चीनी ऐप टिकटॉक के ज़रिए ऑनलाइन बाजार में दांव लगाना चाहती है ये बड़ी कंपनी

चीनी ऐप टिकटॉक के ज़रिए ऑनलाइन बाजार में दांव लगाना चाहती है ये बड़ी कंपनी
टिकटॉक की मालिक चीन की कंपनी बाइटडांस है.

टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार के अधिग्रहण की दौड़ में कई कंपनियां हैं, लेकिन प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज माइक्रोसॉफ्ट के साथ वॉलमार्ट को इस दौड़ में आगे जाना जा रहा है.

  • Share this:
न्यूयॉर्क. वॉलमार्ट (walmart) बेशक दुनिया की सबसे बड़ी रिटलेर कंपनी है, लेकिन अमेज़न (Amazon) के ऑनलाइन दबदबे को तोड़ने के इसके प्रयास विफल रहे हैं. क्या इसका जवाब तेजी से बढ़ती तीन साल पुरानी वीडियो ऐप टिकटॉक (Tiktok) है. डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार की बिक्री चाहता है. टिकटॉक की मालिक चीन की कंपनी बाइटडांस है और ट्रंप प्रशासन का दावा है कि इससे राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है.

हालांकि, टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार के अधिग्रहण की दौड़ में कई कंपनियां हैं, लेकिन प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज माइक्रोसॉफ्ट के साथ वॉलमार्ट को इस दौड़ में आगे जाना जा रहा है.

टिकटॉक का ई-कॉमर्स कारोबार आज काफी छोटा है लेकिन इसके अमेरिका में प्रयोगकर्ताओं की संख्या 10 करोड़ है जो देश की आबादी का करीब एक-तिहाई है. इनमें से काफी खरीदार युवा हैं और उन तक परंपरागत मीडिया और विज्ञापनों के जरिये नहीं पहुंचा जा सकता.



(ये भी पढ़ें- Airtel Plan! एक बार रिचार्ज कराने पर पूरा साल चलेगा ये प्लान, मिलेगी फ्री कॉलिंग और कई फायदे)
विभिन्न ब्रांड के लिए ऑनलाइन मार्केटप्लेस बनाने वाली वीटैक्स के मुख्य रणनीति अधिकारी अमित शाह ने कहा, ‘वॉलमार्ट या अमेज़न के भविष्य के ग्राहक वे होंगे, जो टिकटॉक पेशकश करेगी.’

हालांकि, विश्लेषक एक बात को लेकर आशान्वित हैं, टिकटॉक की मदद से वॉलमार्ट ऑनलाइन शॉपिंग बाजार में अपनी पैठ बना सकती है. उनका मानना है कि वॉलमार्ट अपने लॉजिस्टिक्स तथा फुलफिलमेंट क्षेत्र में दबदबे तथा प्रौद्योगिकी के मोर्चे पर माइक्रोसॉफ्ट की मदद से ऑनलाइन बाजार में अपनी उपस्थिति को मजबूत कर सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज