लाइव टीवी

देश भर के किसानों को तोहफा, अब WhatsApp पर मिलेगी फसल से जुड़ी सभी जानकारी

भाषा
Updated: November 10, 2019, 3:40 PM IST
देश भर के किसानों को तोहफा, अब WhatsApp पर मिलेगी फसल से जुड़ी सभी जानकारी
इन नई योजना के पहले चरण में देश के 115 आकांक्षी जिलों में यह सेवा शुरु कर दी गई है...

इन नई योजना के पहले चरण में देश के 115 आकांक्षी जिलों में यह सेवा शुरु कर दी गई है...

  • Share this:
मौसम विभाग (weather department) अब देश भर के किसानों को मौसम के साप्ताहिक पूर्वामुमान (Weekly forecast) के आधार पर WhatsApp के जरिए यह भी बताएगा कि किस फसल को कब कितना खाद पानी देना है. विभाग अभी किसानों को मोबाइल फोन पर SMS के ज़रिए सिर्फ उनके क्षेत्र में अगले चार पांच दिनों में हवा की गति, संभावित बारिश की मात्रा और ओलावृष्टि जैसी जरूरी जानकारियां दे रहा है. इस सेवा से देश के लगभग चार करोड़ किसानों को जोड़ा जा चुका है.

कृषि मौसम विज्ञान इकाई के प्रमुख वैज्ञानिक रंजीत सिंह ने बताया कि विभाग की कृषि मौसम विज्ञान इकाई ने जिला और ब्लॉक स्तर पर देश के सभी 633 जिलों में किसानों के लिए ‘ग्रामीण कृषि मौसम सेवा’ शुरु करने की प्रक्रिया शुरु कर दी है.

(ये भी पढ़ें-अपने WhatsApp को अभी ना करें अपडेट, फोन में हो रही ये बड़ी दिक्कत...)

Whatsapp,

डॉ सिंह ने बताया कि योजना के पहले चरण में देश के 115 आकांक्षी जिलों में यह सेवा शुरु कर दी गई है. इसके तहत मौसम विभाग के सामंजस्य से सभी जिलों में संचालित किसान विकास केन्द्रों में मौसम और कृषि क्षेत्र के दो विशेषज्ञों को तैनात किया जा रहा है. ये केन्द्र सभी जिलों में ब्लॉक और गांव के स्तर पर किसानों के वॉट्सऐप ग्रुप बना कर सप्ताह में दो दिन (मंगलवार और शुक्रवार) को स्थानीय स्तर पर मौसम की जानकारी के साथ मौसम की उक्त परिस्थितियों में किस फसल को कितना खाद पानी देना है, यह भी बताएंगे.

(ये भी पढ़ें- WhatsApp का अपने 10 लाख यूज़र्स को तोहफा, इस नए फीचर से कई काम होंगे आसान)


Loading...

उन्होंने बताया कि वॉट्सऐप पर किसानों को बारिश की मात्रा, हवाओं के रुख, आद्रता और तापमान सहित मौसम के अन्य पहलुओं के पूर्वानुमान के आधार पर फसलों की बुआई, सिंचाई और कटाई सहित अन्य अहम सुझाव दिए जाएंगे.

डॉ सिंह ने बताया कि इस सेवा के लिये विभाग, अत्याधुनिक एग्रोमेट सॉफ्टवेयर की मदद लेगा. इससे जिला स्तर पर कृषि मौसम बुलेटिन भेजा जाएगा. इस बुलेटिन को ब्लॉक और गांव के स्तर पर बनाए गए किसानों के वॉट्सऐप ग्रुप पर भेज दिया जायेगा. इस सेवा के तहत किसान कृषि संबंधी समस्याओं के समाधान भी विशेषज्ञों से वॉट्सऐप ग्रुप पर प्राप्त कर सकेंगे.
(ये भी पढ़ें- ये हैं 32 सबसे खराब Password, अगर आपने भी रखा है ऐसा कुछ तो तुरंत बदल लें)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 10, 2019, 3:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...