ओला पर कर्नाटक में छह महीने का बैन, कंपनी ने कहा- आदेश दुर्भाग्‍यजनक

आधिकारिक ऑर्डर के अनुसार लाइसेंस को इसलिए कैंसिल किया गया है क्योंकि Ola कैब ने बिना परमिट के टू-व्हीलर सर्विस की शुरुआत कर दी थी.

News18Hindi
Updated: March 22, 2019, 9:59 PM IST
ओला पर कर्नाटक में छह महीने का बैन, कंपनी ने कहा- आदेश दुर्भाग्‍यजनक
आधिकारिक ऑर्डर के अनुसार लाइसेंस को इसलिए कैंसिल किया गया है क्योंकि Ola कैब ने बिना परमिट के टू-व्हीलर सर्विस की शुरुआत कर दी थी.
News18Hindi
Updated: March 22, 2019, 9:59 PM IST
शरत शर्मा कलागारु

कर्नाटक ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने Ola कैब के लाइसेंस रद्द करने का आदेश दिया है. शुक्रवार को ट्रासपोर्ट डिपार्टमेंट के एक सूत्र ने न्यूज18 को बताया कि डिपार्टमेंट ने अगले छह महीने के लिए पूरे राज्य में ओला कैब पर बैन लगाने का आदेश दिया है. इस ऑर्डर की एक कॉपी न्यूज़18 के पास है.



ट्रासपोर्ट डिपार्टमेंट के एक अधिकारी ने कहा कि ''उन्होंने ट्रांसपोर्टेशन टेक्नोलॉजी एग्रीगेटर्स रूल्स (2016) का उल्लंघन किया है, इसलिए हमने लाइसेंस रद्द करने का फैसला किया है.'' वहीं कंपनी ने इस आदेश को दुर्भाग्‍यजनक बताया है और कहा कि वे सभी उपायों पर विचार कर रहे.

ये भी पढ़ेंः Facebook में ऐसे बदलें पासवर्ड और खुद को रखें सुरक्षित

आधिकारिक ऑर्डर के अनुसार लाइसेंस को इसलिए कैंसिल किया गया है क्योंकि Ola कैब ने टू-व्हीलर सर्विस की शुरुआत कर दी थी. लेकिन उन्हें मोटरबाइक सर्विस को चलाने का परमिट नहीं मिला था. दिए गए ऑर्डर में लिखा है, 'हमें इस बात की जानकारी मिली है कि ओला ने मोटरबाइक सर्विस की शुरुआत की है. इस बात की जानकारी मिलने पर हमने इसकी जांच की और पाया कि ओला गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल है. पहले इसको लेकर एक Ani Technologies Pvt Ltd (Ola) को एक नोटिस जारी किया जा चुका और इस पर एक हफ्ते के भीतर जवाब देने को कहा है.''

ये भी पढ़ेंः फेसबुक कर्मचारी देख सकते थे 60 करोड़ यूजर्स के पासवर्ड, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

ओला के अधिकारियों ने इस पर लिखित में जवाब दे दिया है लेकिन ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट के अधिकारियों को यह जवाब संतोषजनक नहीं लगे. इसको लेकर ऑर्डर में लिखा गया है कि, “स्पष्टीकरण पर्याप्त नहीं था, इसलिए विभाग कार्रवाई शुरू कर रहा है और परमिट को रद्द कर रहा है. अगले छह महीने के लिए ओला कैब्स को कर्नाटक की सड़कों पर चलने के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है और इस आदेश के तीन दिनों के भीतर मूल अनुमति पत्र परिवहन विभाग को सौंप दिए जाने चाहिए,”
Loading...

ओला ने अपने बयान में कहा है कि इस मामले को लेकर हम सरकारी अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. संबंधित मंत्रालायों के सभी सवालों का जवाब दे रहे हैं. अन्य कंपनियों द्वारा अवैध रूप से काम करना जारी रखने के बावजूद, ओला ने एक हफ्ते पहले बाइक टैक्सी प्रयोग को रोक दिया.

ये भी पढ़ें: पांच तरीके जो आपके Facebook अकाउंट को रखेंगे सिक्योर

ओला की शुरुआत 2010 में सबसे पहले मुंबई में हुई और उसके बाद इसके हेड ऑफिस को बेंगलुरु में रिलोकेट कर दिया जाएगा. कर्नाटक में इस समय लगभग 10 हजार ओला कैब्स है जो बेंगलुरु को छोड़कर मैसूर, मंगलोर, हुबली में सर्विस दे रही हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...