NASA: अब चांद पर भी दौड़ेगा 4G नेटवर्क, मिलेगा हाईस्पीड इंटरनेट, 2024 तक...

NASA और Nokia मिल कर चांद पर 4G LTE कनेक्टिविटी पहुंचाएंगे.
NASA और Nokia मिल कर चांद पर 4G LTE कनेक्टिविटी पहुंचाएंगे.

नासा का लक्ष्य 2024 तक मनुष्यों को चंद्रमा पर ले जाने का है. बता दें नेटवर्क अंतरिक्ष यात्रियों को वॉयस-वीडियो कम्युनिकेशन की सुविधा देगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2020, 9:30 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: अब जल्द ही चांद पर हाई स्पीड इंटरनेट की सुविधा मिलने वाली है. अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA और Nokia मिल कर चांद पर 4G LTE कनेक्टिविटी पहुंचाएंगे. इसके बाद उसे 5G में अपग्रेड किया जाएगा. नासा की तरफ से इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने के लिए नोकिया को USD 14.1 मिलियन का फंड मुहैया कराया जाएगा. बता दें कि NASA Artemin Program के तहत 2024 तक चांद पर मैन्ड मिशन भेजने की तैयारी में है. नोकिया ने कहा है कि NASA Artemin के दौरान कम्युनिकेशन में बड़ा रोल प्ले करेगा.

इस प्रोजेक्ट के लिए 14 कंपनियों को किया सलेक्ट
स्पेस एजेंसी NASA ने टोटल 14 अमेरिकी कंपनियों को चुना है जो चाँद पर 4G नेटवर्क के लिए बेसिक इंफ़्रास्ट्रक्चर तैयार करेंगी. इ इस मिशन के लिए कुल USD 370 मिलियन का फंड आवंटित किया गया है.

यह भी पढ़ें: IPO: बाजार में आज कमाई का बंपर मौका, यहां लगाया पैसा तो होंगे मालामाल!
2022 तक चंद्रमा पर पहुंचेगा 4G नेटवर्क


नोकिया ने कहा कि अंतरिक्ष में पहला वायरलेस ब्रॉडबैंड कम्युनिकेशन सिस्टम 2022 के अंत में चंद्रमा की सतह पर बनाया जाएगा. कंपनी ने बताया कि नेटवर्क अंतरिक्ष यात्रियों को आवाज और वीडियो कम्युनिकेशन करने की सुविधाएं देगा.

बेल लैब्स ने ट्वीट कर जाहिर की खुशी
आपको बता दें नोकिया की रिसर्च आर्म, बेल लैब्स ने ट्वीट करके इस बारे में खुशी जाहिर की है. उन्होंगे ट्विटर पर लिखा ‘चंद्रमा के लिए 'टिपिंग प्वाइंट' प्रौद्योगिकियों को आगे बढ़ाने के लिए एक प्रमुख भागीदार के रूप में नासा द्वारा चुने जाने पर हम बेहद उत्साहित हैं. इससे चांद की सतह पर मानव की स्थायी उपस्थिति की दिशा में मार्ग प्रशस्त करने में मदद मिलेगी’.


लॉन्चिंग और लैंडिंग की मिलेगी सभी जानकारी
कंपनी ने बताया कि नेटवर्क को इस तरह से लॉन्च किया जाएगा कि वह लॉन्चिंग और लैंडिंग की सभी जानकारी आसानी से दे सके. बता दें इसको कठोर आकार, वजन और बिजली की कमी को पूरा करने के लिए कॉम्पैक्ट करके चांद पर भेजा जाएगा.

यह भी पढ़ें: आम आदमी के लिए बड़ी खबर: इस वजह से दिवाली तक 100 रुपये/किलोग्राम तक पहुंच सकते हैं प्याज के दाम

हाई-टेक्नोलॉजी का होगा इस्तेमाल
इसके अलावा ये कंपनियां चांद पर सर्फेस पॉवर जनरेशन और रोबॉटिक्स टेक्नोलॉजी को भी लगाएगीं. इन हाई टेक्नोलॉजी के आधार पर चांद पर 4G नेटवर्क लगाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज