वीआईपी फाेन नंबर्स काे लेकर चल रहा है बड़ा स्कैम, आपके पास भी ताे नहीं आया ये मैसेज

गृह मंत्रालय ने भी जारी किया है अलर्ट

गृह मंत्रालय ने भी जारी किया है अलर्ट

इस तरह के स्कैम (Scam) करने वाले दाे तरीकाे से आप तक पहुंचते है पहला सीधे मैसेज करके या फिर whatsApp करके. वाे आपकाे एक बड़ी सी लिस्ट देते है जिसमें अलग-अलग कंपनियाें के वीआईपी नंबर ऑफर किए रहते है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 4:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वीआईपी फाेन नंबर्स (Vip number's)की चाहत किसे नहीं हाेती है. यह बात भी गलत नहीं है जब आप किसी काे अपना नंबर बताते है और यदि वाे फैंसी या वीआईपी नंबर है ताे इसका अलग प्रभाव पड़ता है. लेकिन इसी का फायदा उठाते हुए ठगाें ने लाेगाें से पैसा लूटने के लिए नया स्कैम (Scam) शुरू किया है. जिसमें अब तक लाखाें लाेग भी फंस चुके है. यह लाेग वीआईपी और फैंसी नंबर ऑफर करते है यह नंबर इतने अच्छे रहते है कि लाेग तुरंत इनके चक्कर में आ जाते है और हाे जाते है ठगी का शिकार. ताे आखिर क्या है यह स्कैम, कैसे लाेग ठगी का शिकार हाे रहे है और आप कैसे इससे बच सकते है आज इसके बारे में भी जान लिजिए.

इस तरह का मैसेज आता है

इस तरह के स्कैम (Scam) करने वाले दाे तरीकाे से आप तक पहुंचते है पहला सीधे मैसेज करके या फिर whatsApp करके. वाे आपकाे एक बड़ी सी लिस्ट देते है जिसमें अलग-अलग कंपनियाें के वीआईपी नंबर ऑफर किए रहते है. साथ ही उनकी कीमत भी दी रहती है. वे कहते है कि जाे भी नंबर पसंद हाेगा वाे आपकाे भेज दिया जाएगा. इसके लिए आपकाे ऑनलाइन पेमेंट करना हाेगा है. जिसके बाद आपकाे आपके रजिस्टर्ड पते पर सिम भेजने की बात की जाती है.

ये भी पढ़ें - क्या आपने भी साेशल मीडिया पर अपलाेड किया है अपनी फाेटाे के साथ काेविड वैक्सीन का सर्टिफिकेट, तुरंत हटा ले, हाे सकते हैंं यह नुकसान
यह इतने प्राेफेशनली हाेता है कि आपकाे शक नहीं हाेता क्याेंकि यदि वाे राशि सीधे बैंक अकाउंट में जमा करवा रहे है ताे बकायदा सर्विस प्राेवाइड जैसे वीआई, एयरटेल या अन्य काेई भी उस नाम से मिलता जुलता ही बैंक खाते की डिटेल हाेती है जिससे किसी काे शक ना हाे. पूरे डॉक्यूमेंट भी सबमिट करवाए जाते है केवायसी के लिए. लेकिन घर में सिम के बजाय खाली फाेल्डर आता है. यही नहीं यदि आपकाे मैसेज में कंपनी का लिंक दिया है जाे लगभग वैसी ही लगती है जैसे असली सर्विस प्राेवाइड की कंपनी की वेबसाइट हाेती है.

ऐसे रहते है वीआईपी नंबर

वीआईपी नंबर में काेई एक यूनिक नंबर कई बार हाेता है या फिर कॉम्बिनेशन में हाेता है. लाेग अपने पसंद के नंबर काे कई बार रिपीट चाहते है जाे कि इसमें संभव हाेता है. मसलन यदि आपका लकी नंबर 7 है ताे संभवत दस नंबर के माेबाइल नंबर में यह 7 पांच, छह या सात बार आए. या फिर 75757575 जैसी सीरिज आपकाे मिले. कई लाेग आखिरी में 007, 777,999 चाहते है यह भी फैंसी या कहे वीआईपी नंबर में मिलते है.



ये भी पढ़ें - 23 मार्च को होगा Apple का अगला बड़ा इवेंट! ये नए प्रोडक्ट्स लॉन्च के लिए तैयार, जानें सबकुछ

सरकार भी कर रहे है सचेत

इस तरह की स्कैम की जानकारी गृह मंत्रालय काे भी है कुछ दिन पहले गृह मंत्रालय ने बकायदा इसकी जानकारी देते हुए इससे बचने व इसकी सूचना देने की अपील लाेगाें से की है. यहां तक की इस तरह के मैसेज का स्क्रीनशॉर्ट भी लगाया गया है जिससे लाेग और जल्दी इसे समझ पाए. टि्वट कर इसकी जानकारी दी है जिसमें कई लाेगाें ने यह बताया भी है कि वाे इस स्कैम का शिकार हाे चुके है ताे वहीं कई लाेगाें ने इसे लेकर मदद भी मांगी है.

यहां करे शिकायत

यदि आपके पास भी ऐसा काेई मैसेज आया है ताे आप इसकी शिकायत करनी चाहिए. गृह मंत्रालय ने कहा इस तरह के स्कैम की शिकायत सीधे www.cybercrime.gov.in पर करे. गृह मंत्रालय का कहना है कि ठगी का शिकार हाेने के पहले करे या फिर यदि ठगी के शिकार हाे भी चुके है तब भी इसकी जानकारी दी जिससे इन लाेगाें काे पकड़ा जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज