जल्द बदलने वाला है मोबाइल SIM से जुड़ा ये नियम, आसान हो जाएगा ग्राहकों का काम

जल्द बदलने वाला है मोबाइल SIM से जुड़ा ये नियम, आसान हो जाएगा ग्राहकों का काम
जल्द घर से ही हो जाएगा सिम कार्ड ग्राहक वेरिफिकेशन

दूरसंचार विभाग ग्राहक के वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को घर बैठे करने की मंजूरी दे सकता है. दूरसंचार विभाग ने इसका ड्राफ्ट तैयार कर लिया है और जल्दी ही फाइनल गाइडलाइंस जारी हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2020, 11:48 AM IST
  • Share this:
जल्दी ही मोबाइल ग्राहकों (Mobile users) को नया सिम पाने या अपना सिम कार्ड (SIM card verification) बदलने के लिए टेलीकॉम कंपनियों (telecom companies) के आउटलेट नहीं जाना होगा. दूरसंचार विभाग ग्राहक के वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को घर बैठे करने की मंजूरी दे सकता है. दूरसंचार विभाग ने इसका ड्राफ्ट तैयार कर लिया है और जल्दी ही फाइनल गाइडलाइन जारी हो सकती है. अब घर बैठे ग्राहक का वेरिफिकेशन होगा और सिम कार्ड घर पर डिलीवर होगी.

ग्राहकों को सिम कार्ड ग्राहक वेरिफिकेशन के लिए ऑनलाइन पोर्टल पर पेपर देने होंगे. दस्तावेज मिलते ही सिम कार्ड डिलीवर हो जाएगा. ग्राहक को नंबर एक्टिवेट करना होगा वेरीफिकेशन के लिए अब ऐप से फोटो भी खिंच जाएगी और दूसरे मोबाइल नंबर पर OTP से वेरिफिकेशन हो जाएगा.

(ये भी पढ़ें- बेहद सस्ता हो गया दुनिया का सबसे ज़्यादा पसंद किया जाने वाला ये धांसू एंड्रॉयड फोन, जानें नई कीमत)





पिछले महीने हुआ नए नियम का ऐलान
सिम कार्ड वेरिफिकेशन में होने वाले फ्रॉड को रोकने के लिए दूरसंचार विभाग में बल्क बायर और कंपनियों के लिए ग्राहक वेरिफिकेशन नियम कड़े कर दिए हैं. नए नियमों के मुताबिक टेलीकॉम कंपनी को नया कनेक्शन देने से पहले कंपनी के रजिस्ट्रेशन की जांच करनी होगी और हर 6 महीने में कंपनी का वेरीफिकेशन करना होगा. कंपनियों के नाम पर सिम कार्ड का फ्रॉड बढ़ने की वजह से ये फैसला लिया गया है.

(ये भी पढ़ें- बड़ा ऑफर! 13 हज़ार की कीमत वाले इस फोन को सिर्फ 7,990 रु में खरीदने का मौका)

Corporate Affairs मंत्रालय से कंपनी के रजिस्ट्रेशन की जांच करनी होगी. आपको बता दें कि इससे पहले दूरसंचार ने टेलीकॉम ग्राहकों के  वेरिफिकेशन पेनल्टी के नियमों में ढील देने का फैसला किया था. हर छोटी गलती के लिए टेलीकॉम कंपनियां पर 1 लाख़ रुपये की पेनल्टी नहीं लगेगी. सरकार अब तक ग्राहक वेरिफिकेशन के नियमों का पालन नहीं करने पर टेलीकॉम कंपनियों पर 3,000 करोड़ से ज्यादा की पेनल्टी लगा चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज