• Home
  • »
  • News
  • »
  • tech
  • »
  • भारतीयों के डेटा पर सिर्फ उनका कंट्रोल होना चाहिए, किसी बाहरी का नहीं: मुकेश अंबानी

भारतीयों के डेटा पर सिर्फ उनका कंट्रोल होना चाहिए, किसी बाहरी का नहीं: मुकेश अंबानी

किसी भी समस्या से भागे नहीं: समस्याओं से भागने की बजाय उसका सामना करें. समस्या कहां से शुरू हुई है, उसकी मूल वजह क्या है. यह जानने की कोशिश करें. जीवन और प्रोफेशनल लाइफ में आने वाली परेशानियों का हल तभी निकलेगा, जब आप उसकी वजहों को जान लेंगे.

किसी भी समस्या से भागे नहीं: समस्याओं से भागने की बजाय उसका सामना करें. समस्या कहां से शुरू हुई है, उसकी मूल वजह क्या है. यह जानने की कोशिश करें. जीवन और प्रोफेशनल लाइफ में आने वाली परेशानियों का हल तभी निकलेगा, जब आप उसकी वजहों को जान लेंगे.

मुंबई के एक कार्यक्रम में रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने डेटा के उपनिवेशवाद को लेकर विदेशी कंपनियों की कड़ी आलोचना की. उन्होंने कहा, 'डेटा उपनिवेशवाद से तभी आजादी मिल सकती है, जब भारतीय डेटा पर भारतीयों की हुकूमत हो.'

  • Share this:
    भारत के डेटा पर सिर्फ भारतीयों का नियंत्रण होना चाहिए, किसी बाहरी का नहीं. खासतौर पर किसी विदेशी कॉरपोरेट कंपनी का कंट्रोल ने कतई नहीं होना चाहिए. ये कहना है देश के मशहूर बिजनेसमैन और रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी का. बुधवार को वो मुंबई में आयोजित न्यूज़ चैनल 'रिपब्लिक' के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे.

    इस दौरान मुकेश अंबानी ने डेटा के उपनिवेशवाद को लेकर विदेशी कंपनियों की कड़ी आलोचना की. उन्होंने कहा, 'डेटा उपनिवेशवाद से तभी आजादी मिल सकती है, जब भारतीय डेटा पर भारतीयों की हुकूमत हो.' उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश का भी हवाला दिया, जिसमे कोर्ट ने डेटा की प्राइवेसी और सिक्योरिटी को सुनिश्चित करने को कहा था.

    इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2018: मुकेश अंबानी ने कहा, '2020 तक पूरी तरह 4G होगा भारत'

    रिपब्लिक के सम्मेलन को संबोधित करते हुए अंबानी ने कहा कि किसी व्यक्ति या कारोबार का डेटा उनका होता है. यह उन कंपनियों का नहीं होता जो उसका इस्तेमाल कर पैसा कमा सकें.

    उन्होंने कहा कि कंपनियों द्वारा डेटा को स्थानीय स्तर पर रखने की भारतीय अधिकारियों की बात का समर्थन करते हुए उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि डेटा की गोपनीयता पवित्र है.

    भारत में नित नए रिकॉर्ड बनाने वाली जियो के बारे में मुकेश अंबानी ने कहा, 'जियो हर किसी को, हर जगह और हर जोड़ने लायक चीजों को एक साथ कनेक्ट करने के लिए प्रतिबद्ध है.' उन्होंने कहा, 'भारत में डिजिटल डिवीजन की खाई को जियो ने कनेक्टविटी के जरिए पाट दिया है.'


    अंबानी ने कहा, 'आज सभी को टेलीकॉम सुविधाएं और डेटा किफायती दामों पर उपलब्ध है. सिर्फ 24 महीनों के भीतर भारत ने डेटा उपभोग में 155वें नंबर से छलांग लगा कर दुनिया में पहला स्थान हासिल कर लिया है.'

    उन्होंने कहा, 'गूगल जैसी कंपनियों ने हालांकि इसके लिए छह महीने की समयसीमा की शिकायत की है. सरकार की डेटा सुरक्षा कानून का मसौदा लाने पर विचार कर रही है जिसके तहत सभी कंपनियों के डेटा केंद्र भारत में ही स्थित होने चाहिए.'

    अंबानी ने कहा, 'डेटा की आजादी 1947 की आजादी की तरह बहुमूल्य है. सरकार चाहती है कि भारत में कारोबार करने वाली कंपनियों को सभी ग्राहकों के डेटा को स्थानीय स्तर पर रखना होगा. रिजर्व बैंक ने अप्रैल में कंपनियों को आदेश दिया था कि उनकी ट्रांजैक्शन संबंधित सुविधाओं पर यूजरों का पूरा डेटा भारत में ही रखा जाना चाहिए.'


    रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन ने कहा, ‘बुनियादी रूप से मैं सभी को अधिकार दिए जाने पर विश्वास करता हूं, सिर्फ कुछ को नहीं. मुझे लगता है कि लंबी अवधि में यही चीन और भारत के बीच अंतर करेगा. मेरा मानना है कि विकेंद्रीकृत सशक्त दुनिया, उस दुनिया से बेहतर होगी जहां सत्ता कुछ ही लोगों के हाथ में केंद्रित रहती है.’

    (डिस्क्लेमर: न्यूज़18 हिंदी रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है. नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज