भारतीयों की इस आदत से चकरा जाता है Alexa का दिमाग, पूछते हैं कुछ ऐसे सवाल

एलेक्सा के लिए भारत की विविधता परेशानी बन जाती है, जो कि लोगों के सवाल पूछने पर उसे कंफ्यूज़ कर देता है. जानें कैसे सवाल पूछते हैं भारतीय...

News18Hindi
Updated: June 24, 2019, 7:42 AM IST
भारतीयों की इस आदत से चकरा जाता है Alexa का दिमाग, पूछते हैं कुछ ऐसे सवाल
एलेक्सा के लिए भारत की विविधता परेशानी बन जाती है, जो कि लोगों के सवाल पूछने पर उसे कंफ्यूज़ कर देता है. जानें कैसे सवाल पूछते हैं भारतीय...
News18Hindi
Updated: June 24, 2019, 7:42 AM IST
भारत में वर्चुअल असिस्टेंट का ट्रेंड बहुत बढ़ गया है. फोन से लेकर कार और घर के कई काम वर्चुअल असिस्टेंट के ज़रिए कमांड देकर कराए जा सकते हैं. इसी कड़ी में Alexa की बात करें तो मौजूदा समय में AI से लैस ये एक पॉपुलर वर्चुअल असिस्टेंट डिवाइस बन गया है. अमेज़न एलेक्सा के वाइस प्रेसिडेंट और हेड साइंटिस्ट रोहित प्रसाद ने Alexa को लेकर कुछ इंट्रेस्टिंग बातें बताई है. टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में रोहित प्रसाद ने कहा कि एलेक्सा भारत जैसे विविधता से भरे देश के लिए कई अवसर प्रदान करता है. भारत जैसे देश में जहां सभी लोग लिखना नहीं जानते, ऐसे में एलेक्सा जैसी टेक्नोलॉजी उन्हें बोलकर काम करवाने की सुविधा देती है.

पूछे जानें पर कि एलेक्सा का प्राइमरी गोल क्या है, रोहित प्रसाद ने बताया कि ये लोगों को एक दूसरे को जोड़ने पर फोकस करता है. उदाहरण के तौर पर अगर आप किसी नए शहर जाते हैं तो पल्मबर या फिर इलेक्ट्रिशियन को ढूंढना मुश्किल होता है. ऐसे में Alexa ऐप्स, सर्विसेज़ से लोगों को कनेक्ट करने में मदद करती है. मगर भारत जैसे देश में एक चीज़ को लेकर एलेक्सा को थोड़ी परेशानी का सामना करना पड़ता है.  (ये भी पढ़ें- Jio के 200 रुपये से भी कम के प्लान में पाएं पूरा महीना सबकुछ मुफ्त, मिलेगा कई सर्विसेज़ का फायदा)

Amazon Alexa


भारत एक ऐसा देश है, जहां कई भाषाएं बोली जाती हैं और यही Alexa के लिए बड़ा चैलेंज है. हालांकि एलेक्सा 14 भाषाओं को सपोर्ट करता है, मगर फिर भी इसके सामने कई बार दिक्कत आती है. एलेक्सा के लिए भाषाओं से ज़्यादा भारत का कल्चर परेशानी बन जाता है, जो कि लोगों के सवाल पूछने पर उसे कंफ्यूज़ कर देता है. (ये भी पढ़ें- 13 हज़ार रुपये से ज़्यादा की छूट पर खरीदें 3 स्टार AC, EMI पर भी ला सकते हैं घर)

रोहित ने विस्तार से बताया कि भारत में लोग ‘Hinglish’ का ज़्यादा इस्तेमाल करते हैं. जैसे, जब लोग पूछते हैं ‘एलेक्सा, आज वेदर कैसा है.’ या फिर ‘एलेक्सा, ऐड नमक, मिर्च टू माई शॉपिंग लिस्ट’. तो एलेक्सा को इसमें दो भाषाओं को प्रोसेस करना पड़ता है. हम भारतीयों में हर नाम के आगे 'जी' लगाने की आदत होती है, जिसे समझना-बूझना एलेक्सा के लिए खासी मशक्कत का काम साबित होता है. कोई चुटकुला किसी एक वर्ग के लिए मजेदार होता है तो किसी दूसरे के लिए अपमानजनक भी हो सकती है. विविधताओं से भरे भारत में एलेक्सा जैसी टेक्नोलॉजी के लिए यह एक बड़ी मुश्किल है, जिस पर हम काम कर रहे हैं.

- WhatApp वीडियोज़ के लिए आया नया फीचर, जानें कैसे आपके लिए है फायदेमंद
-
WhatsApp पर बिना Delete किए छुपाएं अपनी हर Private Chat, ये है तरीका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गैजेट्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 24, 2019, 7:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...