बुलबुल
3.5/5
पर्दे पर:24 जून
डायरेक्टर : अन्विता दत्त
संगीत : अमित त्रिवेदी
कलाकार : तृप्ति डिमरी, अविनाश तिवारी, राहुल बोस, पाओली दाम, परमब्रत चट्टोपाध्याय
शैली : हॉरर
यूजर रेटिंग :
0/5
Rate this movie

Bulbbul Review: उल्टे पैर वाली चुडैल की सच्चाई जानकर सांसें थम जाएंगी, बाकियों से अलग है ये हॉरर फिल्म!

बुलबुल रिव्यू (Photo Credit- tripti_dimri
/Instagram)
बुलबुल रिव्यू (Photo Credit- tripti_dimri /Instagram)

अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma) और अनविता दत्त (Anvita dutt) 'बुलबुल' (Bulbbul) के तौर पर एक ऐसी कहानी लेकर आई हैं जो लोक कथाओं में आज की सच्चाई जोड़ती है.

  • Share this:
मुंबई. आपने कभी न कभी तो उस चुडैल की कहानी सुनी होगी.. जिसके पैर उल्टे होते हैं...वो लंबे बाल रखती है... वो अंधेरे रास्तों में लोगों को अपना शिकार बनाती है. उनका खून पी जाती है... अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma Production) का प्रोडक्शन और अनविता दत्त (Anvita Dutt) का निर्देशन 'बुलबुल' (Bulbbul Review) के साथ कुछ ऐसी ही चुडैल की कहानी लेकर आया है. नेटफ्लिक्स (Netflix) पर रिलीज हुई ये हॉरर स्टोरी बाकी फिल्मों से काफी अलग है. ये कहानी पुरानी लोक कथाओं और आज की सच्चाई के साथ पेश की गई है. फिल्म में चुडैल से ज्यादा डरावनी है उसकी सच्चाई... अगर कहें कि फिल्म के असली हॉरर सीन्स चुडैल ने नहीं बल्कि राहुल बोस (Rahul Bose) ने किए हैं तो गलत नहीं होगा.

प्लॉट की बात करें तो 'बुलबुल' की कहानी 1881 में बंगाल के गांव की एक छोटी सी बच्ची बुलबुल (तृप्ति दिमित्री) की शादी से शुरू होती है. इस बच्ची को ससुराल जाने के रास्ते में उसका हमउम्र देवर सत्या (अविनाश तिवारी) एक चुडैल की कहानी सुनाई जाती है, जो फिल्म का आधार रखती है. बुलबुल का पति है इंद्रनील (राहुल बोस), जिसे बुलबुल 'ठाकुर मोशाय' बुलाती है. छोटी बुलबुल को 'ठाकुल मोशाय' की पत्नी होने के कारण घर में बड़ी बहू कहा जाता है. घर की छोटी बहू है बिनोदिनी (पाओली दाम). इन किरदारों को बीच रची जाती है 'बुलबुल' की कहानी.

(Photo Credit- rahulbose7/Instagram)




फिल्म में कई खास बातें हैं- अनुष्का शर्मा के प्रोडक्शन में बनी इस फिल्म को लिखा और निर्देशित किया है अनविता दत्त ने. फिल्म में हर किरदार को खूबसूरती से गढ़ने के लिए उनकी जितनी तारीफ करें, कम है. भूत-प्रेतों और चुडैलों की कहानी को आज की डरा देने वाली सच्चाई के साथ अनविता इस तरह जोड़ती हैं कि आप लगभग डेढ़ घंटे के लिए सीट से चिपककर फिल्म देखते रह जाते हैं.
फिल्म की एक और खास बात है और वो है इसकी सिनेमैटोग्राफी... सिद्धार्थ दीवान के कैमरे ने कमाल कर दिया है. इस फिल्म में इस्तेमाल किए गए रंग अलग ही कहानी कहते हैं. चाहे वो लाल चांद हो या फिर घने-डरावने जंगल में बैंगनी रंग की रोशन. पेड़ों से छलांग लगाती उल्टे पैर वाली चुड़ैल की काली परछाई... फिल्म में हर रंग को बेहद खूबसूरती से इस्तेमाल किया गया है. फिल्म के बैकग्राउंड में चलता अमित त्रिवेदी का म्यूजिक हर सीन में जान डाल देता है.



(Photo Credit- paoli_dam/Instagram)'बुलबुल' कोई टिपिकल हॉरर फिल्म नहीं है.. इस फिल्म में चुडैलों से जुड़ी लोक कथाओं का इस्तेमाल किया गया है लेकिन इसमें डरावनी चुड़ैल नहीं है बल्कि इस फिल्म के पुरुष किरदार हैं. इस फिल्म में महिलाओं के किरदार और उनके साथ हुई समाज की नाइंसाफी ना सिर्फ आपको हैरानी में डालेंगे बल्कि फिल्म के बाद भी आपको याद रह जाएंगे.

बात करें परफॉर्मेंसेस की तो इसकी लीड एक्ट्रेस यानी तृप्ती दिमित्री ने बड़ी बहू के रोल से लेकर अपने किरदार के हर इमोशन को इतनी खूबसूरती से दिखाया है कि इसे उनके करियर की सबसे बेहतरीन परफॉर्मेंस कहें तो गलत नहीं होगा. वहीं 'ठाकुर मोशाय' के किरदार में अभिनेता राहुल बोस आपको चौंका देंगे. फिल्म के बारे में ज्यादा खुलासा नहीं करते हुए आखिर में हम आपको एक बेहद अहम बात बता देते हैं. इस फिल्म में सबसे बड़ा सरप्राइज लेकर आए अभिनेता राहुल बोस.

(Photo Credit- tripti_dimri
/Instagram)


इसके अलावा तारीफ के काबिल परफॉर्मेंस है एक्ट्रेस पाओली दाम की. छोटी बहू के किरदार से लेकर अपने जबरदस्त ट्रांस्फॉर्मेशन तक उन्होंने हर सीन को बेहद खूबसूरती से निभाया. फिल्म में सत्या के किरदार में एक्टर अविनाश तिवारी और डॉक्टर सुदीप के रोल में अभिनेता परमब्रत चट्टोपाध्याय ने भी शानदार परफॉर्मेंसेस दी है. परमब्रत ने छोटे से रोल के बावजूद यादगार परफॉर्मेंस दी है.

बात करें फिल्म के वीक प्वाइंट की तो इसमें कई झंकझोर कर रख देने सीन हैं लेकिन इस फिल्म में सस्पेंस नहीं है. ये फिल्म आपको शानदार क्लाइमैक्स का वादा करती तो दिखेगी लेकिन क्लाइमैक्स सरप्राइज नहीं कर पाएगा. आपको थोड़ी देर फिल्म देखते हुए ही समझ आ जाएगा कि इसमें कौन सा किरदार क्या रुख लेने वाला है. हालांकि कई झकझोर कर रख देने वाले सीन्स और इसका टू द प्वाइंट निर्देशन आपको स्क्रीन से हटने नहीं देता है.

ऐसे में कुल मिलाकर हमारी राय है कि आप ये फिल्म जरूर देखिए क्योंकि इस हॉरर फिल्म में अपना टाइम इनवेस्ट करके आप बिल्कुल पछताएंगे नहीं. हमारी तरफ से बुलबुल को 3.5 स्टार्स.

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी :
3.5/5
स्क्रिनप्ल :
4/5
डायरेक्शन :
4/5
संगीत :
3.5/5
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज