एंड्रॉयड फोन के इस फीचर का इस्तेमाल करके TikTok ने की यूज़र्स की जासूसी- रिपोर्ट

एंड्रॉयड फोन के इस फीचर का इस्तेमाल करके TikTok ने की यूज़र्स की जासूसी- रिपोर्ट
TikTok एंड्रॉयड के MAC एड्रेस का यूज़ करके यूज़र्स का डेटा ट्रैक कर रहा था.

टिकटॉक MAC एड्रेस के ज़रिए एंड्रॉयड यूज़र्स (android users) का डेटा ट्रैक कर रही है. रिपोर्ट में बताया गया कि टिकटॉक ने करीब 15 महीने तक MAC एड्रेस कलेक्ट किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 10:41 AM IST
  • Share this:
टिकटॉक (TikTok) काफी समय से चर्चा में चल रही है और अब इसको लेकर एक और बड़ी खबर सामने आ रही है. पता चला है कि टिकटॉक MAC एड्रेस के ज़रिए एंड्रॉयड यूज़र्स (android users) का डेटा ट्रैक कर रही है. MAC एड्रेस एक यूनीक डिजिटल आइडेंटिफायर (unique digital identifier) होता है, जो कि सभी फोन के साथ अटैच रहता है और उसे रिसेट नहीं किया जा सकता. वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा TikTok एन्क्रिप्शन की एक हिडेन लेयर का इस्तेमाल करके कर सकता है, जो कि Google की ऐप पॉलिसी का उल्लंघन है.

रिपोर्ट में बताया गया कि टिकटॉक ने करीब 15 महीने तक MAC एड्रेस कलेक्ट किया था और ये ट्रैकिंग पिछले साल नवंबर में समाप्त हो गई थी. टिकटॉक के एक प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी टिकटॉक कम्युनिटी की प्राइवेसी और सेफ्टी की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध थी. आगे कहा गया कि अपने साथियों की तरह टिकटॉक भी लगातार सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए अपने ऐप को अपडेट करता है.

(ये भी पढ़ें- ये 6 चीज़ें देखें बिना कभी ना खरीदें नया स्मार्टफोन, कर सकता है हमेशा परेशान!)



बयान में ये भी पुष्टि की गई है कि टिकटॉक का मौजूदा वर्जन MAC एड्रेस को इकट्ठा नहीं करता है. साथ ही ही ये भी कहा गया, ‘हम हमेशा अपने यूज़र्स को टिकटॉक के सबसे लेटेस्ट वर्जन को डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं’. Google के एक प्रतिनिधि ने कहा कि वह कंपनी के इन दावों की जांच कर रही है.
इंडिया और US में बैन हुआ TikTok
जानकारी के लिए बता दें हाल ही में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने टिकटॉक पर बैन लगाने का आदेश दिया है. उन्होंने इस ऐप को देश की सुरक्षा के लिए खतरा बताया है. आदेश के मुताबिक अमेरिका टिकटॉक चलाने वाली चीन की कंपनी बाइटडांस के साथ अगले कुछ दिनों तक कोई कारोबार नहीं करेगी. ट्रंप ने आरोप लगाया है कि टिकटॉक यूज़र्स के डेटा को चीन की सरकार को देती है. बता दें कि इसी साल जून में भारत ने भी टिकटॉक पर बैन लगा दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज