैं और अगर ऑटो-अपडेट विकल्प एनेबल है, तो आपका डिवाइस स्वचालित रूप से लेटेस्ट सॉफ़्टवेयर वर्जने में अपडेट हो जाएगा.

Tags: Cyber Attack, Tech news, Tech News in hindi, Technology

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें