Xiaomi India ने दिया बड़ा बयान! कहा- बायकॉट चाइनीज प्रोडक्ट सिर्फ सोशल मीडिया पर ही आएगा नजर

स्मार्टफोन की लगातार बढ़ रही मांग
स्मार्टफोन की लगातार बढ़ रही मांग

स्मार्टफोन निर्माता कंपनी शाओमी इंडिया (Xiaomi India ) हेड मनु कुमार जैन ने कहा कि का चाइना विरोधी भावनाएं सिर्फ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म तक की सीमित हैं. इससे कंपनी के कारोबार पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत और चीन सीमा पर हुए तनाव और भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद देशभर में लोग चाइनीज़ प्रॉडक्ट्स (Chinese Product) और घरेलू उत्पाद को बढ़ावा देने की मांग कर रहे हैं. केंद्र सरकार भी चीन से आयात होने वाले सामान पर शिकंजा कसने के लिए सस्ती और घटिया आइटम की लिस्ट तैयार कर रहा है. भारत में चीनी कंपनियों के विरोध के बीच चीन की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी शाओमी इंडिया (Xiaomi India) मनु कुमार जैन ने कहा कि का चाइना विरोधी भावनाएं सिर्फ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म तक की सीमित हैं. इससे कंपनी के कारोबार पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

50,000 लोगों को रोजगार देने की कही बात- शाओमी इंडिया के चीफ मनु कुमार जैन ने CNBC-TV18 को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि शाओमी का मोबाइल फोन R&D सेंटर व प्रॉडक्ट टीम भारत में ही है और कंपनी ने भारत में 50,000 लोगों को दिया है. साथ ही जैन ने बिक्री के मामले में शाओमी को देश की नंबर 1 कंपनी बताया है. उन्होंने कहा कि शाओमी का मोबाइल फोन R&D सेंटर व प्रॉडक्ट टीम भारत में ही है और इन प्रोडक्टों के लिए करीब 65 फीसदी कलपुर्जे भारत में बनाए जाते हैं.


कारोबार पर नहीं पड़ेगा असर- मनु जैन ने कहा कि भारत और चीन के बीच तनाव का कंपनी के भारतीय कारोबार पर असर नहीं पड़ेगा. बायकॉट चाइनीज प्रोडक्ट सिर्फ सोशल मीडिया पर ही रहेगा लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं है. इसे कंज्यूमर प्रभावित नहीं होगा. इंटरव्यू में उन्होंने कहा है कि अमेरिकन स्मार्टफोन ब्रैंड्स भी फोन के कंपोनेंट्स चीन से मंगाते हैं और ऐसा ही कुछ भारतीय कंपनियां भी कर रही हैं.



कुछ दिन पहले ही चीन की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी के वनप्लस के लॉन्च के कुछ ही मिनटों में सारे यूनिट बिक गए थे. Amazon.com पर इसकी सेल के स्टार्ट होते ही कुछ ही मिनटों में ये फोन आउट ऑफ स्टॉक हो गया. एक तरह से ये भारत के लिए गंभीर विषय भी है. क्योंकि एक जहां और चाइनीज प्रोडक्ट के इस्तेमाल को कम करने के लिए कैम्पन चलाया जा रहा है वहीं दूसरी तरफ चाइनीज फोन की ये बढ़ती मांग.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज