मोबाइल सिम की तरह काम करेगा आपका TV सेट टॉप बॉक्स! बदलेगा ये नियम

मोबाइल सिम की तरह काम करेगा आपका TV सेट टॉप बॉक्स! बदलेगा ये नियम
ट्राई की कोशिश है कि इस नए नियम के तहत टीवी सेट टॉप बॉक्स को भी मोबाइल के सिम की तरह पोर्टिबिलिटी कराई जा सके.

ट्राई की कोशिश है कि इस नए नियम के तहत टीवी सेट टॉप बॉक्स को भी मोबाइल के सिम की तरह पोर्टिबिलिटी कराई जा सके.

  • Share this:
डीटीएच सर्विस के बाद टीवी के दर्शकों को हमेशा नए बदलाव मिलते रहें है. ग्राहकों की सुविधा को ध्यान में रखकर सरकार भी नए-नए प्रयोग करती है, जिससे ग्राहकों को ज़्यादा से ज़्यादा फायदा हो. अभी अगर हमें टीवी देखने के लिए किसी और का प्लान पसंद आता है तो हमें सर्विस प्रोवाइडर के साथ-साथ पूरा सेटअप बॉक्स भी चेंज करवाना पड़ता है, मगर ट्राई इस परेशानी से छुटकारा दिलाने पर काम कर रही है. टेलीफोन रेग्युलेटरी ऑथारिटी ऑफ इंडिया यानी TRAI एक ऐसे नियम पर विचार कर रही है, जिसे लागू कर दिया जाए तो ग्राहकों को सेट टॉप बॉक्स की समस्या का समाधान मिल जाएगा.

टीवी प्लान के पोर्टिबिलिटी में होंगे ये बदलाव
दरअसल ट्राई टीवी सेट टॉप बॉक्स के नियमों में कुछ बदलाव करना चाहता है. ट्राई की कोशिश है कि इस नए नियम के तहत टीवी सेट टॉप बॉक्स को भी मोबाइल के सिम की तरह पोर्टिबिलिटी कराई जा सके. इस समय हर एक डीटीएच कंपनी का अपना एक अलग सेट टॉप बॉक्स होता है. ऐसे में अगर आप पोर्टिबिलिटी कराते हैं, तो सेट टॉप बॉक्स की समस्या आ जाती है कि अब इसका क्या करें. पुराना सेट टॉप बॉक्स किसी काम का नहीं रह जाता है. ऐसे में सेट टॉप बॉक्स बदलना मुश्किल रहता है. क्योंकि इसे बदलने के लिए पैसे खर्च करने पड़ते हैं.

ग्राहक किसी एक सर्विस प्रोवाइडर का सेट टॉप बॉक्स लेने के बाद बंध जाते हैं. इस लिए ट्राई इस नियम में बदलाव करने के लिए विचार कर रहा है. फिलहाल ये कब से लागू होगा इस बात की कोई जानकारी नहीं है, मगर उम्मीद है कि साल के अंत तक इस पर बदलाव किया जा सकता है. (ये भी पढ़ें- WhatsApp पर सिर्फ चैटिंग ही नहीं, फोटो भी करें Edit, वीडियो में देखें पूरा प्रोसेस)
इससे पहले DTH कंपनियों पर TRAI ने दी थी चेतावनी


नए नियमों का पालन ना करने वाले केबल टीवी और डीटीएच (डायरेक्ट टू होम) सेवा देने वाली कंपनियों को टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने हाल ही में चेतावनी दी है. ट्राई ने कहा है कि जो भी नए शुल्क आदेश और नियामकीय व्यवस्था का उल्लंघन करते पाए जाएंगे, उन्हें उसका खामियाजा भुगतना होगा.

ट्राई उन कंपनियों के मामले में जल्द ही ग्राहकों के लिए सेवा प्रबंधन और अन्य आईटी प्रणाली का ऑडिट भी शुरू करेगा, जो नियामकीय व्यवस्था का उल्लंघन कर रहे हैं. इसको लेकर ट्राई के चेयरमैन आर.एस. शर्मा ने कहा कि उपभोक्ताओं की रुचि व हित सर्वोपरि है और उससे कोई समझौता नहीं किया जा सकता. जो भी कंपनी नियमों का पालन नहीं कर रही है उसे उसका परिणाम भुगतना होगा. (ये भी पढ़ें-WhatsApp खोले बिना भी दिनभर कर सकते हैं दोस्तों से Chatting, यहां देखें पूरा तरीका)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading