होम /न्यूज /तकनीक /84 देशों के लगभग 50 करोड़ WhatsApp नंबर की ऑनलाइन सेल, भारतीय यूजर्स का डेटा भी है शामिल

84 देशों के लगभग 50 करोड़ WhatsApp नंबर की ऑनलाइन सेल, भारतीय यूजर्स का डेटा भी है शामिल

ऑनलाइस बिक रहे 500 मिलियन यूजर्स के फोन नंबर

ऑनलाइस बिक रहे 500 मिलियन यूजर्स के फोन नंबर

साइबरन्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार एक एक्टर ने हैकिंग कम्युनिटी फोरम पर एक विज्ञापन पोस्ट किया है, जिसमें दावा किया गय ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

एक एक्टर ने हैकिंग कम्युनिटी फोरम पर एक विज्ञापन पोस्ट किया है.
इसमें यूजर्स के मोबाइल नंबरों का डेटाबेस बेचने का दावा किया गया है.
इसमें यूएस, यूके, मिस्र, इटली, सऊदी अरब और भारतीय यूजर्स के नंबर शामिल हैं.

नई दिल्ली. एक रिपोर्ट के मुताबिक लगभग 50 करोड़ (500 Million) वॉट्सऐप यूजर्स के फोन नंबर ऑनलाइन सेल किए जा रहे हैं. साइबरन्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार एक एक्टर ने हैकिंग कम्युनिटी फोरम पर एक विज्ञापन पोस्ट किया है, जिसमें दावा किया गया कि वह 487 मिलियन वॉट्सऐप यूजर्स के मोबाइल नंबरों का डेटाबेस बेच रहा है. डेटाबेस में 84 विभिन्न देशों के वॉट्सऐप यूजर्स के मोबाइल नंबर शामिल हैं. इनमें यूएस, यूके, मिस्र, इटली, सऊदी अरब और भारत शामिल हैं.

बता दें कि इस जानकारी का उपयोग ज्यादातर हमलावर फिशिंग हमलों के लिए करते हैं. इसलिए वॉट्सऐप यूजर्स को सलाह दी गई है कि वे अनजान नंबरों से आने वाली कॉल और मैसेज से बचें.

वॉट्सऐप डेटासेट की सेल
एक्टर का दावा है कि डेटासेट में 32 मिलियन से अधिक अमेरिकी यूजर्स के रिकॉर्ड हैं. इसके अलावा इसमें मिस्र के 45 मिलियन, इटली के 35 मिलियन, सऊदी अरब के 29 मिलियन, फ्रांस के 20 मिलियन और तुर्की के 20 मिलियन यूजर्स का डेटा शामिल है. डेटाबेस में कथित तौर पर लगभग 10 मिलियन रूसी और 11 मिलियन से अधिक यूके के नागरिकों के फोन नंबर हैं.

यह भी पढ़ें- अब अपनी आवाज में WhatsApp Status लगा सकेंगे यूजर्स, नया फीचर ले रही है कंपनी

डेटासेट की कीमत
रिपोर्ट में दावा किया गया है कि धमकी देने वाला अभिनेता अमेरिकी डेटासेट को 7,000 डॉलर (लगभग 5,71,690 रुपये) में बेच रहा है, जबकि यूके और जर्मनी के डेटासेट की कीमत क्रमशः 2,500 डॉलर (लगभग 2,04,175 रुपये) और 2,000 डॉलर (लगभग 1,63,340 रुपये) है.

यह भी पढ़ें- फ्लिपकार्ट पर Black Friday sale शुरू, कम कीमत पर मिल रहे स्मार्टफोन

प्लेटफॉर्म के एक्टिव यूजर्स के नंबर
बता दें कि अक्सर ऑनलाइन पोस्ट किए गए बड़े पैमाने पर डेटा सेट वॉटेसऐप सर्विस की शर्तों का उल्लंघन करके स्क्रैप करके प्राप्त किए जाते हैं. हालांकि, एक्टर का दावा है कि सभी नंबर मेटा के स्वामित्व वाले प्लेटफॉर्म के एक्टिव यूजर्स के हैं. हालांकि, अभी तक यह जानकारी सामने नहीं आई है कि उसने डेटाबेस कैसे प्राप्त किया. एक्टर का कहना है उसने डेटा कलेक्ट करने के लिए अपनी रणनीति का उपयोग किया है.

पहले भी लीक हुई थी जानकारी
वैसे यह पहला मौका नहीं है जब मेटा और उसके प्लेटफॉर्म डेटा ब्रीच को लेकर सुर्खियां बटोर रहे हैं. पिछले साल एक लीकस्टर ने 50 करोड़ से ज्यादा फेसबुक यूजर्स की जानकारी मुफ्त में ऑनलाइन उपलब्ध कराई थी. लीक हुए डेटा में फोन नंबर और अन्य विवरण शामिल थे.

Tags: Tech news, Tech News in hindi, Whatsapp, WhatsApp Account, Whatsapp Privacy Policy

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें