लाइव टीवी
Elec-widget

जापान में बच्चे बीमार होने पर भेज सकेंगे अपनी जगह रोबोट को स्कूल

News18Hindi
Updated: November 29, 2019, 12:03 PM IST
जापान में बच्चे बीमार होने पर भेज सकेंगे अपनी जगह रोबोट को स्कूल
ओरी हैम एक छोटे बस्ट-आकार का रोबोट है

ओरी लेबोरेटरी (Ory Laboratory) द्वारा विकसित इस रोबोट का नाम 'ओरी हैम' (Ori Hime) रखा गया है. ओरी हैम एक छोटे बस्ट-आकार का रोबोट है, जिसे काउंटर टॉप या डेस्क पर रखा जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 12:03 PM IST
  • Share this:
टोक्यो. जापान (Japan) में एक स्कूल ने एक पायलट प्रोग्राम (Pilot Program) शुरू किया है जो स्कूली बच्चों के बीमार होने पर उनकी जगह क्लास में रोबोट भेजने देगा. यह प्रोग्राम टोक्यो (Tokyo) के उत्तर में 60 मील दूर टेम्बो-हिगाशी (Tomobe-Higashi) में आयोजित किया जा रहा है. ओरी लेबोरेटरी द्वारा विकसित इस रोबोट का नाम 'ओरी हैम' रखा गया है. ओरी हैम (Ori Hime) एक छोटे बस्ट-आकार का रोबोट है, जिसे काउंटर टॉप या डेस्क पर रखा जा सकता है.

इसमें दो हाथ जैसे फ्लैप हैं और इसके सिर में एक कैमरा लगा हुआ है. जिसे टचस्क्रीन टैबलेट से दूर से भी कंट्रोल किया जा सकता है.

sciencetech, Japan, Ori Hime, Ory Laboratory, robot in classroom, Tokyo, Robot, पायलट प्रोग्राम, जापान, ओरी लिबरटी, ओरी हैम, कक्षा में रोबोट
(Photo : Dailymail)


31 अक्टूबर के बाद से, टेम्बो-हिगाशी स्कूल के सभी बीमार स्टूडेंट को अपना खुद का ओरी हैम सौंपा गया है, जो उनके डेस्क पर रखा गया है. रोबोट के सिर पर लगे कैमरे से बच्चे क्लास का लाइव फीड देख सकते है. ओरी हैम में लगे माइक और स्पीकर के जरिए दूर बैठे बच्चें बात करने में भी सक्षम होंगे.

क्लास रूम के पूरे एरिया को देखने के लिए छात्र रोबोट के सिर को आसानी से घुमा सकते हैं और इससे कई एक्टिविटी भी करवा सकेंगे. एक छात्र कानै सूदो (11) ने ओरी हैम को यूज किया और इसके अनुभव को शेयर किया. कानै ने पास के हॉस्पिटल रूम से साइंस मेले में भाग लिया था.

sciencetech, Japan, Ori Hime, Ory Laboratory, robot in classroom, Tokyo, Robot, पायलट प्रोग्राम, जापान, ओरी लिबरटी, ओरी हैम, कक्षा में रोबोट
(Photo : Dailymail)


असिस्टेंट प्रिंसिपल नोबोरू टाची ने कहा कि Robot रोबोट को बहुत आसानी से संचालित किया जा सकता है और छात्रों को ऐसा लगता है कि वे वास्तव में क्लास में बैठे हैं. हम इसे पूर्ण पैमाने पर शुरू करने पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं.
Loading...

कंपनी के सीईओ केंटारो योशिफुजी ने बताया कि 10-14 साल की उम्र में बीमारी के चलते वो खुद स्कूल नहीं जा पाए थे. उन्होंने इस परिस्थिति से जूझ रहे लोगों की मदद करने के लिए रोबोट का उपयोग करने के लिए रिसर्च करना शुरू किया था.

ये भी पढ़ें : लुट गया यह शख्स, 10 करोड़ के गेम को दोस्त ने 40 हज़ार रुपये में बेच दिया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोबाइल-टेक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 11:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...