होम /न्यूज /तकनीक /एक Email से हैकर्स उड़ा सकते हैं आपका सारा पैसा, ऐसे पहचान कर खुद को रखें सेफ

एक Email से हैकर्स उड़ा सकते हैं आपका सारा पैसा, ऐसे पहचान कर खुद को रखें सेफ

साइबर अटैक से कैसे सेफ रहें.

साइबर अटैक से कैसे सेफ रहें.

जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी एडवांस होती है, वैसे ही हैकर्स भी लोगों को निशाना बनाने के नए-नए तरीके इजात कर रहे है. जालसाज लोगो ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

पैसे ट्रांसफर करने से लेकर किसी को पेमेंट करने तक लेनदेन से जुड़े काम भी अब एक क्लिक में हो जाते हैं.
फिशिंग एक तरह का साइबर अटैक है, जिससे हैकर्स ग्राहक की निजी जानकारी लेकर पैसे उड़ा लेता है.
कुछ चीज़ों को ध्यान में रख कर फर्जी ईमेल से बचा जा सकता है.

टेक्नोलॉजी के दौर में आजकल हर काम घर बैठे आराम से हो जाता है. पैसे ट्रांसफर करने से लेकर किसी को पेमेंट करने तक लेनदेन से जुड़े काम भी अब एक क्लिक में हो जाते हैं. जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी एडवांस होती है, वैसे ही हैकर्स भी लोगों को निशाना बनाने के नए-नए तरीके इजात कर रहे है. जालसाज लोगों से उनकी जानकारी प्राप्त करके पैसे चुरा लेता है, जिसे फिशिंग कहते हैं. फिशिंग एक तरह का साइबर अटैक है, जिससे हैकर्स ग्राहक की निजी जानकारी लोता है, जैसे कि पर्सनल बैंकिग डिटेल, डेबिट कार्ड नंबर, PIN या पासवर्ड.

इन डिटेल का इस्तेमाल करके लोगों के पैसे चुरा लेते हैं. फिशिंग अटैक के लिए हैकर्स कई तरीकों का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें से एक Email है. आइए जानते हैं कि कैसे पहचानें कि ईमेल किसी फ्रॉडस्टर ने भेजा है.

(ये भी पढ़ें-Apple फैंस के लिए खुशखबरी! नया फोन आने से पहले काफी सस्ता मिल रहा है iPhone 13)

1-बात करने का अनजान तरीका या ग्रीटिंग
2-ग्रामर या स्पेलिंग में गलती.
3-Email एड्रेस, लिंक और डोमेन नाम में गलतियां
4-धमकाना, या फिर अर्जेंट मैटर पर बात कहना.

कभी न करें ऐसी गलती
1-ई-मेल पर पासवर्ड, पिन, यूजर आईडी या कोई संवेदनशील जानकारी न भेजें.

2-किसी भी ई-मेल में ‘verify your account’ या ‘login’ लिंक पर क्लिक न करें. इसके बजाय, हमेशा एक नई विंडो खोलें और किसी भी खाते में लॉग इन करने के लिए संस्थान के आधिकारिक होम पेज का इस्तेमाल करें.

3-किसी भी लिंक पर क्लिक न करें और न ही स्पैम या संदिग्ध ईमेल में अटैचमेंट खोलें और जवाब दें.

(ये भी पढ़ें- हर SIM में क्यों होता है एक कोना कटा हुआ? बेहद दिलचस्प है वजह) 

4-किसी लिंक पर क्लिक करना या स्पैम का जवाब देना आपकी ई-मेल आईडी को वेरिफाई कर सकता है और भविष्य में इस तरह के और प्रयासों को प्रोत्साहित कर सकता है.

(ये भी पढ़ें- Tips & Tricks! गूगल डॉक्‍स फाइल को दूसरी भाषा में कैसे करें ट्रांसलेट, ये है आसान तरीका)

ऐसे मेल का पता लगाने के बाद आपको क्या करना चाहिए:
मूल प्राधिकारी/संगठन को संदिग्ध ई-मेल की रिपोर्ट करें.
अटैचमेंट खोलते समय सावधानी बरतें.
एंटी-वायरस और फायरवॉल प्रोग्राम इंस्टॉल करें
Credit/Debit के स्टेटमेंट लगातार चेक करते रहें.

Tags: Cyber Attack, Google, Tech news, Tech news hindi, Tips and Tricks

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें