New IT Rules: कम से कम 50 लाख यूजर्स के बाद ही महत्वपूर्ण सोशल मीडिया मंच का दर्जा

सोशल मीडिया का बैकग्राउंड में होना, बार-बार आपका ध्यान अपनी तरफ खींचता है और चीजों के बारे में पूछता रहता है.
Image Credit: News18 Hindi

सोशल मीडिया का बैकग्राउंड में होना, बार-बार आपका ध्यान अपनी तरफ खींचता है और चीजों के बारे में पूछता रहता है. Image Credit: News18 Hindi

नोटिफिकेशन में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने भारत में एक महत्वपूर्ण सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए 50 लाख यूजर्स की सीमा निर्धारित की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2021, 8:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने महत्वपूर्ण सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म (Significant Social Media Intermediary) की परिभाषा में न्यूनतम 50 लाख यूजर्स संख्या की शर्त रखी है. इस परिभाषा में आने वाली कंपनियों को नए आईटी नियमों (New IT Rules) के तहत अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का दुरुपयोग रोकने के लिए अतिरिक्त सावधानियों का अनुपालन करना होगा.

तीनों अधिकारियों को भारत में रहना होगा
इस सप्ताह की शुरुआत में घोषित नए नियमों के तहत महत्वपूर्ण सोशल मीडिया मंचों को मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल संपर्क व्यक्ति और निवासी शिकायत अधिकारी की नियुक्ति सहित अतिरिक्त नियमों का पालन करना होगा. इसमें यह भी शर्त है कि तीनों अधिकारियों को भारत में रहना होगा. उन्हें मासिक अनुपालन रिपोर्ट और लगातार हटाई गई सामग्रियों का विवरण प्रकाशित करनी होगी.

ये भी पढ़ें- रेगुलर इनकम के लिए Saving Schemes में करें निवेश, जानें POMIS, SCSS, PMVVY या FD कौन दे रहा ज्यादा ब्याज?
अभी देश में व्हाट्सऐप के 53 करोड़, यूट्यूब के 44.8 करोड़, फेसबुक के 41 करोड़, इंस्टाग्राम के 21 करोड़ और ट्विटर के 1.75 करोड़ खाताधारक हैं. नोटिफिकेशन में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने भारत में एक महत्वपूर्ण सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए 50 लाख यूजर्स की सीमा निर्धारित की है.



ये भी पढ़ें- SBI ने 44 करोड़ ग्राहकों को किया अलर्ट! भूलकर भी ना करें ये काम, वरना खाली हो सकता है आपका बैंक अकाउंट

सोशल मीडिया के लिए नई गाइडलाइंस जारी
इससे पहले, सरकार ने सोशल मीडिया और स्ट्रीमिंग कंपनियों को नियंत्रित करने वाले नियमों को कड़ा करने की गुरुवार को घोषणा की था. इस कदम का उद्देश्य फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया मंचों को प्रकाशित सामग्रियों के लिए अधिक जवाबदेह बनाना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज