Google Play Store से कहीं आपने भी तो नहीं डाउनलोड किए ये Fake Apps, झट से करें डिलीट

News18Hindi
Updated: September 12, 2019, 9:35 AM IST
Google Play Store से कहीं आपने भी तो नहीं डाउनलोड किए ये Fake Apps, झट से करें डिलीट
यूज़र्स को धोखा देने के लिए 'Scan device for virues' जैसे फंक्शन्स भी ऑफर करते हैं, लेकिन इनका मकसद ऐड दिखाना होता है

गूगल प्ले स्टोर (Google Play Store) में कई ऐसे फेक (Fake) एंटीवायरस ऐप्स मौजूद हैं जो कि वास्तविक एंटी वायरस की नकल करते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 12, 2019, 9:35 AM IST
  • Share this:
क्विक हील (Quick Heal) सिक्योरिटी लैब्स द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि गूगल प्ले स्टोर (Google Play Store) में कई ऐसे फेक (Fake) एंटीवायरस ऐप्स मौजूद हैं जो कि वास्तविक एंटी वायरस की नकल करते हैं. वायरस क्लीनर (Virus Cleaner) और एंटी वायरस (Anti Virus) नाम के इन फेक ऐप्स को एक लाख से भी ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है. ये असली ऐप की नकल करते हैं और यूज़र्स को धोखा देने के लिए 'Scan device for virues' जैसे फंक्शन्स भी ऑफर करते हैं, लेकिन इनका मकसद ऐड दिखाना होता है, ताकि ये ज्यादा से ज्यादा रेवेन्यू जेनेरेट कर सकें.

ऐड देना है मकसद
इन ऐप्स में किसी तरह का एंटी वायरस इंजन नहीं होता है, ना ही वायरस को स्कैन करने की क्षमता होती है. इनके पास केवल पहले से निर्धारित मलीशियस ऐप्स की लिस्ट होती है. रिपोर्ट में बताया गया कि ये लिस्ट भी अपडेट नहीं की गई है. ये लिस्ट संभावित नुकसान पहुंचाने वाले एंटी वायरस की ओर इशारा करती है. इस लिस्ट को कभी भी अपडेट होते हुए नहीं देखा गया. इस लिस्ट में whiteList.json के साथ कुछ वाइटलिस्ट पैकेज के नाम और blackPackages.json के साथ कुछ ब्लैकलिस्टेड पैकेज के नाम होते हैं.

मैलवेयर स्कैन करने का कोई फंक्शन नहीं

इस लिस्ट का प्रयोग वास्तविक स्कैनिंग करने के लिए होता है. उसी के आधार पर स्कैन करके यह फाइनल स्कैन रिजल्ट दिखाता है. फर्म ने बताया कि इन फेक ऐप्स में मैलवेयर स्कैन करने से जुड़ा कोई भी फंक्शन नहीं होता है. ना ही ये सिक्योरिटी से जुड़ी कोई दूसरी समस्या का समाधान कर सकते हैं. ये यूज़र्स को सिर्फ फेक वायरस डिटेक्शन एलर्ट दिखाते हैं लेकिन इनका मकसद सिर्फ ऐड दिखाना होता है.

ऐसे करें बचाव
यह पहली बार नहीं है कि इस तरह की घटना सामने आई है. गूगल लगातार ऐसे ऐप्स को प्ले स्टोर से बाहर करने की कोशिश भी करता रहता है और इनकी पहचान करने के लिए कई तरीके भी अपना रहा है. फिर अपने स्तर पर बचाव के लिए ज़रूरी है कि हमेशा टेस्टेड और अच्छी तरह से जाने हुए यानी भरोसेमंद ऐप को ही डाउनलोड करें. डाउनलोड करने से पहले रिव्यू भी देखें. अच्छे रिव्यू वाले ऐप्स को ही डाउनलोड करें.
Loading...

यह भी पढ़ें-

Apple Pencil और स्मार्ट की-बोर्ड के साथ 29,900 रुपये में लॉन्च हुआ Apple iPad
इस वजह से Paytm को रोजाना हो रहा है करीब 11 करोड़ रुपये का नुकसान
Xiaomi की इस टेक्नोलॉजी से 4000mAh बैटरी 25 मिनट में हो जाएगी 50% चार्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2019, 9:11 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...