अमेज़न और फ्लिपकार्ट के प्लास्टिक बैग पैकिंग मामले में एनजीटी ने CPCB से मांगी रिपोर्ट

अमेज़न और फ्लिपकार्ट के प्लास्टिक बैग पैकिंग मामले में एनजीटी ने CPCB से मांगी रिपोर्ट
याचिका पर एनजीटी (NGT) ने सीपीसीबी (Central Pollution Control Board, CPCB) से 3 जनवरी तक रिपोर्ट देने के लिए कहा है.

याचिका में मांग की गई थी कि फ्लिपकार्ट और अमेज़न जैसी ई-मार्केटिंग कंपनियों (E-Marketing Companies) द्वारा जो प्लास्टिक पैकिंग की जाती है उस पर रोक लगाई जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2019, 4:40 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
अमेज़न (Amazon) और फ्लिपकार्ट (Flipkart) जैसी कंपनियों के प्लास्टिक बैग पैकिंग (Plastic Bag packing) के मामले में दायर की गई याचिका पर एनजीटी (NGT) ने सीपीसीबी (Central Pollution Control Board, CPCB) से 3 जनवरी तक रिपोर्ट देने के लिए कहा है. यह याचिका दिल्ली के माडर्न स्कूल में पढ़ने वाले 16 साल के छात्र आदित्य दूबे ने दायर की थी. इस याचिका में मांग की गई थी कि फ्लिपकार्ट और अमेज़न जैसी ई-मार्केटिंग कंपनियों (E-Marketing Companies) द्वारा जो प्लास्टिक पैकिंग की जाती है उस पर रोक लगाई जाए.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक याचिका में कहा गया था कि अमेज़न और वॉलमार्ट के मालिकाना हक वाली फ्लिपकार्ट ज़रूरत से ज्यादा कार्डबोर्ड और मल्टीलेयर प्लास्टिक (Cardboard and Multilayer Plastic) यूज़ करते हैं जिस पर रोक लगनी चाहिए. आदित्य दूबे एक पर्यावरण ऐक्टिविस्ट हैं जिन्होंने याचिका दाखिल कर इस मामले में एनजीटी से निर्देश जारी करने को कहा था. उनका कहना था कि कंपनियां पूरे देश में बड़े स्तर पर सामान सप्लाई करती हैं लेकिन वे प्लास्टिक पर रोक के मामले में अपनी जिम्मेदारी नहीं निभातीं.

यह मामला ऐसे समय में आया है जब पीएम मोदी लगातार लोगों से सिंगल यूज़ प्लास्टिक का प्रयोग न करने की अपील कर रहे हैं. भारत ने सिंगल यूज़ प्लास्टिक को खत्म करने के लिए 2022 तक का डेडलाइन रखा है. इसी को बढ़ावा देने के लिए और लोगों में जागरुकता फैलाने के लिए पीएम मोदी भी ममल्लापुरम बीच पर बिखरी हुई बोतलों को साफ करते हुए दिखे.



आदित्य दूबे पिछले तीन साल से पर्यावरण को बचाने के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं. वे ‘Plant A Million Tree’ इनीशिएटिव के लिए जाने जाते हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार उन्होंने इस संबंध अमेज़न और फ्लिपकार्ट दोनों से संपर्क किया. अमेजन के प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी मौजूदा समय में पैकेजिंग के लिए 7 फीसदी से कम सिंगल यूज़ प्लास्टिक का प्रयोग करती है जबकि फ्लिपकार्ट के प्रवक्ता का कहना था कि उन्होंने पहले ही ऐलान कर रखा है कि सिंगल यूज़ प्लास्टिक की पैकेजिंग को 2021 तक खत्म कर दिया जाएगा.



अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading