अपना शहर चुनें

States

5G ट्रायल के इंतज़ार में टेलीकॉम कंपनियां, COAI ने दूरसंचार विभाग को लिखी चिट्ठी

5G स्पेक्ट्रम के ट्रायल में हो रही देरी को लेकर अब टेलीकॉम कंपनियां सवाल उठाने लगी हैं.
5G स्पेक्ट्रम के ट्रायल में हो रही देरी को लेकर अब टेलीकॉम कंपनियां सवाल उठाने लगी हैं.

टेलीकॉम कंपनियों के मुताबिक 5G सेवाओं के ट्रायल के लिए सरकार ने 2018 में कमेटी बनाकर काम करना शुरू किया था. लेकिन अब तक 5G ट्रायल के लिए स्पेक्ट्रम का आवंटन नहीं किया जा सका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2020, 9:46 AM IST
  • Share this:
टेलीकॉम कंपनियों (telecom companies) की संस्था COAI ने दूरसंचार विभाग को चिट्ठी लिखकर जल्द से जल्द 5G ट्रायल (5G Trial) शुरू करने की मांग की है. COAI के मुताबिक उन्होंने जनवरी में 5G ट्रायल के लिए आवेदन किया था लेकिन अब तक सरकार से कोई मंजूरी नहीं मिली है. 5G स्पेक्ट्रम के ट्रायल में हो रही देरी को लेकर अब टेलीकॉम कंपनियां सवाल उठाने लगी हैं. टेलीकॉम कंपनियों के मुताबिक 5G सेवाओं के ट्रायल  के लिए सरकार ने 2018 में कमेटी बनाकर काम करना शुरू किया था. लेकिन अब तक 5G ट्रायल के लिए स्पेक्ट्रम का आवंटन नहीं किया जा सका है.

अब COAI ने दूरसंचार विभाग को चिट्ठी लख कर न सिर्फ 5G ट्रालय जल्द शुरु करने की मांग रखी है बल्कि अपनी कुछ मांगे भी रखी हैं. इन कंपनियों का कहना है कि 5G स्पेक्ट्रम ट्रायल के लिए कम से कम 1 साल का वक्त दिया जाए. किसी भी लोकेशन पर ट्रायल की इजाजात दी जाए. सरकार ट्रायल के लिए नोडल अधिकारी की नियुक्ति करे. कंपनियों को सिंगल विंडो क्लियरेंस दिया जाए.

(ये भी पढ़ें- इतना सस्ता हो गया Nokia का ये बजट स्मार्टफोन, कीमत सिर्फ 6,999 रुपये! जानें खासियत)





कंपनियां जरूरत के मुताबिक उपकरणों की लोकेशन बदल सकें. लैब ट्रायल के लिए किसी भी वेंडर के चुनाव की मंजूरी हो. मेक इन इंडिया सॉल्यूशन लगाने के लिए अलग अलग मंजूरी ना लेना पड़े और ट्रायल के लिए बाहर से मंगाए उपकरणों के पर कोई इंपोर्ट ड्यूटी न लगे.

दरसअल सरकार अभी तक चाइनीज कंपनियों को 5G ट्रायल से बाहर रखने पर फैसला नहीं ले सकी है. ऐसे में अभी तक 5G ट्रायल शुरू नहीं हो सके हैं. दूरसंचार विभाग ने 5G सेवाओं का रोडमैप तैयार करने के लिए आठ वर्किंग ग्रुप बनाएं हैं यह वर्किंग ग्रुप अपने रिपोर्ट इसी महीने में सरकार को सौंप सकते हैं. इन वर्किंग ग्रुप में चाइनीस कंपनी को भी शामिल किया गया है. कई देशों में 5G सेवाएं शुरू हो चुकी है लेकिन भारत अभी तक इसके ट्रायल पर फैसला नहीं ले सका है ऐसे में ग्राहकों को 5G सेवाओं के लिए लंबा इंतजार करना पड़ सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज