लाइव टीवी

74 देशों के कंप्यूटरों को खराब करने वाला लैपटाप इतने में हुआ नीलाम

News18Hindi
Updated: May 31, 2019, 12:12 PM IST

सैमसंग कंपनी का यह लैपटॉप विंडोज एक्सपी के एसपी 3 ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है. खास बात यह है कि लैपटॉप के लिए एक वेबसाइट भी है.

  • Share this:
विश्व में 74 देशों के कंप्यूटरों को खराब करने वाला लैपटॉप अमेरिका में नीलाम हुआ है, वो भी पूरे 9 करोड़ रुपए में. दरअसल यह कोई साधारण लैपटॉप नहीं है, बल्कि खतरनाक वॉना क्राई वायरस से भरा हुआ डिवाइस है. जिसके कारण दुनिया भर के देशों को करीब 6.64 लाख करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है. साथ ही इसकी वजह से 2017 में इंग्लैड की स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से ठप हो गई थीं.

दरअसल इस लैपटॉप में दुनिया की खतरनाक वायरसों की श्रेणी में आने वाले 6 डिजिटल वायरसों को भरा गया है. इन छह वायरसों में सबसे लोकप्रिय वायरस वॉना क्राई रैनसमवेयर है. इसके अलावा इस लैपटॉप में भरी गईं अन्य वायरस हैं- आई लव यू, माई डूम, डार्क तकीला, सो बिग और ब्लैक एनर्जी. गौरतलब है कि इस वायरस से दुनिया के कई देशों के साथ-साथ यूके के नेशनल हेल्थ सर्विसेस पूरी तरह से चरमरा गई थी.

बता दें कि यह डिवाइस इतना खतरनाक है कि इसके इलेक्ट्रॉनिक पार्ट्स और केबल्स को अलग से वैक्यूम में रखा जाता है. साथ ही किसी भी तरह के कुप्रभावों से बचने और खतरनाक वायरस लैपटॉप से बाहर न निकले इसके लिए इंटरनेट और कनेक्टिविटी पोर्ट्स को भी बंद रखा जाता है.

सूत्रों को अनुसार इस खतरनाक लैपटॉप की नीलामी में इस प्रकार बोली लगाई जा रही थी कि मानो यह कोई कला का नमूना हो. हालांकि 10 लाख पाउंड में इस लैपटॉप को खरीदने वाले व्यक्ति के नाम का खुलासा नहीं किया गया है. बता दें कि सैमसंग कंपनी का यह लैपटॉप विंडोज एक्सपी के एसपी 3 ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है. खास बात यह है कि लैपटॉप के लिए एक वेबसाइट भी है. इसमें लैपटॉप को 24 घंटे लगातार ब्रॉडकास्ट किया जाता है.

वहीं इस लैपटॉप में वायरस को इंस्टाल करने वाले गुओ ओ डॉन्ग की तरफ से ये कहा जा रहा है कि वो इसे वायरस से भरा आर्ट पीस ही बनाना चाहते थे. उन्होंने इसका नाम परसिस्टेंस ऑफ केओस रखा था. यानि इसका निर्माता इस अराजकता की सबसे बड़ी जिद बनाना चाहता था.

ये भी पढ़ें: नौकरी पाने के लिए 17 साल के लड़के ने हैक कर लिया एप्पल का सिस्टम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोबाइल-टेक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 30, 2019, 11:46 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर