1 अप्रैल से महंगी होगी Vodafone Idea की सर्विस, AGR बकाया चुकाने के लिए मांगा 18 साल का वक्त

1 अप्रैल से महंगी होगी Vodafone Idea की सर्विस, AGR बकाया चुकाने के लिए मांगा 18 साल का वक्त
कॉल ड्रॉप और खराब सेवाओं के लिए ट्राई ने दी चेतावनी

Vodafone Idea ने एजीआर बकाए के भुगतान के लिए 18 साल की समयसीमा की मांग की है. इसके साथ ही कंपनी ने कहा है कि उसे ब्याज व जुर्माने के भुगतान से तीन साल की छूट भी मिलनी चाहिए.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) ने मोबाइल डेटा (Mobile Data) के लिए शुल्क बढ़ाकर न्यूनतम 35 रुपये प्रति GB की दर तय करने की मांग की है. यह मौजूदा दर का करीब सात-आठ गुना है. कंपनी ने इसके साथ ही एक निर्धारित मासिक शुल्क के साथ कॉल सेवाओं के लिए 6 पैसे प्रति मिनट की दर तय करने की भी मांग की है. कंपनी ने कहा है कि उसे एजीआर (AGR) बकाया का भुगतान करने में सक्षम बनाने और उसके कारोबार को परिचालन योग्य बनाने के लिए एक अप्रैल से ये नई दरें लागू की जानी चाहिए.

AGR बकाया चुकाने के लिए मांगा 18 साल का वक्त
आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, कंपनी ने एजीआर बकाए के भुगतान के लिए 18 साल की समयसीमा की मांग की है. इसके साथ ही कंपनी ने कहा है कि उसे ब्याज व जुर्माने के भुगतान से तीन साल की छूट भी मिलनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: ...तो क्या अभी फायदेमंद नहीं है सुपर फास्ट इंटरनेट वाला 5G स्मार्टफोन खरीदना



53 हजार करोड़ का AGR बकाया


उच्चतम न्यायालय के आदेश के अनुसार, वोडाफोन आइडिया पर करीब 53 हजार करोड़ रुपये का एजीआर बकाया है. कंपनी ने अब तक दूरसंचार विभाग को महज 3500 करोड़ रुपये का ही भुगतान किया है. एक अधिकारी ने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर कहा, 'वोडाफोन आइडिया ने परिचालन में बने रहने के लिए सरकार से कई मांगें की है. कंपनी चाहती है कि एक अप्रैल 2020 से मोबाइल डेटा का शुल्क न्यूनतम 35 रुपये प्रति गीगाबाइट (जीबी) और न्यूनतम 50 रुपये का मासिक कनेक्शन शुल्क निर्धारित हो. ये काफी कठिन मांगें हैं और इन्हें मान पाना सरकार के लिए समस्या है.'

कॉल रेट 6 पैसे करने की मांग
सूत्र के अनुसार, कॉल सेवाओं के लिए भी न्यूनतम छह पैसे प्रति मिनट की दर तय की जानी चाहिए. कंपनी ने ये मांगें ऐसे समय की है जब वह पहले ही पिछले तीन महीने के भीतर मोबाइल सेवाओं की दरें 50 प्रतिशत तक बढ़ा चुकी है. सूत्र ने कहा, 'कंपनी के अनुसार, मोबाइल कॉल और डेटा की दरें बढ़ाने से उसे राजस्व का वह स्तर पाने में मदद मिलेगी जो 2015-16 में आइडिया और वोडाफोन अलग-अलग कमा पा रही थी.

ये भी पढ़ें: 10 करोड़ स्मार्टफोन पर बड़ा खतरा! इन ऐप्स से चोरी हो रहे हैं प्राइवेट फोटोज़

जुर्माने के भुगतान में तीन साल छूट की मांग
कंपनी ने कहा कि उसे राजस्व का वह स्तर पाने में तीन साल लगेंगे, इसी कारण उसने एजीआर जुर्माने व ब्याज के भुगतान में तीन साल की छूट की मांग की है.' वोडाफोन आइडिया के एक प्रवक्ता ने इस बारे में टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. सरकार दूरसंचार कंपनियों के राजस्व के आधार पर लाइसेंस शुल्क और स्पेक्ट्रम उपयाग शुल्क वसूलती है.

ये भी पढ़ें: घर बैठे देख सकेंगे चार धाम मंदिरों की आरती, जियो जल्द शुरू करेगा सीधा प्रसारण
First published: February 28, 2020, 9:24 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading