Truecaller ने रोलआउट किया नया फीचर, अब स्पैमर की मिलेगी सारी जानकारी

Truecaller ने रोलआउट किया नया फीचर, अब स्पैमर की मिलेगी सारी जानकारी
Truecaller में शामिल हुआ स्पैम एक्टिविटी इंडिकेटर

Truecaller को अपने लेटेस्ट अपडेट में स्पैम रिपोर्ट, कॉल एक्टिविटी और पीक कॉलिंग आवर्स नाम के तीन नए फीचर्स भी मिले हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2020, 11:31 AM IST
  • Share this:
कॉलर आइडेंटिफिकेशन ऐप Truecaller ने बुधवार को एंड्रॉयड यूजर्स के लिए स्पैम एक्टिविटी इंडिकेटर (Spam Activity Indicator) फीचर्स को शामिल किया है जो कि स्मार्टफोन पर स्पैमर की विस्तृत जानकारी देगा. जबकि आधिकारिक वेबसाइट पर फ्री नंबर सर्च और स्पैमर आंकड़े भी उपलब्ध हैं. Truecaller को अपने लेटेस्ट अपडेट में स्पैम रिपोर्ट, कॉल एक्टिविटी और पीक कॉलिंग आवर्स नाम के तीन नए फीचर्स मिले हैं. स्पैम एक्टिविटी इंडिकेटर के जरिए Truecaller स्पैमर को लेकर यूज़र्स को अधिक जानकारी प्रदान कर उन्हें पहले से अधिक सचेत और सुरक्षित बनाने में मदद करेगा.

Truecaller के अधिकारी ऋषित झुनझुनवाला ने एक बयान में कहा, "भारत सबसे तेजी से बढ़ते मोबाइल फोन बाजारों में से एक है. Truecaller हमेशा स्पैमर को लेकर यूज़र्स को कॉल और मैसेज की जानकारी देता है.

इस तरह काम करते हैं तीनों ऐप-
अपडेट के साथ, ऐप तीन नए फीचर्स - स्पैम रिपोर्ट, कॉल एक्टिविटी और पीक कॉलिंग आवर्स दिखाता है. स्पैम रिपोर्ट से पता चलता है कि ट्रूकॉलर पर उस नंबर को कितनी बार स्पैम के रूप में रिपोर्ट किया गया है. यदि यह संख्या बढ़ती या घटती रहती है, तो स्पैम रिपोर्ट सेक्शन में एक प्रतिशत भी दिखाई देता है. कॉल एक्टिविटी से हाल ही में कॉलर ने कितने कॉल किए हैं, जिससे यूज़र्स को कॉल करने वाले पर भरोसा करने या न करने का फैसला लेने में मदद मिलती है. पीक कॉलिंग आवर्स फीचर, जैसा कि नाम से पता चलता है कि स्पैम कॉलर सबसे अधिक सक्रिय किस समय रहता है.
ये भी पढ़ें : 5 कैमरे वाले Realme 6i की आज दोपहर 12 बजे से शुरू होगी सेल, मिलेंगे कई शानदार ऑफर्स



Truecaller ऐप के दुनिया भर में 240 मिलियन से अधिक मंथली एक्टिव यूजर (MAU) हैं, भारत में 150 मिलियन से अधिक मंथली एक्टिव यूजर हैं. Truecaller का कहना है ये आंकड़े फिलहाल स्पैमर की प्रोफाइल पिक्चर पर टैप करने के बाद दिखाई देंगे. हालांकि भविष्य के अपडेट के बाद इन आंकड़ों को कॉलर आईडी में भी दिखाया जाएगा, ताकि यूज़र्स कॉलर को लेकर अपना निर्णय तुरंत ले सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज