होम /न्यूज /तकनीक /सट्टेबाजी विज्ञापन को लेकर सख्त हुई सरकार, गूगल से Betting Ads हटाने को कहा

सट्टेबाजी विज्ञापन को लेकर सख्त हुई सरकार, गूगल से Betting Ads हटाने को कहा

गूगल (फाइल फोटो)

गूगल (फाइल फोटो)

सट्टेबाजी विज्ञापन को लेकर सख्त रुख अपना रही भारत सरकार ने Google से विदेशी सट्टेबाजी कंपनियों के सरोगेट विज्ञापन डिस्प ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

भारत ने Google से सट्टेबाजी कंपनियों के ऐड नहीं देखाने के लिए कहा है.
रिपोर्ट में फेयरप्ले, परीमैच और बेटवे जैसे ऐप शामिल हैं.
इससे पहले सरकार ने ओटीटी प्लेटफॉर्मों से ये ऐड हटाने को कहा था.

नई दिल्ली. भारत ने Google से विदेशी सट्टेबाजी कंपनियों के सरोगेट विज्ञापन डिस्प्ले नहीं करने के लिए कहा है. मिंट ने इस बात की जानकारी सूचना और प्रसारण मंत्रालय से अवगत एक सोर्स के हवाले से दी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि अल्फाबेट इंक के गूगल इंडिया को पिछले हफ्ते भेजे गए पत्र में कंपनी से कहा है कि वह फेयरप्ले, परीमैच, बेटवे जैसे सर्च रिजल्ट्स और यूट्यूब जैसे बेटिंग प्लेटफॉर्म्स से डायरेक्ट या सरोगेट सभी तरह के विज्ञापन तुरंत हटा दे.

रॉयटर्स ने 4 दिसंबर को एक सरकारी दस्तावेज और तीन सोर्सिस का हवाला देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा स्किल गेम्स को रेगूलेट करने के अलावा भारत का ऑनलाइन गेमिंग को रेगूलेट करने का प्लान सभी रियल-मनी गेम्स पर लागू होगा.

ऐड तुरंत रोकने को कहा  
मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मिंट से कहा कि मंत्रालय ने Google से इसे तुरंत रोकने के लिए कहा है. उन्होंने कहा है कि 3 अक्टूबर को हमारी अंतिम सलाह के बाद टीवी चैनलों और ओटीटी (ओवर-द-टॉप) प्लेयर्स ने ऑनलाइन सट्टेबाजी फर्मों के सरोगेट विज्ञापन दिखाना बंद कर दिया, लेकिन अभी भी ऐसे कई विज्ञापन YouTube और Google पर चल रहे हैं.

यह भी पढ़ें- Online Betting ऐप्स से अर्थव्यवस्था को हो रहा नुकसान, नकेल कसने की तैयारी में सरकार

सरकारी पैनल के सुझाव
फिलहाल मामले में गूगल ने कमेंट के लिए रॉयटर्स के अनुरोध का तुरंत जवाब नहीं दिया है. बता दें कि एक सरकारी पैनल ने सितंबर में रॉयटर्स द्वारा देखी गई एक ड्राफ्ट रिपोर्ट में कहा था कि भारत को स्किल या चांस के आधार पर ऑनलाइन खेलों को वर्गीकृत करने के लिए एक रेगूलेटरी संस्था बनानी चाहिए, प्रतिबंधित फॉरमोट को ब्लॉक करने के लिए नियम पेश करना चाहिए और गेमबलिंग वेबसाइटों पर सख्त रुख अपनाना चाहिए.

पहले भी जारी की ऐडवाइजरी
बता दें कि सट्टेबाजी के विज्ञापनों पर भारत सरकार बेहद सख्त रुख इख्तियार कर रही है. इससे पहले भी केंद्र ने नई वेबसाइटों, ओटीटी प्लेटफॉर्मों और निजी सेटेलाइट टीवी चैनलों को सट्टेबाजी साइट के विज्ञापन प्रसारित करने से दूर रहने को कहा था. इसको लेकर सूचना एवं प्रसारण (I&B) मंत्रालय ने एक एडवाइजरी भी जारी की थी. इसमें कहा गया था कि अगर सरकार की सलाह का पालन नहीं किया गया तो लागू कानूनों के तहत दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी.

Tags: Apps, Google, Online game, Tech news, Tech News in hindi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें