लाइव टीवी

एक समय पर एक सामाजिक पहल के साथ जिंदगियां बदल रहा फिलिप्स इंडिया

News18Hindi
Updated: October 25, 2019, 12:14 PM IST
एक समय पर एक सामाजिक पहल के साथ जिंदगियां बदल रहा फिलिप्स इंडिया
फिलिप्स इंडिया का लक्ष्य साल 2030 तक 3 अरब जिंदगियों को बेहतर बनाना है. कंपनी उन्हें फ्री हैल्थकेयर, सामग्रियों का लाभ, कार्बन-न्यूट्रल बनकर ऊर्जा का उचित प्रयोग और नवीनीकृत बिजली का 100 प्रतिशत प्रयोग इत्यादि प्रदान कर चीजों में सुधार करने की योजना पर काम कर रही है.

फिलिप्स इंडिया का लक्ष्य साल 2030 तक 3 अरब जिंदगियों को बेहतर बनाना है. कंपनी उन्हें फ्री हैल्थकेयर, सामग्रियों का लाभ, कार्बन-न्यूट्रल बनकर ऊर्जा का उचित प्रयोग और नवीनीकृत बिजली का 100 प्रतिशत प्रयोग इत्यादि प्रदान कर चीजों में सुधार करने की योजना पर काम कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 25, 2019, 12:14 PM IST
  • Share this:
हेल्थ टेक्नॉलजी कंपनी फिलिप्स इंडिया का हमेशा से ही स्थिरता को बढ़ावा देने का एक इतिहास रहा है जो न केवल समाज को लाभ पहुंचाता है, बल्कि आर्थिक विकास और आधुनिक, हस्तक्षेपों को बढ़ावा देने के लिए एक प्रेरक शक्ति के रूप में भी काम करता है.

भारत में विभिन्न समुदायों द्वारा सामना की जाने वाली विभिन्न चुनौतियों को स्वीकार करते हुए, फिलिप्स इंडिया ने ग्राहकों से मिली जानकारी से भारत में विभिन्न समुदायों के आगे आने वाली चुनौतियों का पता कर एक बेहतर समाधान निकालने की कोशिश की है, ताकि लोगों की जिंदगियों में चल रही समस्याओं का हल निकाला जा सके.

फिलिप्स इंडिया का लक्ष्य साल 2030 तक 3 अरब जिंदगियों को बेहतर बनाना है. कंपनी उन्हें फ्री हैल्थकेयर, सामग्रियों का लाभ, कार्बन-न्यूट्रल बनकर ऊर्जा का उचित प्रयोग और नवीनीकृत बिजली का 100 प्रतिशत प्रयोग इत्यादि प्रदान कर चीजों में सुधार करने की योजना पर काम कर रही है. कुल मिलाकर, उन्होंने प्रत्येक विकासात्मक क्षेत्र को टारगेट किया, उन मुद्दों का पता किया जिनके समाधान की आवश्यकता है, और अपने उद्देश्यों की ओर आगे बढ़ने के लिए सभी समावेशी, रणनीतिक समाधानों का पता लगाया. भारतीय समाज को बेहतर बनाने में मदद करने के उपायों को देखते हुए, फिलिप्स इंडिया ने सावधानीपूर्वक ऐसी प्रक्रियाओं का निर्माण किया है जो मानव-केंद्रित होने के चलते प्रासंगिक मुद्दों को संबोधित करती हैं.



वर्षों से चले आ रहे उनके सामाजिक अभियान, एक स्वस्थ भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में उनके योगदान में शामिल अहम कदम हैं. फिलिप्स इंडिया के ज्यादातर कल्याणकारी कार्य सामुदायिक-संचालित हैं. दूसरी भाषा में कहें, तो वे अपनी पहल में लोगों की भागीदारी को अधिक महत्व देते हैं, विशेष रूप से वो लोग जो ज्यादा से ज्यादा लोगों तक इसका परिणाम पहुंचाना चाहते हैं. फिलिप्स इंडिया अपने कर्मचारियों और उनके परिवारों को स्थिरता देने, एक समग्र दृष्टिकोण लाने के हेतु से अपनी पहल में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करता है. उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया है कि उनकी रणनीति के संचालन की मदद से वो लोगों को ऐसी चीजें उपलब्ध कराएं जो पर्यावरण पर भी अच्छा असर करती हों. फिलिप्स इंडिया का सामाजिक विकास में योगदान की बात करे तों, सामाजिक और सांस्कृतिक विकास, लोगों तक पहुंचने वाले कार्यक्रमों के माध्यम से बढ़ती जागरूकता, विभिन्न समूहों को शिक्षा प्रदान करना और वातावरण की रक्षा करना ये सब शामिल है.

फिलिप्स इंडिया की कुछ उल्लेखनीय पहल में “स्तन कैंसर जागरूकता के लिए HIM कैंपेन, कल्याण और छात्रवृत्ति कार्यक्रम, व्यापक स्तनपान प्रबंधन केंद्रों की स्थापना, कैंसर से पीड़ित बच्चों और उनके परिवारों का समर्थन करना, मोबाइल मेडिकल वैन के माध्यम से बुनियादी चिकित्सा की सुविधा पहुंचाना, भारत में बच्चों में होते निमोनिया के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मां और बच्चे की स्वास्थ्य सेवा और मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों पर जागरूकता, और हाल ही में 'हर सांस में जिंदगी' जैसे अभियान शामिल हैं. उनके हालिया अभियान ने जनता से बहुत सारी सकारात्मक प्रतिक्रियाएँ प्राप्त कीं क्योंकि उन्होंने भारत में पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु में लगभग छठे योगदान देने वाले एक मुद्दे पर काम किया, जो है बचपन में होने वाला निमोनिया.

आंकड़ों की मानें तो, बचपन में होते निमोनिया के कारण भारत में हर 4 मिनट में एक बच्चे की मौत होती है. पांच साल से कम उम्र के बच्चों में निमोनिया को कम करने में मदद करने के प्रयास में, फिलिप्स इंडिया ने ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में निमोनिया के बारे में जागरूकता पैदा करने की जिम्मेदारी ली है. फिलिप्स इंडिया परिवारों और देखभाल करने वालों को पढ़ाकर उन्हें 5 साल से कम उम्र के बच्चों में होने वाले निमोनिया के बारे में जागरूक करना चाहता है, जो पांच वर्ष से छोटे बच्चों की मृत्यु दर को कम करने में मदद करेगा. काफी हद तक, उनकी गतिविधियां, सामाजिक जागरूकता प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करती हैं, जिससे ज्यादा से ज्यादा जिंदगियां बचाई जा सकें. यह लोगों में सही समय पर सही कदम लेने के लिए प्रोत्साहित करने का अच्छा तरीका है.
Loading...

फिलिप्स इंडिया का मानना है कि रोकथाम यह इलाज से बेहतर है. इसी को दिमाग में रखते हुए, वो आधुनिक तकनीक के साथ देशभर में अभियान चलाकर स्वास्थ्य को सुधारने की ओर आगे बढ़ रहे हैं. फिलिप्स इंडिया स्वास्थ्य चिकित्सा को बेहतर और सुलभ बनाना चाहती है.

इस इनीशिएटिव के बारे में और अधिक जानने के लिए यहां पर क्लिक करें.

(पार्टनर्ड कंटेंट)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोबाइल-टेक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 12:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...