होम /न्यूज /तकनीक /सावधान! तेजी से बढ़ रहा Online Shopping Scam, जानिए कैसे खुद को रखे सुरक्षित

सावधान! तेजी से बढ़ रहा Online Shopping Scam, जानिए कैसे खुद को रखे सुरक्षित

ऑनलाइन स्कैम से कैसे बचें (सांकेतिक तस्वीर)

ऑनलाइन स्कैम से कैसे बचें (सांकेतिक तस्वीर)

जैसे-जैसे ऑनलाइन शॉपिंग का चलन बढ़ रहा है, वैसे-वैसे ऑनलाइन शॉपिंग स्कैम भी बढ़ रहे हैं. नॉर्टन का कहना है कि साइबर अपर ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते चलन के साथ आनलाइन स्कैम भी बढ़ रहे हैं.
हालांकि, थोड़ी सावधानी बरत कर आप इस तरह के स्कैम से बच सकते हैं.
स्कैम से बचने के लिए लोग URL लुकअप टूल का यूज भी कर सकते हैं.

नई दिल्ली. समय के साथ-साथ ऑनलाइन शॉपिंग का चलन बढ़ता जा रहा है. ज्यादातर लोग अमेजन और फ्लिपकार्ट जैसी ई-कॉमर्स साइट से खरीदारी कर रहे हैं. वहीं, ई-कॉमर्स कंपनियां भी अपने ग्राहकों को शानदार डील और ऑफर्स की पेशकश कर रही है. हालांकि, कई बार ज्यादा डिस्काउंट या सस्ता प्रोडक्ट खरीदने के चक्कर में यूजर्स फ्रॉड का भी शिकार हो जाते हैं. आनलाइन खरीदारी कर समय यूजर्स का एक गलत कदम उनका बैंक अकाउंट तक खाली कर सकता है.

फेस्टिव सीजन के चलते इन दिनों ऑनलाइन शॉपिंग स्कैम तेजी से बढ़ते जा रहे हैं और ज्यादा डिस्काउंट के चक्कर में लोग आसानी से स्कैमर्स का शिकार हो रहे हैं. इस बीच NortonLifelock की ग्लोबल रिसर्च टीम ने अपनी क्वार्टरली कंज्यूमर साइबर सेफ्टी प्लस रिपोर्ट शेयर की है. इसमें जुलाई, 2022 से लेकर सितंबर 2022 तक टॉप कंज्यूमर साइबर सिक्योरिटी खतरों के बारे में डिटेल दी है

Norton Labs की रिपोर्ट
NortonLifelock की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में सिंतबर महीने खतरे के लेवल से निपटने के लिए 4.7 मिलियन (लगभग 4.7 करोड़) लोग ब्लॉक हुए थे. नॉर्टन का कहना है कि साइबर अपराधी लोगों को लुभाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक, ज्वैलरी, कपड़े और अन्य प्रोडक्ट्स पर बंपर डील ऑफर कर रहे हैं. ये साइटें अक्सर पॉलिश किए गए स्टोरफ्रंट और पॉजीटिव रिव्यू, दिखाती है. हालांकि, जब भी यूजर कोई प्रोडक्ट ऑर्डर करता है, तो उसे या तो फेक आइटम या फिर कुछ भी डिलीवर नहीं किया जाता है.

यह भी पढ़ें- Facebook update: पब्लिक इवेंट को इंस्टाग्राम स्टोरी में शेयर कर सकेंगे फेसबुक यूजर्स

सर्च टर्न शेयर करती हैं वेबसाइट्स
नॉर्टन लैब्स ने दावा किया है कि लगभग 80 प्रतिशत वेबसाइटें विज्ञापनदाताओं के साथ गलती से या जानबूझकर सर्च टर्न शेयर करती हैं. साथ ही ट्रैकर्स, यूजर्स की वेबसाइट विजिट से उसके जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. इसके अलावा वे यूजर्स का आईपी एड्रेस, वेबसाइट का कंटेंट डोमेन और बहुत कुछ जान लेती हैं. इसमें आपकी हेल्थ और परिवार की संवेदनशील जानकारी शामिल हो सकती है. विज्ञापनदाता आपकी इस जानकारी यू करते हैं.

स्कैम से बचने के लिए क्या करें
नॉर्टन लैब्स ने कहा है कि ग्राहक किसी भी ऐसे प्रोडक्ट की खरीदारे न करें, जिसकी कीमत बहुत कम और किफायती हो. साथ ही यूजर्स उन वेबसाइटों से सावधान रहें, जो अलग तरह से पेमेंट करने के ऑप्शन देती हैं. साथ ही लोगों को सोशल मीडिया विज्ञापनों और अनचाहे मैसेज से सावधान रहना चाहिए. इतना ही नहीं स्कैम से बचने के लिए लोग URL लुकअप टूल का यूज भी कर सकते हैं.

Tags: Online Shopping, Scam, Tech news, Tech News in hindi, Technology

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें