Home /News /tech /

इस ATM फ्रॉड की वजह से SBI ने घटाई पैसे निकालने की लिमिट

इस ATM फ्रॉड की वजह से SBI ने घटाई पैसे निकालने की लिमिट

डिजिटल ट्रांजैक्शंस को बढ़ावा देने और ATM फ्रॉड के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए विदड्रा लिमिट घटाई गई है.

डिजिटल ट्रांजैक्शंस को बढ़ावा देने और ATM फ्रॉड के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए विदड्रा लिमिट घटाई गई है.

स्कीमिंग के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ATM से रोज निकाले जाने वाले पैसों की लिमिट घटाई है.

    देश के सबसे बड़े बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने ATM से रोजाना पैसे निकालने की सीमा (लिमिट) को 40,000 रुपये से घटाकर 20,000 रुपये कर दिया है. ATM से पैसे निकालने की नई लिमिट 31 अक्टूबर से प्रभावी होगी. डिजिटल ट्रांजैक्शंस को बढ़ावा देने और ATM फ्रॉड (धोखाधड़ी) के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए ऐसा किया गया है.

    लगातार बढ़ रहे हैं ATM फ्रॉड के मामले
    स्टेट बैंक ने अपने ऑफिसेज से कहा है, 'ATM पर धोखाधड़ी वाले ट्रांजैक्शंस को लेकर ग्राहकों की तरफ से मिलने वाली शिकायतों में लगातार बढ़ोतरी और डिजिटल, कैशलेस ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने के लिए क्लासिक (Classic) और Maestro प्लेटफॉर्म पर जारी किए गए डेबिट कार्ड्स से कैश निकालने की लिमिट घटाई गई है.' स्कीमिंग (Skimming) सबसे ज्यादा होने वाले ATM फ्रॉड में से एक है. इस फ्रॉड में क्रिमिनल्स छिपाए गए कैमरों और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का इस्तेमाल लोगों के ATM PIN चुराने में करते हैं.

    स्कीमिंग के बढ़ते मामलों के कारण घटाई पैसे निकालने की लिमिट
    स्कीमिंग के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ATM से रोज निकाले जाने वाले पैसों की लिमिट घटाई है. ATM स्कीमिंग में बैंक ग्राहक के ATM से जुड़ी इंफॉर्मेशन को चुराया जाता है. इन दिनों स्कीमिंग के ही सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं. इस धोखाधड़ी के कारण देश भर में बैंक के ग्राहकों को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है. स्कीमिंग करने के लिए क्रिमिनल्स और हैकर्स ATM मशीन के कार्ड स्लॉट में स्कीमर्स नाम के छोटे डिवाइस को इंस्टॉल कर देते हैं. ये स्कीमर्स ATM कार्ड के मैग्नेटिक स्ट्रिप में दी गई इंफॉर्मेशन को चुरा लेते हैं.

    ATM पिन चुराने के लिए कैमरे लगा देते हैं क्रिमिनल्स
    इसके अलावा, ATM पिन डालने के लिए जहां नंबर लिखे होते हैं, उसके ठीक ऊपर ही क्रिमिनल्स कैमरा लगा देते हैं. इन डिटेल्स को चुराने के बाद इनका इस्तेमाल कार्ड क्लोन करने या ऑनलाइन शॉपिंग करने में किया जाता है. कई बार क्रिमिनल्स ATM कीपैड के ऊपर एक पतली फिल्म (पर्त) भी लगा देते हैं, जिससे वे ATM पिन चुरा लेते हैं.

    ऐसे कर सकते हैं स्कीमर्स की पहचान
    थोड़ी सावधानी बरतकर आप स्कीमर्स को पहचान भी सकते हैं. अगर कार्ड रीड करने वाला स्लॉट (जिस जगह पर आप ATM कार्ड लगाते हैं) सामान्य से ज्यादा लंबा लिखे तो ATM मशीन के साथ छेड़छाड़ हो सकती है. अगर कार्ड रीड करने वाला स्लॉट लूज (ज्यादा ढीला) लगे तो भी ATM मशीन के साथ छेड़छाड़ की बात हो सकती है. आप कुछ सावधानी बरतकर स्कीमिंग से आसानी से बच सकते हैं. जब भी आप ATM मशीन में अपना पिन नंबर डालें तो एक हाथ से कवर करके पिन डालें. अगर आपको लगे कि आपके ATM डिटेल्स चोरी हो गए हैं तो बिना देरी लगाए अपने बैंक को सूचित करें.

    Tags: Largest lender SBI, Sbi, SBI Bank, SBI loan, Tech news, Tech news hindi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर