लाइव टीवी

स्टूडेंट्स के लिए आसान हुआ कॉलेज के पास घर पाना, इस कंपनी ने शुरू की सर्विस

News18Hindi
Updated: March 28, 2019, 3:22 PM IST
स्टूडेंट्स के लिए आसान हुआ कॉलेज के पास घर पाना, इस कंपनी ने शुरू की सर्विस
छात्र इस सर्विस की मदद से आसानी से अपने कॉलेज के पास हॉस्टल पा सकते हैं.

छात्र इस सर्विस की मदद से आसानी से अपने कॉलेज के पास हॉस्टल पा सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2019, 3:22 PM IST
  • Share this:
नए शैक्षणिक सत्र में प्रवेश शुरू होने में अभी कुछ दिन बाकी है लेकिन उससे पहले ही एक स्टार्ट-अप कंपनी स्टैंजा लिविंग ने देश की राजधानी नई दिल्ली और आसपास के इलाके में विद्यार्थियों के लिए हाईटेक फैसिलिटी से लैस 2000 बेड के टेक इनेबल्ड हॉस्टल की सुविधा मुहैया करवाई है, जहां छात्रों के लिए खाना-खाने से लेकर अन्य सभी सुविधाएं मिलेगी. ऐसे में अगर आप या आपके जानने वाले छात्र ने दिल्ली के आस-पास इलाके में स्थित किसी भी कॉलेज में एडमिशन लिया है और उसे हॉस्टल नहीं मिल रहा है तो इस सर्विस का लाभ उठाकर आप आसानी से हॉस्टल पा सकते हैं. आइए जानते हैं इसके लिए आपको कितने रुपये देने होंगे और कैसे आप हॉस्टल बुक कर सकते हैं.

अगर आप स्टैंजा लिविंग से हॉस्टल लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको सबसे पहले इसके वेबसाइट www.stanzaliving.com पर जाना होगा, इसके बाद आपके सामने एक पेज खुलेगा जहां आपको जगह का नाम और कॉलेज का नाम इंटर करना होगा. अब आपके गो पर टैप करना है, इसके बाद आपके सामने होस्टल का फोटो और यह रूम लड़कियों के लिए है या लड़कों के लिए इसकी जानकारी आपके सामने आ जाएगी, जिसे सिलेक्ट कर आपको अपने हिसाब से हॉस्टल चुन सकते हैं.

ये भी पढ़ें: शुरू हुई JioPhone 2 की सेल, ऐसे कर सकते हैं खरीदारी

वहीं अगर पैसों को बात करें तो यहां से आप प्रति छात्र किराया 7000 से लेकर 25000 रुपये का होस्टल ले सकते हैं. बता दें कि स्टैंजा लिविंग के संस्थापक अनिंद्या दत्ता और संदीप डालमिया भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) अहमदाबाद से एमबीए कर चुके हैं और इन्होंने 2017 में स्टैंजा लिविंग की शुरुआत की है. इसके बारे में बात करते हुए अनिंद्या दत्ता ने बताया है कि हमने महज 100 छात्रों के लिए जरूरी सुविधाओं के साथ पिछले साल अपनी स्टार्ट-अप कंपनी खोली थी लेकिन आज स्टैंजा लिविंग के पास दिल्ली एनसीआर में 2000 बेड की सुविधा से लैस तीन आवासीय परिसर हैं. उन्होंने बताया कि अब तक कंपनी को 115 करोड़ का फंड मिल चुका है.



ये भी पढ़ें: खो गया है voter ID कार्ड, तो ऐसे पाएं डुप्लीकेट कॉपी और करें वो

 

 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 28, 2019, 1:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,709

     
  • कुल केस

    6,412

     
  • ठीक हुए

    503

     
  • मृत्यु

    199

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 10 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,151,685

     
  • कुल केस

    1,604,072

    +788
  • ठीक हुए

    356,656

     
  • मृत्यु

    95,731

    +38
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर