Samsung फोन के ये ऐप रोशन करेंगे दिव्यांगों की दुनिया, जानें खूबियां

यह ऐप डॉट्स और डैश के एक कॉम्बिनेशन को यूज़ करता है जो कि Deafblind व्यक्ति की देखभाल करने वाले को टेक्स्ट या वॉयस के रूप में प्राप्त होता है.

News18Hindi
Updated: September 12, 2019, 12:24 PM IST
Samsung फोन के ये ऐप रोशन करेंगे दिव्यांगों की दुनिया, जानें खूबियां
यह ऐप डॉट्स और डैश के एक कॉम्बिनेशन को यूज़ करता है जो कि Deafblind व्यक्ति की देखभाल करने वाले को टेक्स्ट या वॉयस के रूप में प्राप्त होता है.
News18Hindi
Updated: September 12, 2019, 12:24 PM IST
दक्षिण कोरिया की फोन निर्माता कंपनी सैमसंग ने Deafblind (जो सुनने और देखने में कमज़ोर या अक्षम) लोगों के लिए दो ऐप्स लॉन्च किए हैं. ये ऐप्स हैं- गुड वाइब्स (Good Vibes) और रेल्यूमिनो (Relumino). गुड वाइब्स ऐप को भारत में डेवलप किया गया है. यह मोर्स कोड (Morse Code) को यूज़ करके वाइब्रेशन्स को टेक्स्ट या वॉयस में बदल देता है और इसी तरह से टेक्स्ट या वॉयस को वाइब्रेशन्स में बदल देता है.

यह ऐप डॉट्स और डैश के एक कॉम्बिनेशन को यूज़ करता है जो कि Deafblind की व्यक्ति की देखभाल करने वाले को टेक्स्ट या वॉयस के रूप में प्राप्त होता है. इसी तरह से टेक्स्ट या वॉयस के रूप में भेजा गया संदेश Deafblind व्यक्ति को मोर्स कोड के रूप में मिलता है जिसे वह समझ लेता है. सैमसंग इंडिया के वाइस प्रेसीडेंट त्रिविक्रम ठाकोर ने कहा, 'हमने Good Vibes को पूरे भारत में Deafblind लोगों तक फैलाने के लिए Sense India से पार्टनरशिप की है. इसके लिए हमने Deafblind लोगों और उनकी देखभाल करने वाले लोगों के लिए दिल्ली और बेंगलुरु में वर्कशॉप भी किया है.' उन्होंने कहा कि इस ऐप को सैमसंग गैलेक्सी स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है और जल्दी ही इसे गूगल प्ले स्टोर पर भी उपलब्ध करा दिया जाएगा.

लो विजन वाले लोगों के लिए रिल्यूमिनो ऐप
दूसरा ऐप Relumino (रिल्यूमिनो) है जो कि लो-विजन वाले लोगों के लिए एक विजुअल ऐड एप्लीकेशन है. जिसे कंपनी के C-Lab प्रोग्राम के तहत सैमसंग के एंप्लॉइज ने डेवलप किया है. इस ऐप की सहायता से लो-विज़न वाले लोगों को क्लियर इमेज देखने में मदद मिलती है. सैमसंग ने नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड (NAB) दिल्ली के साथ पार्टनरशिप की है. NAB अपने क्लासरूम में इस ऐप का इस्तेमाल करेगा, जिसमें लो-विजन वाले स्टूडेंट्स इन डिवाइसेज की मदद से बेहतर तरीके से देख सकेंगे. इससे इन स्टूडेंट्स की लर्निंग एबिलिटी सुधारने में मदद मिलेगी.

एक आंकड़े के अनुसार भारत में करीब पांच लाख लोग Deafblind हैं. इस ऐप को करीब दो सालों से डेवलप किया जा रहा था. इसके पहले वर्ज़न से दो Deafblind लोगों के बीच ही बातचीत की जा सकती थी और अब इस नए वर्ज़न में उसकी देखभाल करने वाले व्यक्ति के साथ भी बातचीत की जा सकेगी. सैंमसंग के Galaxy A20 में ये ऐप पहले से ही इन्स्टॉल्ड है.

यह भी पढ़ें- Apple iPhone 11, iPhone 11 Pro, iPhone 11 Pro Max की ये होंगी भारत में कीमतें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2019, 11:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...