लाइव टीवी

सावधान! एक्सपर्ट ने कही वॉट्सऐप में खतरनाक वायरस होने की बात, हैकर्स देख सकते हैं प्राइवेट फाइल

News18Hindi
Updated: February 6, 2020, 12:25 PM IST
सावधान! एक्सपर्ट ने कही वॉट्सऐप में खतरनाक वायरस होने की बात, हैकर्स देख सकते हैं प्राइवेट फाइल
एक्सपर्ट्स का कहना है कि WhatsApp में कुछ गड़बड़ी आ गई है जिसकी वजह से हैकर्स पूरी तरह से यूज़र्स के डेटा को एक्सेस कर पा रहे हैं.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि WhatsApp में कुछ गड़बड़ी आ गई है जिसकी वजह से हैकर्स पूरी तरह से यूज़र्स के डेटा को एक्सेस कर पा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2020, 12:25 PM IST
  • Share this:
ज्यादातर लोग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स (Social Media Platforms) का यूज़ करते हैं इसलिए हैकर्स की नज़र भी इनको हैक करने की ओर बनी रहती है. तमाम सुरक्षा उपायों के बावजूद वे कई बार सफल भी हो जाते हैं. ऐसी ही  खबर WhatsApp के बारे में भी आ रही है. बताया जा रहा है कि वॉट्सऐप में कुछ गड़बड़ी आ गई है जिसकी वजह से हैकर्स पूरी तरह से यूज़र्स के डेटा को एक्सेस कर पा रहे हैं. कहा जा रहा है कि इसके जरिए यूज़र्स के फोटो, वीडियो और डॉक्युमेंट्स तक चोरी कर सकते हैं. इसीलिए साइबर एक्सपर्ट्स ने यूज़र्स को सावधान रहने की चेतावनी दी है.

इसके बारे में  PerimeterX के रिसर्चर गाल वेज़मैन ने पता लगाया. रिसर्चर ने कहा कि वॉट्सऐप के कंटेंट सिक्योरिटी पॉलिसी में लूपहोल था. इसकी वजह से वॉट्सऐप के वेब क्लाइंट्स पर भी प्रभाव पड़ा. यह बग विंडोज के साथ ही Mac ऑपरेटिंग सिस्टम को भी अटैक कर रहा है, लेकिन आईफोन यूजर्स को इससे सबसे ज्यादा खतरा है. इस बग के कारण हैकर यूजर्स के कंप्यूटर में मौजूद सभी फाइल्स को आसानी से एक्सेस कर रहे हैं. एक्सपर्ट्स ने यूजर्स को सलाह दी है कि वे फोन में मौजूद वॉट्सऐप ऐप को लेटेस्ट वर्जन से अपडेट कर लें.



साइबर एक्सपर्ट वेज़मैन का कहना है कि कंप्यूटर में मौजूद प्राइवेट फाइल्स को इस्तेमाल करने के लिए हैकर्स जावा स्क्रिप्ट का इस्तेमाल करते हैं. इसके लिए फर्जी लिंक का प्रयोग किया जाता है. जैसे ही यूज़र इस लिंक पर क्लिक करता है वैसे ही हैकर्स को कंप्यूटर का एक्सेस मिल जाता है.

हालांकि, वॉट्सऐप ने इस बात से इनकार किया है कि यूज़र्स के डेटा के साथ छेड़छाड़ की जा सकती है. कंपनी ने प्रवक्ता ने एक बयान जारी कर कहा, 'हम यूजर्स को खतरनाक हैकर अटैक से बचाने के लिए लगातार सिक्योरिटी रिसर्चर्स के संपर्क में रहते हैं. इस बग को दिसंबर 2019 में ठीक कर दिया गया था.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोबाइल-टेक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 11:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर