Home /News /tech /

5G लॉन्च हुआ नहीं, 6G के ट्रायल की तैयारी शुरू! इस कंपनी को मिली जिम्मेदारी

5G लॉन्च हुआ नहीं, 6G के ट्रायल की तैयारी शुरू! इस कंपनी को मिली जिम्मेदारी

लोगों ने अभी तक 5G नेटवर्क का स्वाद चखा भी नहीं है कि सरकार ने 6G के ट्रायल की तैयारी शुरू कर दी है. दूरसंचार विभाग ने ट्रायल के लिए सरकारी टेलीकॉम रिसर्च कंपनी सी-डॉट को इसकी जिम्मेदारी दी है.

लोगों ने अभी तक 5G नेटवर्क का स्वाद चखा भी नहीं है कि सरकार ने 6G के ट्रायल की तैयारी शुरू कर दी है. दूरसंचार विभाग ने ट्रायल के लिए सरकारी टेलीकॉम रिसर्च कंपनी सी-डॉट को इसकी जिम्मेदारी दी है.

लोगों ने अभी तक 5G नेटवर्क का स्वाद चखा भी नहीं है कि सरकार ने 6G के ट्रायल की तैयारी शुरू कर दी है. दूरसंचार विभाग ने ट्रायल के लिए सरकारी टेलीकॉम रिसर्च कंपनी सी-डॉट को इसकी जिम्मेदारी दी है.

    नई दिल्ली. लोगों ने अभी तक 5G नेटवर्क का स्वाद चखा भी नहीं है कि सरकार ने 6G के ट्रायल की तैयारी शुरू कर दी है. दूरसंचार विभाग ने ट्रायल के लिए सरकारी टेलीकॉम रिसर्च कंपनी सी-डॉट को इसकी जिम्मेदारी दी है. जानकारी के अनुसार, विभाग ने सी-डॉट से 6जी नेटवर्क से संबंधित सभी तकनीकी संभावनाओं पर विचार करने के लिए कहा है.

    दुनियाभर की स्मार्टफोन निर्माता कंपनियां जैसे कि सैमसंग, एलजी और हुवावे पहले ही 6G टेक्नोलॉजी पर काम शुरू कर चुकी हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार 6G तकनीक में इंटरनेट की स्पीड 5जी के मुकाबले 50 गुना तक तेज हो सकती है. विशेषज्ञ कहते हैं कि 2028-30 तक दुनियाभर में 6G टेक्नोलॉजी इस्तेमाल शुरू हो जाएगा. भारत में फिलहाल 5G नेटवर्क पर ट्रायल चल रहा है और इसकी लॉन्चिंग अभी बाकी है.

    ये भी पढ़ें – Whatsapp पर खुद को ही कैसे भेजें मैसेज? बड़ी सिंपल है ये ट्रिक, जानिए

    क्यों हो रहा है ट्रायल पर काम?

    भारत में मोबाइल उपभोक्ता अभी 4G तकनीक आधारित सेवाएं ही इस्तेमाल कर रहे हैं. 5G का ट्रायल हो रहा है और अगले साल तक इसके शुरू होने की संभावनाएं भी हैं. हालांकि कोरोना की दूसरी लहर के समय कई तरह की अफवाहें थीं कि 5G के ट्रायल के चलते लोगों की मौत हो रही है. सोशल मीडिया पर इस तरह की कई चर्चाएं चल रही थीं.

    ये भी पढ़ें – सैमसंग ला रहा है सबसे सस्ता 5G स्मार्टफोन! चेक करें कीमत और बाकी फीचर्स

    जबकि 5G लॉन्च भी नहीं हुई है और ऐसा क्या है कि 6G का ट्रायल भी शुरू करने की उत्सुक्ता दिखाई गई है. सू्त्र कहते हैं कि चूंकि कई अन्य कंपनियां और अन्य देश इस पर काम शुरू कर चुके हैं तो भारत को भी करना चाहिए. टेक्नोलॉजी में पीछे रहने का मतलब दुनिया के साथ कदमताल न मिला पाना है.

    Tags: 5G Technology, Internet Speed

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर