इंटरनेट एक्सप्लोरर बंद करने जा रहा है Microsoft, अब Edge का करें यूज

माइक्रोसॉफ्ट टीम
माइक्रोसॉफ्ट टीम

दिग्गज टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) इंटरनेट एक्सप्लोरर को बंद करने पर काम कर रहा है. कंपनी पुराने इंटरनेट एक्सप्लोरर को बदलने के लिए अपने क्रोमियम-आधारित एज ब्राउजर पर जोर दे रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2020, 10:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिग्गज टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) इंटरनेट एक्सप्लोरर को बंद करने पर काम कर रहा है. कंपनी पुराने इंटरनेट एक्सप्लोरर को बदलने के लिए अपने क्रोमियम-आधारित एज ब्राउजर पर जोर दे रही है. पिछले हफ्ते, माइक्रोसॉफ्ट ने घोषणा की थी कि वह इंटरनेट एक्सप्लोरर यूजर्स को एज (Edge) पर रिडायरेक्ट करना शुरू कर देगा और वेबसाइट की एक सूची जारी करेगा जो उपयोगकर्ताओं को एज (Edge) पर रिडायरेक्ट करेगा. उन वेबसाइटों में माइक्रोसॉफ्ट टीम एक प्रमुख स्थान लेती है. यह देखते हुए कि इंटरनेट एक्सप्लोरर अभी भी कुल वेब ट्रैफिक का लगभग 5 प्रतिशत रखता है, काफी लोग क्रोमियम आधारित एज ब्राउजर पर रिडायरेक्ट होने से हैरान होंगे.

ये भी पढ़ें- Micromax ने की दमदार वापसी, लॉन्च किए दो बेहद सस्ते 4 कैमरे वाले स्मार्टफोन, मिलेगी 5000mAh की बैटरी

अब एज ब्राउजर का करें उपयोग
माइक्रोसॉफ्ट ने अगस्त में कहा था कि 30 नवंबर से इंटरनेट एक्सप्लोरर टीम को सपोर्ट करना बंद कर देगा. इसके अलावा कंपनी ने पिछले महीने यह भी बताया था कि यूट्यूब, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, गूगल के कई प्रोडक्ट, माइक्रोसॉफ्ट टीम आदि इंटरनेट एक्सप्लोरर से एज पर रिडायरेक्ट हो जाएंगे. यह बदलाव माइक्रोसॉफ्ट एज के वर्जन 87 में होगा. यह नवंबर के तीसरे हफ्ते में आने वाला है. माइक्रोसॉफ्ट की योजना है कि माइक्रोसॉफ्ट वंडोज कंप्यूटर को एज में लगभग 1,156 वेबसाइटों को स्वचालित रूप से लॉन्च किया जाए.
ये भी पढ़ें- बेहद सस्ते में खरीदें 7000mAh की बैटरी वाला Samsung का दमदार स्मार्टफोन, मिलेंगे 4 कैमरे



इस समय कई विंडोज पीसी में कई इंटरनेट एक्सप्लोरर 11 मौजूद है. मगर ब्राउजर विंडोज 10 से मुश्किल से कोई नया फीचर या सॉफ्टवेयर अपडेट लेता है. माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि एक्सप्लोरर 11 से माइक्रोसॉफ्ट एज में वेबसाइटों का रिडायरेक्शन इंटरनेट एक्सप्लोरर ब्राउजर हेल्पर ओब्जेक्ट से होगा जिसका नाम IEtoEdge BHO है. यदि IE11 पर कोई वेबसाइट (ट्विटर या फेसबुक) ब्राउजर के साथ असंगत पाई जाती है, तो BHO कोडिंग स्वचालित रूप से यूजर्स को क्रोमियम-आधारित एज पर रिडायरेक्ट कर देगी और इस दौरान ब्राउजर के इनकम्पैटिबिलिटी का एक टेक्स्ट दिखाई देगा. इंटरनेट एक्सप्लोरर को बंद करने की माइक्रोसॉफ्ट की योजना पहले से थी लेकिन अब इस पर काम तेजी से होना शुरू हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज