Paytm-Phonepe यूज़र्स करवा लें KYC नहीं तो अगले महीने नहीं कर सकेंगे पेमेंट

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 4:46 AM IST
Paytm-Phonepe यूज़र्स करवा लें KYC नहीं तो अगले महीने नहीं कर सकेंगे पेमेंट
दरअसल आरबीआई ने पहले इसकी समयसीमा फरवरी 2019 रखी थी लेकिन बाद में कंपनियों की मांग पर इसे 6 महीने के लिए बढ़ा दिया गया.

दरअसल आरबीआई ने पहले इसकी समयसीमा फरवरी 2019 रखी थी लेकिन बाद में कंपनियों की मांग पर इसे 6 महीने के लिए बढ़ा दिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 4:46 AM IST
  • Share this:
अगर आप भी Paytm और Phonepe यूज़ करते हैं तो इस महीने के अंत तक KYC करवा लीजिए वरना अगले महीने से आप पेमेंट नहीं कर पाएंगे. दरअसल रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया ने वॉलेट कंपनियों को 31 समयसीमा दी थी जिसके अंदर इन्हें सभी यूज़र्स का केवाईसी करवाना ज़रूरी था.

फरवरी 2019 में बढ़ाई गई थी समयसीमा-
दरअसल आरबीआई ने पहले इसकी समयसीमा फरवरी 2019 रखी थी लेकिन बाद में कंपनियों की मांग पर इसे 6 महीने के लिए बढ़ा दिया गया. अब केवाईसी पूरा करने के लिए केवल कुछ ही दिन बचे हैं. अनुमान के मुताबिक करीब 30 से 40 फीसदी यूज़र्स ने केवाईसी नहीं कराई है.

नए हो गए हैं केवाईसी नियम-

पहले केवाईसी करवाने के लिए सिर्फ पैन कार्ड या आधार कार्ड से जुड़े दस्तावेज अपलोड करने होते थे लेकिन अब सिर्फ इतने से ही काम नहीं होगा बल्कि कंपनी का एक्ज़ीक्यूटिव पते पर जाकर सत्यापित भी करेगा.
वॉलेट कंपनियों का कहना है कि भौतिक सत्यापन से उनका खर्च कई गुना बढ़ गया है. पेटीएम और अन्य वॉलेट कंपनियों ने आरबीआई से वीडियो केवाईसी कराने का विकल्प देने का अनुरोध भी किया था, लेकिन अभी इस पर फैसला नहीं हुआ है.

Loading...

करोड़ों लोग करते हैं वॉलेट का प्रयोग-
डिजिटल पेमेंट के लिए देश में 10 से भी ज्यादा वॉलेट प्रयोग किए जा रहे हैं. सबसे ज्यादा यूज़र्स अकेले पेटीएम के पास हैं जिनकी संख्या 35 करोड़ है. इसके अलावा गूगल-पे, फोन-पे, मोबीक्विक, योनो एसबीआई, आईसीआईसीआई पॉकेट, एचडीएफसी पेजैप, भीम एप, अमेजन-पे और फ्रीचार्ज का भी करोड़ों उपभोक्ता इस्तेमाल कर रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 4:46 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...