लाइव टीवी

अब Paytm करेगा आपके पैसों की सुरक्षा, बचाएगा फ्रॉड से

News18Hindi
Updated: January 28, 2020, 8:35 PM IST
अब Paytm करेगा आपके पैसों की सुरक्षा, बचाएगा फ्रॉड से
पेटीएम पेमेंट बैंक (Paytm Payment Bank) ने एक बयान में कहा कि बैंक, यूजर्स के अकाउंट्स को सुरक्षित रखने के लिए नए साइबर सिक्योरिटी टूल्स का उपयोग करके कई तरह के अपडेट्स ला रहा है.

पेटीएम पेमेंट बैंक (Paytm Payment Bank) ने एक बयान में कहा कि बैंक, यूजर्स के अकाउंट्स को सुरक्षित रखने के लिए नए साइबर सिक्योरिटी टूल्स का उपयोग करके कई तरह के अपडेट्स ला रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2020, 8:35 PM IST
  • Share this:
पेटीएम पेमेंट बैंक (Paytm Payment Bank,PPBL) का नया फीचर अब आपको फ्रॉड होने से बचाएगा. यह यूज़र्स के फोन पर उन ऐप्स की एनालिसिस करेगा जिनसे फ्रॉड होने की संभावना है. साथ ही उन्हें अनइन्स्टॉल करने की सलाह भी देगा. ऐसा करने के लिए पेटीएम आर्टीफीशियल इंटेलीजेंस का इस्तेमाल करता है. यह फीचर यूज़र्स को फ्रॉड कॉल्स और एसएमएस के बारे में जागरुक भी करता है.

पेटीएम पेमेंट बैंक ने एक बयान में कहा कि बैंक, यूजर्स के अकाउंट्स को सुरक्षित रखने के लिए नए साइबर सिक्योरिटी टूल्स का उपयोग करके कई तरह के अपडेट्स ला रहा है. बैंक का नया फीचर यूजर की डिवाइस पर ठगी कर सकने वाले ऐप्स की पहचान करता है और उन्हें इन ऐप्स को अनइंस्टॉल करने की सलाह देता है.



संदिग्ध ऐप मिलने पर करेगा अलर्ट-

फाइनेंशिय एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक PPBL के MD व CEO सतीश गुप्ता ने कहा कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक के ज़रिए यूजर का हर ट्रांजेक्शन सुरक्षित रहे, इस बात को सुनिश्चित करने के लिए बैंक हर तरह की कोशिश और रिसोर्स का इस्तेमाल कर रहा है. यह सिक्योरिटी फीचर यूजर की डिवाइस पर मौजूद ऐप्स को स्कैन करेगा. अगर कोई ऐसा ऐप मिलता है, जिससे यूजर का बैंक अकाउंट खतरे में है तो वह एक सिक्योरिटी अलर्ट देगा. जब तक यूजर उस फ्रॉड ऐप को अनइंस्टॉल नहीं कर देता तब तक पेटीएम पेमेंट्स बैंक से कोई ट्रांजेक्शन नहीं हो सकेगा.'



उन्होंने आगे कहा कि PPBL के सामने ऐसे मामले आए हैं, जब इस फीचर ने ग्राहकों के साथ फ्रॉड होने से रोका है. हम अपने ग्राहकों को फ्रॉड गतिविधियों को लेकर जागरुक करते रहेंगे और उन्हें इससे बचने के रास्ते बताते रहेंगे. बयान में यह भी कहा गया कि PPBL संदिग्ध ट्रांजेक्शंस को तुरंत पता लगाने के लिए AI की भी मदद ले रहा है.उनके बयान के मुताबिक, ऐप्स में मौजूद एआई को अगर लगता है कि ट्रांजेक्शन करने में खतरा है तो यह या तो इसे धीमा कर देगा या फिर पेमेंट पूरा होने के पहले ही ब्लॉक कर देगा. बता दें कि फ्रॉड करने वालों द्वारा किए जाने वाले अलग अलग स्कैम्स के पैटर्न को ध्यान में रखकर एआई को खास तौर पर बनाया गया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 8:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर