ऑनलाइन पेमेंट में इन बातों का रखें ध्यान नहीं तो अकाउंट से गायब हो सकते हैं पैसे

इस बढ़ते हुए डिजिटल पेमेंट के बीच में फ्रॉड होने के भी काफी चांसेज़ रहते हैं, खासकर उन लोगों के लिए ज्यादा दिक्कत है जो लोग डिजिटल पेमेंट के बारे में सीख रहे हैं.

News18Hindi
Updated: August 10, 2019, 7:03 AM IST
ऑनलाइन पेमेंट में इन बातों का रखें ध्यान नहीं तो अकाउंट से गायब हो सकते हैं पैसे
इस बढ़ते हुए डिजिटल पेमेंट के बीच में फ्रॉड होने के भी काफी चांसेज़ रहते हैं, खासकर उन लोगों के लिए ज्यादा दिक्कत है जो लोग डिजिटल पेमेंट के बारे में सीख रहे हैं.
News18Hindi
Updated: August 10, 2019, 7:03 AM IST
हाल ही में सरकार ने डिजिटल पेमेंट (Digital Payment) को बढ़ावा देने के लिए बीबीपीएस (BBPS) से बिल पेमेंट (Bill Payment) के सुविधा शुरू की और एनईएफटी (NEFT) की सुविधा को चौबीस घंटों तक देने की भी घोषणा की. लेकिन इस बढ़ते हुए डिजिटल पेमेंट के बीच में फ्रॉड होने के भी काफी चांसेज़ रहते हैं, खासकर उन लोगों के लिए ज्यादा दिक्कत है जो लोग डिजिटल पेमेंट के बारे में सीख रहे हैं. ऐसे लोगों के साथ आसानी से धोखाधड़ी हो जाती है. ऐसा तब होता है जब आपकी ओटीपी गलत हाथों में पड़ जाती है. लेकिन कुछ तरीकों को अपनाकर हम ओटीपी के फ्रॉड से बच सकते हैं-

कैसे होता है ओटीपी फ्रॉड?
जब हम ऑनलाइन पेमेंट करते हैं तो सही व्यक्ति की पहचान के लिए हमारे नंबर पर या मेल पर एक ओटीपी यानी वन टाइम पासवर्ड आता है. इस ओटीपी के बिना पेमेंट नहीं हो सकता. इसीलिए इस बात की हिदायत दी जाती है कि पासवर्ड किसी से शेयर न करें. लेकिन धोखाधड़ी करने वाले किसी न किसी तरह इस पासवर्ड तक ऐक्सेस पा लेते हैं और इसकी मदद से अकाउंट से एक बड़ी रकम गायब कर देते हैंं. लेकिन कुछ कदमों को उठाकर इस तरह के फ्रॉड से बचा जा सकता है-

प्ले स्टोर से डाउनलोड की गई सुरक्षित ऐप का ही करें इस्तेमाल-

स्मार्टफोन में यूज़ की जाने वाली कई तरह की ऐप्स की मदद से भी फोन में मौजूद दूसरे डिटेल्स और ओटीपी चुरा लेते हैं, भले ही ये ऐप टॉर्च या कैलकुलेटर हो. ऐसे में प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से डाउनलोड की गईं ऑफिशल ऐप्स ही इस्तेमाल करें.

ट्रस्टेड सोर्स से ही करें पेमेंट-
जब भी आप डिजिटल पेमेंट करते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि इसे ट्रस्टेड सोर्स से ही किया जाए. इसके अलावा इस बात पर भी ध्यान रखें कि कितनी रकम कटने वाली है क्योंकि फ्रॉड होने पर अमूमन बड़ी रकम आपके अकाउंट से गायब हो सकती है. इसलिए अगर सोर्स विश्वसनीय न लगे तो फौरन पेमेंट कैंसल कर दें.
Loading...

किसी से भी शेयर न करें ओटीपी-
इस मामले में सबसे जरूरी स्टेप है कि आप किसी से भी अपना ओटीपी शेयर न करें. इसी तरह से कॉल, वॉट्सऐप या ईमेल पर सामने कोई भी हो, भले ही वह खुद के बैंककर्मी होने का दावा करे, आपको ओटीपी शेयर नहीं करना है. बैंक कभी भी अकाउंट होल्डर से ओटीपी नहीं पूछते, ऐसे में झूठ बोलकर कोई आपको फ्रॉड का शिकार बना सकता है.

सिर्फ पेमेंट के लिए ही चाहिए ओटीपी रिसीव करने के लिए नहीं-
इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि पैसे रिसीव करने के लिए आपको ओटीपी की ज़रूरत नहीं होती है, बल्कि सिर्फ भुगतान करने के लिए ही ओटीपी चाहिए. कई मामले सामने आए हैं, जिनमें फ्रॉड करने वाला खुद पैसे भेजने की बात कहकर विक्टिम से ओटीपी पूछ लेता है और बदले में उसका ही अकाउंट खाली कर देता है.

 
First published: August 10, 2019, 7:03 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...