• Home
  • »
  • News
  • »
  • tech
  • »
  • SMARTPHONES WILL COST MORE COMPONENT PRICES ARE RISING TECH NEWS AMDM

स्मार्टफोन खरीदना होगा और महंगा! इस वजह से बढ़ेंगी कीमतें, जाने सबकुछ

पुराने मॉडल्स की कीमत में 4-5 प्रतिशत की बढ़ोतरी होनी तय है

फोन को तैयार करने में लगने वाले कंपोनेंट्स (Phone Component) की कीमतों में इजाफा होना जिसका सीधा असर फोन की कीमत पर भी पड़ रहा है. एक तो कंपोनेंट्स की कीमत बढ़ता तो दूसरी तरफ चिप (shortage of chip) की दुनिया भर में हो रही कमी इस समय मोबाइल कंपनियों के लिए चिंता का विषय है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. मोबाइल कंपनियों (Mobile companies ) ने अपने-अपने फोन की कीमतों (Price Hike) में इजाफा करना शुरू कर दिया है. वहीं उम्मीद की जा रही है की आने वाले दिनों में स्मार्टफोन (Smartphone) खरीदना थोड़ा और महंगा पड़ सकता है. जिसकी वजह है कि फोन को तैयार करने में लगने वाले कंपोनेंट्स (Phone Component) की कीमतों में इजाफा होना जिसका सीधा असर फोन की कीमत पर भी पड़ रहा है. एक तो कंपोनेंट्स की कीमत बढ़ता तो दूसरी तरफ चिप (shortage of chip) की दुनिया भर में हो रही कमी इस समय मोबाइल कंपनियों के लिए चिंता का विषय है. स्मार्टफोन मैन्युफैक्चरर शाओमी (Xiomi) इंडिया के प्रवक्ता ने बताया, "स्मार्टफोन में इस्तेमाल होने वाले डिस्प्ले पैनल, बैक पैनल, बैटरी पैक जैसे कंपोनेंट्स की कॉस्ट पिछले कुछ महीने में बढ़ी है. इसके साथ ही डॉलर भी मजबूत हो रहा है.


    चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरर 


    हालांकि, शाओमी का दावा है कि वह कम प्राइस वाले स्मार्टफोन की कीमतों में बढ़ोतरी नहीं करेगी और उसकी किसी भी प्रोडक्ट पर 5 प्रतिशत से अधिक प्रॉफिट कमाने की योजना नहीं है. एक मोबाइल फोन डीलर ने मनीकंट्रोल को बताया कि पिछले कुछ सप्ताह में शाओमी नोट 10 का प्राइस लगभग 500 रुपये बढ़ा है. चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरर है लेकिन इसके लिए वह चिप या सेमीकंडक्टर के इम्पोर्ट पर निर्भर है. 


    ये भी पढ़ें -  Moody's ने घटाया भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान, FY2022 में 9.3 फीसदी रह सकती है आर्थिक वृद्धि की रफ्तार




    सबसे बड़ा मैन्युफैक्चरर ताइवान बढ़ती डिमांड को पूरा नहीं कर पा रहा


    दुनिया में सेमीकंडक्टर का सबसे बड़ा मैन्युफैक्चरर ताइवान बढ़ती डिमांड को पूरा नहीं कर पा रहा. चिप बनाने वाली प्रमुख कंपनियों ने चेतावनी दी है कि यह कमी अगले वर्ष भी जारी रहेगी. चिप की डिमांड 5G टेक्नोलॉजी आने के बाद और बढ़ने की संभावना है. टेक्नोलॉजी मार्केट रिसर्च फर्म काउंटरप्वाइंट रिसर्च का कहना है कि मौजूदा स्थिति को देखते हुए पुराने मॉडल्स की कीमत में 4-5 प्रतिशत की बढ़ोतरी होनी तय है.


    इस वर्ष के पहले क्वॉर्टर में देश में स्मार्टफोन की 3.8 करोड़ से अधिक शिपमेंट 


    इस बारे में मनीकंट्रोल की ओर से भेजे गए प्रश्नों का सैमसंग ने उत्तर नहीं दिया. हाल ही में सैमसंग की एनुअल शेयरहोल्डर्स मीटिंग में चिप की कमी की जानकारी दी गई थी. इस वर्ष के पहले क्वॉर्टर में देश में स्मार्टफोन की 3.8 करोड़ से अधिक शिपमेंट दर्ज की गई थी. यह वर्ष-दर-वर्ष आधार पर लगभग 23 प्रतिशत की ग्रोथ है. हालांकि, कोरोना की दूसरी लहर से हो रही तबाही के कारण आने वाले क्वॉर्टर्स में स्मार्टफोन की बिक्री में कुछ कमी आने की आशंका है.

    Published by:Amit Deshmukh
    First published: