प्राकृतिक आपदा के समय गैजेट्स का कैसे करें यूज? यहां समझें पूरा तरीका

प्राकृतिक आपदा में हाईटेक गैजेट्स से किया जा सकता है बचाव.

प्राकृतिक आपदा में हाईटेक गैजेट्स से किया जा सकता है बचाव.

हाईटेक गैजेट्स (High-tech gadgets) से प्राकृतिक आपदा के समय बचाव किया जा सकता है. वर्तमान में हमारे पास इतने हाईटेक गैजेट्स है कि हम यदि प्राकृतिक आपदा (Natural calamity) के समय इनका उपयोग करें. तो बेशक हम जानमाल के नुकसान (loss) को बहुत कम कर सकते है

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2021, 2:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्राकृतिक आपदा बिना किसी पूर्व सूचना के आती है और इससे जान माल की बड़ी तबाही होती है. यदि हम वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के आंकड़ों पर गौर करे तो 2005 से लेकर 2014 के बीच पूरी दुनिया में प्राकृतिक आपदा से करीब 7 लाख लोगों की मौत हुई है. बेशक प्राकृतिक आपदा को रोका नहीं जा सकता. लेकिन इससे बचाव जरूरत किया जा सकता है. वर्तमान में हमारे पास इतने हाईटेक गैजेट्स है कि हम यदि प्राकृतिक आपदा के समय इनका उपयोग करें. तो बेशक हम जान माल के नुकसान को बहुत कम कर सकते है. इसलिए हम आपको ऐसे ही कुछ गैजेट्स के बारे में जानकारी दे रहे है.

Unmanned Aerial Vehicle (ड्रोन) - यूएवी यानी की ड्रोन किसी भी आपदा में मानवीय सहायता की जबर्दस्त क्षमता दिखाते हैं. इस तकनीक का उपयोग करके, बचाव दल अधिक प्रभावी ढंग से आपदा का आंकलन कर सकते हैं. डिजिटल इक्विपमेंट, जिनमें इन्फ्रारेड कैमरा और एडवांस लिसनिंग सिस्टम शामिल हैं, यूएवी को मलबे या आग की लपटें और लाइव-स्ट्रीम रात के फुटेज बनाने में सक्षम बनाती हैं, जिससे महत्वपूर्ण बचाव प्रयासों की संभावना बढ़ जाती है.

यह भी पढ़ें: Facebook से डेटा शेयर करने पर WhatsApp से पैसों का लेनदेन करना बंद कर देंगे यूजर्स...!

एडवांस नेटवर्किंग सिस्टम- किसी भी देश की एडवांस नेटवर्किंग सिस्टम टेक्नोलॉजी की बाधाओं को समाप्त करती है. आपदा के समय में, बेसिक संपर्क सहायता का एक रूप है. जो लोगों को जीवित रहने के लिए जरूरी संसाधनों से जोड़ता है और बचाव दल को जीवन-रक्षक जानकारी उपलब्ध करवाता हैं.
सिस्को के टैक्टिकल ऑपरेशंस (TacOps) एडवांस टेक्नालजी का एक अच्छा  उदाहरण है, जो नवीनतम मोबाइल नेटवर्किंग तकनीक का उपयोग करते हैं. जब आपदा आती हैं, तो सिस्को टैक्टिकल टीम, जिसमें अत्यधिक कुशल इंटरनेट विशेषज्ञ शामिल हैं. जो स्वयंसेवकों के वैश्विक नेटवर्क द्वारा जुड़े होते हैं, कुछ दिनों के भीतर कहीं भी सहायता करने के लिए तैयार रहते हैं.

यह भी पढ़ें: Telegram में आया नया फीचर, यूजर्स अपने WhatsApp चैट्स को कर सकेंगे ट्रांसफर

आपातकालीन परिस्थिति के दौरान मोबाइल का उपयोग- देखा जाए तो, आज हर किसी के पास हर समय एक स्मार्ट फोन होता है, जिसका अर्थ है, जब  प्राकृतिक आपदा का जवाब देने की बात आती है तो, यह आपका फोन हैं जो सबसे उपयोगी उपकरण हैं. आपातकालीन स्थिति के दौरान जीवन को बचाने की दिशा में कई ऐप उपलब्ध हैं: चिकित्सा प्रोफेशनल को आपकी चिकित्सा आईडी प्रदान करने से लेकर आधिकारिक फेमा ऐप तक सब कुछ आपके मोबाइल में आज उपलब्ध हो सकते हैं.



आपदा से निपटने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग- आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में  में सबसे शक्तिशाली हथियार सोशल मीडिया है. फेसबुक, ट्विटर, वॉट्सऐप, इत्यादि के माध्यम से आपदा के बारे में जानकारी का प्रचार-प्रसार अधिक व्यापक रूप से किया जा सकता हैं. वास्तविक समय में क्षति का आकलन होने से लोगों में जागरूकता बढ़ाया जा सकता है और वस्तुओं को तेज़ी से, सस्ते और अधिक कुशलता से वितरित किया जा सकता हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज