चाहे सिम कार्ड निकाले या IMEI बदल दे, अब आसानी से मिल जाएगा चोरी हुआ फोन

अगर मोबाइल चोरी होते ही फोन से सिम कार्ड निकाल दिया जाता है या उसका आइएमईआइ नंबर बदल दिया जाता है, तब भी नई टेक्नोलॉजी से मोबाइल को ट्रेस किया जा सकेगा.

News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 7:27 AM IST
चाहे सिम कार्ड निकाले या IMEI बदल दे, अब आसानी से मिल जाएगा चोरी हुआ फोन
सरकार ने एक ऐसा कदम उठाया है जिसकी वजह से चोरी हुआ फोन आसानी से मिल जाएगा.
News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 7:27 AM IST
सरकार एक ऐसी टेक्नोलॉजी पर काम कर रही है, जिससे चोरी हुए आसानी से मिल जाएंगे. केंद्र सरकार इस नई तकनीक की शुरुआत अगले महीने अगस्त से करेगी. एक अधिकारी ने बताया कि अगर मोबाइल चोरी होते ही फोन से सिम कार्ड निकाल दिया जाता है या उसका आइएमईआइ नंबर बदल दिया जाता है, तब भी नई टेक्नोलॉजी से मोबाइल को ट्रेस किया जा सकेगा.

इसके लिए दूरसंचार विभाग ने देश के सभी मोबाइल फोन्स का डेटाबेस तैयार किया है जिसे सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेंटिटी रजिस्टर का नाम दिया गया है. इसमें देश के सभी मोबाइल फोन्स का IMEI नंबर रेजिस्टर किया गया है. अगर आपका फोन चोरी हो जाता है तो पुलिस में शिकायत करने के बाद यहां से आपका फोन ब्लॉक कर दिया जाएगा, फिर वह किसी भी ऑपरेटर के नेटवर्क पर काम नहीं करेगा. इस डेटाबेस की वजह से पुलिस को भी यह फोन ढंढ़ने में आसानी हो जाएगी. देश में कहीं भी इसका इस्तेमाल किया जा रहा हो पुलिस आसानी से इसे खोज निकालेगी. (ये भी पढ़ें- हैकर्स ने 3 दिन में उड़ाए यूज़र्स के 4 करोड़ रुपये! बंद की गई ये मोबाइल पेमेंट ऐप)

गुम या चोरी हुए मोबाइल फोन से सिम कार्ड निकाले जाने या उसका आइएमईआइ नंबर बदल दिए जाने के बावजूद सीईआइआर(CEIR) मोबाइल फोन की सारी सुविधा ब्लॉक कर देगा, चाहे भले ही वह डिवाइस किसी भी नेटवर्क पर चलाया जा रहा हो.



सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (C-DoT) ने टेक्नोलॉजी तैयार कर ली है. दूरसंचार विभाग (डीओटी) के अधिकारी ने कहा कि संसद का सत्र खत्म होने के बाद दूरसंचार विभाग इस टेक्नोलॉजी को लॉन्च करने के लिए मंत्री से संपर्क करेगा. संसद का चालू सत्र 26 जुलाई को समाप्त होगा, इसलिए उम्मीद है कि देशभर में इसे अगस्त में लॉन्च कर दिया जाएगा. (ये भी पढ़ें- नकली खाना तो नहीं खा रहे हैं आप! अपने फोन से ऐसे करें चेक)

IMEI बदलने पर होगी सज़ा
सबसे पहले इसका ट्रायल महाराष्ट्र सर्किल में किया गया, जहां यह काफी सफल रहा. इसे देखते हुए दूरसंचार अब इसे पूरे देश में लागू करने पर विचार किया गया है. इसके अलावा सरकार ने फोन का IMEI बदलने पर तीन साल की सज़ा का प्रावधान भी कर रखा है. इसके बावजूद अगर कोई फोन का IMEI बदलता है तो उसे भी ब्लॉक कर दिया जाएगा. कुल मिलाकर किसी भी हालत में चोरी किए हुए फोन को शिकायत दर्ज करने के बाद यूज़ नहीं किया जा सकेगा.
First published: July 17, 2019, 7:26 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...