लाइव टीवी

राजधानी में रेलवे ने लगाई ये खास मशीन, प्लास्टिक कचरे को रोकने में मिलेगी मदद

News18Hindi
Updated: September 20, 2019, 8:54 AM IST
राजधानी में रेलवे ने लगाई ये खास मशीन, प्लास्टिक कचरे को रोकने में मिलेगी मदद
रेलवे (Railway) नियम बनाने वाली है कि ट्रेन के भीतर चाय, स्नैक्स या खाना कुल्हड़ या मिट्टी के बर्तनों में मिले.

इंडियन रेलवे (Indian Railway) ने यह कदम सिंगल यूज़ प्लास्टिक (Single Use Plastic) को बैन करने के बाद और गो ग्रीन मिशन (Go Green Mission) व स्वच्छ भारत अभियान (Clean India Mission, Swachchh Bharat Abhiyan) के तहत उठाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2019, 8:54 AM IST
  • Share this:
वेस्टर्न रेलवे (Western Railway) ने पहली बार मुंबई राजधानी एक्सप्रेस (Mumbai Rajdhani Express) में polyethylene terephthalate (PET) यानी प्लास्टिक की बॉटल (Plastic Bottle)को क्रश करने की मशीन लगाई है. इसकी वजह से अब आपको सफर करते वक्त बॉटल को इधर-उधर फेंकने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी. यह मशीन हर रोज़ लगभग 3000 बॉटल को क्रश कर सकेगी. बता दें कि इंडियन रेलवे (Indian Railway) ने यह कदम सिंगल यूज़ प्लास्टिक (Single Use Plastic) को बैन करने के बाद और गो ग्रीन मिशन (Go Green Mission) व स्वच्छ भारत अभियान (Clean India Mission, Swachchh Bharat Abhiyan) के तहत उठाया है.

प्लास्टिक कचरे को कम करने की कोशिश-
यह मशीन हर दिन न सिर्फ 3000 बोतलें क्रश कर सकती है बल्कि 90 पॉलिइथलीन टेरप्थलेट (PET) बोतलें रीसाइकल भी कर सकती है. इसमें 200 मिलीलीटर से लेकर 2.5 लीटर तक की बोतलें क्रश की जा सकती हैं. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि इस कदम से प्लास्टिक से फैलने वाले कचरे को कम किया जा सकेगा और कार्बन फुटप्रिंट (Carbon Footprint) को भी कम किया जा सकेगा.


Loading...

रेलवे ने बनाए हैं सेल्फी प्वाइंट्स-
यही नहीं प्लास्टिक बैन के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए रेलवे ने अंधेरी (Andheri) और चर्चगेट (Churchgate) स्टेशनों पर सेल्फी प्वाइंट्स भी बनाए हैं.



कुल्हड़ में मिलेगी चाय-
इसके अलावा प्लास्टिक से फैलने वाले प्रदूषण (Plastic Pollution) को कम करने के लिए रेलवे जल्द ही कानून लाने वाली है जिसके तहत ट्रेन के भीतर आपको सिर्फ कुल्हड़ में चाय मिलेगी. खाना और स्नैक्स भी दूसरे मिट्टी के बने बर्तनों में दिए जाएंगे. एक रिपोर्ट के अनुसार खादी एवं ग्रामीण उद्योग आयोग (Khadi and Village Industries Commission, KVIC) इसके लिए बिजली से चलने वाले चाक (electric potter wheels)और यूज़ किए जा चुके मिट्टी के बर्तनों को फिर से उपयोग करने के लिए क्रश करने वाली ग्राइंडिंग मशीन (Grinding Machine) भी उपलब्ध कराएगा.

पीएम मोदी (PM Modi) ने की थी अपील-
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के मौके पर लाल किले (Red Fort) से दिए गए भाषण में देश के लोगों से प्लास्टिक के थैले (Plastic Bags) का उपयोग बंद करने का आग्रह किया था. उन्होंने आग्रह किया था कि देश के लोग सिंगल यूज़ वाले प्लास्टिक का इस्तेमाल दो अक्टूबर 2019 से पूरी तरह से बंद कर दें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गैजेट्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 20, 2019, 8:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...