Facebok CEO मार्क ज़करबर्ग के लीक फोन नंबर से हुआ बड़ा खुलासा, इस्तेमाल करते हैं Signal ऐप!

Mark Zuckerberg सिग्नल ऐप का इस्तेमाल करते हैं.

Mark Zuckerberg सिग्नल ऐप का इस्तेमाल करते हैं.

फेसबुक के CEO Mark ज़करबर्ग के लीक हुए फोन नंबर से एक बड़ा खुलासा हुआ है कि वह वॉट्सऐप के प्रतिद्वंद्वी Signal ऐप का इस्तेमाल करते हैं..

  • Share this:
फेसबुक (Facebook) ऐसी सोशल नेटवर्किंग साइट है, जिस पर फोटो और पर्सनल डिटेल्स के साथ हर, एक व्यक्ति का अकाउंट बना हुआ है. लेकिन जब आपको पता चलेगा कि आपका पर्सनल डेटा सेफ नहीं है और उसका मिसयूज़ हो सकता है तब आपको कैसा लगेगा. ऐसा ही हुआ है फेसबुक के 6 मिलियन यूजर्स के साथ जिसमें फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग भी शामिल हैं. फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग का फोन नंबर उन 533 मिलियन फेसबुक यूज़र्स के लीक हुए डेटा में पाया गया था.

एक रिपोर्ट के अनुसार, ज़करबर्ग के अन्य डिटेल्स जैसे कि उनके नाम, जन्म तिथि, स्थान, मैरिज़ डिटेल और फेसबुक यूजर्स आईडी भी कंप्रोमाइज्ड किए गए डेटा में सामने आए थे. अब इसमें जो नई बात हैं, वो ये हैं कि फेसबुक के CEO Mark ज़करबर्ग Signal ऐप का इस्तेमाल करते हैं.

(ये भी पढ़ें- शुरू हो रही है साल की सबसे बड़ी सेल Mi Fan Festival 2021! हर दिन 1 रुपये में पाएं सामान, फोन पर भी भारी छूट)



एक रिसर्च में खुलासा हुआ है कि ज़करबर्ग अपनी प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए सिग्नल ऐप का इस्तेमाल करते है, जिसमें एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन की सिक्योरिटी भी है. मज़ेदार बात यह हैं कि ये ऐप Facebook की कंपनी का नहीं हैं. सिक्योरिटी एक्सपर्ट डेव वॉकर ने ट्विटर पर मार्क के लीक हुए फोन नंबर को स्क्रीनशॉट के साथ पोस्ट किया जिसमें उल्लेख किया गया, ‘मार्क ज़करबर्ग सिग्नल ऐप पर हैं.’ वाकर ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘533 मिलियन लोगों का फेसबुक डेटा लीक होने के साथ मार्क ज़करबर्ग की भी डिटेल्स लीक हुई हैं और ये एक परेशान करने वाली बात हैं.
60 लाख भारतीय यूज़र्स प्रभावित
533 मिलियन प्रभावित यूज़र्स में से 32 मिलियन अमेरिका के, 11 मिलियन यूके के और 6 मिलियन भारत के हैं. लीक डेटा में यूजर्स के कॉन्टैक्ट नंबर के अलावा उनकी पर्सनल डिटेल्स जैसे कि उनकी लोकेशन, फुल नेम, बर्थ डेट, फेसबुक आईडी और ईमेल एड्रेस शामिल है.



ये खुलासा उस समय होता है जब फेसबुक की कंपनी WhatsApp की नई प्राइवेसी पालिसी से नाखुश कई यूजर्स सिग्नल और टेलीग्राम जैसे अन्य ऑप्शन की ओर शिफ्ट हो रहे हैं. वॉट्सऐप की विवादास्पद नई सर्विस 15 मई 2021 से इफेक्टिव होगी. अपडेट की गई प्राइवेसी पालिसी ये बताती है कि फेसबुक कैसे बिज़नेस अकाउंट के साथ यूज़र्स की चैट तक पहुंच सकता है.

(ये भी पढ़ें- बेहद सस्ते में मिल रहा है भारत का पहला 7000mAh बैटरी वाला दमदार सैमसंग फोन, मिलेगी 8GB RAM)

फेसबुक के ही अन्य को- फाउंडर्स क्रिस ह्यूस और डस्टिन मॉस्कोविट्ज के प्राइवेट डेटा भी इन हैक किए गए डेटा में शामिल हैं. ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, चुराए गए फोन नंबर का डेटाबेस एक हैकर्स ‘फोरम’ में पोस्ट किया गया था और इसे आसानी से बेसिक कंप्यूटिंग स्किल वाले किसी भी व्यक्ति को दिया जा सकता है. एक और सिक्योरिटी एक्सपर्ट एलोन गैल के मुताबिक, डेटा को 2020 में लीक किया गया था, जो हर फेसबुक अकाउंट से जुड़े फोन नंबर को देखने में सक्षम था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज