होम /न्यूज /तकनीक /UPI और नेट बैंकिंग के जरिए डिजिटल पेमेंट करते समय ध्यान रखें ये 5 बातें, नहीं होगी कोई परेशानी

UPI और नेट बैंकिंग के जरिए डिजिटल पेमेंट करते समय ध्यान रखें ये 5 बातें, नहीं होगी कोई परेशानी

पैसे भेजने या लेने से पहले UPI आईडी वेरीफाई कर लें. साथ ही पैसे भेजते समय, रिसीवर की यूपीआई आईडी और फोन नंबर की दोबारा जांच कर लें. (सांकेतिक फोटो)

पैसे भेजने या लेने से पहले UPI आईडी वेरीफाई कर लें. साथ ही पैसे भेजते समय, रिसीवर की यूपीआई आईडी और फोन नंबर की दोबारा जांच कर लें. (सांकेतिक फोटो)

साइबर ठगी से आपको बचना है तो अपने चार या छह अंकों का UPI पिन या अपना नेट बैंकिंग का पासवर्ड किसी के साथ शेयर न करें. नह ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    हाइलाइट्स

    पैसे भेजने या लेने से पहले UPI आईडी वेरीफाई जरूर कर लें.
    किसी भी लिंक पर क्लीक नहीं करें.
    UPI पिन और अन्य बैंकिंग डिटेल्स कभी किसी को शेयर न करें.

    नई दिल्ली. अब जमाना डिजिटल का हो गया है. लोग घर बैठे- बैठे ही डिजिटल माध्यम से बैंक से पैसे निकालते हैं और टिकट भी बुक करते हैं. खास बात यह है कि इसके लिए आमतौर पर लोग UPI या नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं. क्योंकि नेट बैंकिंग और UPI के माध्यम से पैसा भेजना सबसे आसान और तेज तरीका है. सिर्फ यही नहीं इन तरीकों के माध्यम से लोग पैसे ट्रांसफर या प्राप्त भी करते हैं.  ऐसे में UPI और नेट बैंकिंग ने हमारी लाइफ काफी आसान कर दी है, जिससे समय की भी काफी बचत होती है. जबकि ऑनलाइन पेमेंट करते समय ठगे जाने का डर हमेशा बना रहता है. ऐसे में UPI  या नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते समय खुद को सुरक्षित रखने के लिए 5 बातें बताई गई हैं, जिन्हें आप ध्यान में रखेंगे तो आप किसी तरह के साइबर ठगी का शिकार नहीं होंगे.

    UPI पिन/नेट बैंकिंग पासवर्ड किसी के साथ साझा न करें
    साइबर ठगी से आपको बचना है तो अपने चार या छह अंकों का UPI पिन या अपना नेट बैंकिंग का पासवर्ड किसी के साथ शेयर न करें. नहीं तो पासवर्ड लीक होने पर कोई भी आपके अकाउंट से पैसा निकाल सकता है. साथ ही इस बात पर भी ध्यान देना होगा कि यदि कोई खुद को बैंक का कर्मचारी बताकर आपको फोन करे और आपसे ATM पिन, OTP और पासवर्ड सहित आपके बैंक अकाउंट के डिटेल्स मांगे तो कभी कोई जानकारी शेयर न करें. दरअसल, ये ऐसे कॉल बैंक कर्मचारी नहीं साइबर ठग करते हैं. ऐसे में आप जानकारी शेयर करते ही साइबर ठगी का शिकार बन सकते हैं.

    ये भी पढ़ें- Amazon पर मिल रहा है ₹5,000 जीतने का मौका, बस देना होगा 5 आसान सवालों का जवाब  

    किसी भी प्रकार के लिंक पर क्लिक न करें
    आए दिन लोगों को मेल और वॉट्सऐप पर आकर्षक ऑफर मिलते हैं, खासकर त्योहारों के मौसम में. इस तरह के लिंक आपको ‘पुरस्कार’ या ‘कैशबैक’ प्राप्त करने के लिए अपना UPI पिन और अन्य बैंकिंग डिटेल्स शेयर करने के लिए कहते हैं. इसलिए ऐसे लिंक्स से सावधान रहना चाहिए और उन्हें नहीं खोलना चाहिए. ऐसे लिंक पर क्लिक करते ही आपके साथ फ्रॉड हो सकता है.

    अपने मोबाइल को सुरक्षित रखें
    आजकल लोग ज्यादातर डिजिटल बैंकिंग का काम मोबाइल से ही करते हैं. ऐसे में अपने मोबाइल को हमेशा लॉक रखें. खासकर यदि आप किसी नए स्थान पर हैं, जहां आप बहुत से लोगों को नहीं जानते हैं. क्योंकि मोबाइल में बैंकिंग और पेमेंट ऐप के अलावा कई ऐसे ऐप्स होते हैं जिसके माध्यम से साइबर स्कैमर्स आपके आवश्यक डेटा को चोरी कर सकते हैं. बता दें कि ईमेल या डिजिलॉकर ऐसे ऐप हैं जिनमें आपकी सभी महत्वपूर्ण जानकारियां होती हैं. यदि आप चाहते हैं कि आपकी पर्सनल जानकारियां लीक न हों इसीलिए, अपने फोन को हर समय लॉक कर के रखें.

    वेबसाइट सिक्योरिटी पर भी रखें ध्यान
    कई बार किसी नई या अनजानी वेबसाइट से खरीदारी करने से भी धोखाधड़ी हो सकती है. जैसे कि आप कभी- कभी कोई बेशकीमती आइटम खरीदने के लिए ऐसी नई वेबसाइट पर चले जाते हैं, जिसके बारे में आपने कभी सुना तक नहीं है. ऐसे में यहां पर आपके साथ ठगी भी हो सकती है. क्योंकि मार्केट में ऐसे कई नई- नई वेबसाइट हैं, जहां पर यूजर्स को ठगा जा रहा है. ऐसे में इस तरह के अननोन वेबसाइट पर पेमेंट करने के लिए पासवर्ड और बैंकिंग आईडी डालते ही आपकी बैंकिंग से जुड़ी सारी जानकारियां लीक हो जाएंगी और आप ठगी का शिकार हो जाएंगे.

    ये भी पढ़ें- Flipkart सेल में iPhone 13 पर ₹20,000 तक का भारी डिस्काउंट, ये मॉडल्स भी हुए सस्ते, जानिए डिटेल 

    पैसा भेजने से पहले वेरीफाई करें UPI आईडी 
    पैसे भेजने या लेने से पहले UPI आईडी वेरीफाई कर लें. साथ ही पैसे भेजते समय, रिसीवर की यूपीआई आईडी और फोन नंबर की दोबारा जांच कर लें, नहीं तो गलती से दूसरे व्यक्ति के अकाउंट में भी पैसा ट्रासफर हो सकता है. बता दें कि UPI के माध्यम से पैसे भेजते हैं, तो इसे वापस पाने का कोई तरीका नहीं है, जब तक कि रिसीवर इसे वापस देने के लिए सहमत न हो. ऐसे में आप पैसे लेते समय यह सुनिश्चित करें कि आपने सही UPI आईडी शेयर की है.

    Tags: Net banking, Tech news, Tech news hindi, Upi

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें