ट्रंप ने TikTok को दी 90 दिन की मोहलत, नहीं बिका तो अमेरिकी सरकार उठाएगी ये कदम

ट्रंप ने TikTok को दी 90 दिन की मोहलत, नहीं बिका तो अमेरिकी सरकार उठाएगी ये कदम
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने टिकटॉक के भविष्य को लेकर एक नया एग्जीक्युटिव ऑर्डर साइन किया है. (File Photo)

अमेरिका में TikTok की भविष्य को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने एक नया एग्जीक्युटिव ऑर्डर साइन किया है. इस ऑर्डर में उन्होंने कहा कि अगर टिकटॉक को अमेरिका में बिजनेस जारी रखना है तो उन्हें 90 दिनों के अंदर इसे बेचना होगा और सभी मौजूदा डेटा को डिलीट करना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 8:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने शॉर्ट वीडियो मेकिंग ऐप TikTok की पेरेंट कंपनी बाइटडांस (Bytedance) को 90 दिनों की डेडलाइन दी है. ट्रंप ने बाइटडांस को कहा कि वो 90 दिनों के अंदर टिकटॉक के अमेरिकी बिजनेस को बेच दे. चीनी सरकार से तनाव के बीच ट्रंप ने एक एग्जीक्युटिव ऑर्डर साइन किया है जिसमें​ बाइटडांस को 90 दिनों के अंदर टिकटॉक बिजनेस को बेचने की बात है. ट्रंप प्रशासन की तरफ से यह कदम एक ऐसे समय पर उठाया गया है, जब पिछले सप्ताह ही टिकटॉक को एक आदेश दिया गया था. इस आदेश में कहा गया था कि अगर उसे अमेरिका में कारोबार जारी रखना है तो कंपनी को बेचना पड़ेगा.

टिकटॉक को लेकर क्या है अमेरिकी सरकार की चिंता?
बीते कई महीनों से टिकटॉट और उसकी पेरेंट कंपनी बाइटडांस को डेटा प्राइवेसी और सिक्योरिटी प्रैक्टिस को लेकर कई सवालों का जवाब देना पड़ रहा है. व्हाइट हाउस ने लगातार चिंता जाहिर की है कि अमेरिकियों की व्यक्तिगत डेटा टिकटॉक ऐप के जरिए जुटा कर चीनी सरकार के साथ साझा किया जा रहा है. इससे अमेरिकी सुरक्षा को खतरा पैदा हो सकता है.

बाइटडांस पर टिकटॉक बेचने का दबाव
इन्हीं चिंताओं का हवाला देकर ट्रंप प्रशासन बाइटडांस पर टिकटॉक के अमेरिकी बिजनेस को बेचने का दबाव डाल रहा है. बाइटडांस पर दबाव है कि वो टिकटॉक का कारोबार डेटा के साथ किसी अमेरिकी कंपनी को बेचे. डोनाल्ड ट्रंप ने शुरुआत में टिकटॉक की सर्विस को पूरी तरह से बैन करने की भी बात कही थी. हालांकि, बाद में 15 सितंबर तक संभावित अधिग्रहण के लिए मान गये.



यह भी पढ़ें: इंस्टाग्राम Reels फीचर में करेगा ये अपडेट, यूजर्स को मिलेगी बेहतरीन सुविधा

पहले एग्जीक्युटिव ऑर्डर में ट्रंप ने क्या कहा था?
जिस समय माइक्रोसॉफ्ट बाइटडांस के अधिग्रहण की बातचीत में जुटी थी, उस वक्त ट्रंप ने एक एग्जीक्युटिव ऑर्डर साइन किया था. इसमें कंपनी के साथ सभी 'बिजनेस ट्रांजैक्शन' बैन करने की बात कही गई थी. इस आदेश को 20 सितंबर 2020 से लागू किया जाना है. WeChat के लिए भी एक ऐसा ही आदेश जारी किया गया है. वीचैट चीन की Tencent कंपनी की इस मैसेजिंग प्रोडक्ट है.

अब ​बाइटडांस के पास 12 नवंबर तक की मोहलत
अब पहले ऑर्डर के चंद​ दिनों बाद ट्रंप ने एक नये एग्जीक्युटिव ऑर्डर साइन किया है. इसमें कहा बाइटडांस को 90 दिन की डेडलाइन देने के साथ कहा गया है कि वो कंपनी को बेच दे. इसका मतलब है कि बाइटडांस अब टिकटॉक को माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) या अन्य अमेरिकी कंपनी को 12 नवंबर तक बेच सकती है. लेकिन, इस बीच अमेरिकी ईकाईयों से किसी भी तरह का लेनदेन 20 सितंबर को ही बंद कर दिया जाएगा.

टिकटॉक नहीं बिका तो ब्लॉक होने का खतरा
ट्रंप ने नये ऑर्डर में कहा है कि उनके पास पर्याप्त सबूत है, जिससे यह साबित किया जा सकता है कि बाइटडांस अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकता है. इसके पहले एक ऑर्डर में उन्होंने कहा था कि बाइटडांस कुछ ऐसे जानकारियों का प्रसार कर रहा होगा जोकि चीन के लिए लाभप्रद हो.

यह भी पढ़ें: Coolpad ने लॉन्च किया नया बजट फोन, 5G कनेक्टिविटी के साथ 4600mAh की बैटरी

अमेरिकी लोगों के डेटा डिलिट करने की भी जरूरत
90 दिनों के​ अंदर ​विनिवेश टास्क के अलावा ट्रंप द्वारा साइन किए गए ऑर्डर में कहा गया है कि बाइटडांस को अमेरिकी लोगों से जुड़े सभी डेटा डिलीट भी करने होंगे. इसमें Musical.ly ऐप द्वारा जुटाए गए डेटा भी शामिल होंगे. बाद में इस ऐप को टिकटॉक में भी मर्जर कर दिया गया था. साथ ही इस आदेश में अमेरिकी अथॉरिटी को अधिकृत किया गया है कि वो टिकटॉक और बाइटडांस का ऑडिट करें. इसके लिए जरूरी कदम उठाने के लिए एक सिस्टम भी तैयार किया गया है.

टिकटॉक का इस मामले पर क्या कहना है?
हाल में ट्रंप प्रशासन द्वारा जारी आदेश के बाद टिकटॉक ने कहा कि उसकी सर्विस को करोड़ों अमेरिकी लोग पसंद करते हैं. टिकटॉक उनके लिए एंटरटेनमेंट, सेल्फ एक्सप्रेशन और कनेक्शन का एक माध्यम बन गया है. कंपनी ने कहा कि हम अपनी सर्विस देने के लिए प्रतिबद्ध हैं. हमार प्लेटफॉर्म के जरिए कई लोगों का करियर भी जुड़ा हुआ है. इसके पहले कंपनी ने चीनी सरकार के साथ कोई भी डेटा साझा करने की बात को खारिज कर दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading