लाइव टीवी

WhatsApp पर सिक्योरिटी को लेकर घबराए यूज़र्स, अब इन दो ऐप्स को कर रहे हैं डाउनलोड

News18Hindi
Updated: November 6, 2019, 11:15 AM IST
WhatsApp पर सिक्योरिटी को लेकर घबराए यूज़र्स, अब इन दो ऐप्स को कर रहे हैं डाउनलोड
WhatsApp

वॉट्सऐप पर हुए डेटा लीक होने का फायदा दो ‘सिक्योर’ मैसेजिंग और कॉलिंग ऐप्स को मिल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2019, 11:15 AM IST
  • Share this:
सिक्योरिटी को लेकर वॉट्सऐप (WhatsApp data breach) पर दुनियाभर में सवाल उठ रहे हैं, जिसका फायदा दो ‘सिक्योर’ मैसेजिंग और कॉलिंग ऐप्स को मिल रहा है. ये दो ऐप्स टेलीग्राम (Telegram) और सिग्नल (Signal) है, जिनके डाउनलोड नंबर बीते दिनों बढ़ते पाए गए हैं. साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट (cyber security expert) का कहना है कि आगे भी इसके नंबर के बढ़ने की उम्मीद की जा रही है.

सैन फ्रांसिस्को HQ ऐप एनालिटिक्स कंपनी App Annie ने ET के साथ डेटा शेयर किया है. इसमें बताया गया कि भारत में वॉट्सऐप डेटा ब्रीच मामले के बाद Signal नाम की ऐप iOS स्टोर पर 105वें से सीधा 39वें नंबर पर आ गई. इस डेटा को 3 नवंबर को रिकॉर्ड किया गया है, जो कि 'सोशल नेटवर्किंग ऐप डाउनलोड' कैटेगरी का है.

वहीं गूगल प्ले स्टोर पर ये सिग्नल ऐप कम्युनिकेशन ऐप कैटेगरी में 255वें पोजिशन से 31वें नंबर पर आ गई. इस डेटा को 1 नवंबर को रिकॉर्ड किया गया है.

whatsapp, supreme court

वॉट्सऐप यूज़र में आई गिरावट
भारत में वॉट्सऐप का बड़ा बाज़ार है, जिसके 40 करोड़ यूज़र्स हैं, मगर डेटा सिक्योरिटी की वजह से इममें गिरावट आती दिख रही है. App Annie के डेटा के मुताबिक गूगल प्ले स्टोर पर most downloaded apps की कैटेगरी में पहले नंबर से गिरकर चौथे नंबर पर आ गई है.

वॉट्सऐप सिक्योरिटी को लेकर IIT-Bombay के राहुल त्यागी, साइबर सिक्योरिटी कंपनी ल्यूसिडस के कॉफाउंडर का कहना है की Telegram जैसी ऐप MT Protocol का इस्तेमाल करती हैं, जिससे भेजे और रिसीव किए गए हर मैसेज को कई बार चेक किया जाता है.
Loading...

Signal App


इनक्रिप्शन के अलावा इसमें ऐसा फीचर है जो मैसेज की length को चेक करता है. उदाहरण के तौर पर अगर यूज़र 32 कैरेक्टर का मैसेज भेजता है, तो टेलीग्राम वेरिफाई करता है कि दूसरे यूज़र(receiver) को वह मैसेज 32 कैरेक्टर का ही मिला या नहीं. जब कोई मैसेज भेजता है तो टेलीग्राम हर मैसेज पर एक यूनीक सिक्वेंस नंबर लगा देता है, फिर जब वह मैसेज रिसीवर को मिलता है, तो टेलीग्राम चेक करता है कि वह मैसेच सही सिक्वेंस में है या नहीं. राहुल त्यागी ने आगे कहा कि ये तरीका हर बार अपनाया जाता है, जब भी कोई मैसेज भेजा जाता है, तो इससे प्रोटेक्शन लेवल को समझा जा सकता है.

टेलीग्राम से Signal ऐप पर शिफ्ट हो रहे हैं सिक्योरिटी एक्सपर्ट
इसके अलावा यह सेल्फ डिस्ट्रक्ट जैसा फीचर भी देता है, जिसमें यूज़र 15 या 30 सेकेंड सेलेक्ट करते हैं तो वह उतनी देर में अपने आप डिलीट हो जाते हैं. इसके अलावा उनका कहना है कि बेहतर सिक्योरिटी लेवल और प्रोटेक्शन की वजह से कई सारे सिक्योरिटी एक्सपर्ट टेलीग्राम से Signal ऐप पर शिफ्ट हो रहे हैं. Signal App की खास बात ये है कि यह वीडियो कॉल के लिए भी उतनी लेवल की सिक्योरिटी देता है, जितनी की मैसेज के लिए.

Telegram App


वॉट्सऐप का कहना-यूज़र्स की प्राइवेसी सबसे ज़रूरी है
WhatsApp के प्रवक्ता का कहना है कि हम एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन में सबसे अग्रणी कंपनी हैं. हमारे लिए यूज़र्स की प्राइवेसी सबसे ज़रूरी है और हमेशा रहेगी. हमारी सिक्योरी टीम ने मई में मोबाइल पर आने वाले साइबर अटैक को पकड़ा था. साइबर अटैक हमारे end-to-end encryption को तोड़ने में नाकामयाब रहा. हमारी टीम आगे आने वाली चुनौतियों पर लगातार काम कर रही है, जिससे यूज़र्स को सिक्योरिटी प्रदान की जा सके.

टेलीग्राम का डेटा क्वाउड पर स्टोर होता है
साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट गौतम कुमावत का कहना है कि वॉट्सऐप का सारा डेटा यूज़र के फोन में सेव होता है. मगर टेलीग्राम के साथ ऐसा नहीं है, इसपर आए मैसेज, फोटो, डॉक्युमेंट क्लाउड पर स्टोरॉ होते हैं और इसके लिए बैकअप की ज़रूरत नहीं होती है. टेलीग्राम पर यूज़र हर साइज़ की फाइल भेज सकते हैं, मगर वॉट्सऐप पर ऐसा नहीं है.



..फिर भी वॉट्सऐप को तोड़ पाना मुश्किल 
काउंटरपॉइंट के डायरेक्टर Neil Shah का कहना है कि भारत में Signal के यूज़र्स लाखों में है, वहीं टेलीग्राम की एक्टिव यूज़र की संख्या 3-4 करोड़ पाई गई है. इसमें कोई संदेह नहीं है कि वॉट्सऐप डेटा ब्रीच की वजह से Signal और Telegram का यूज़रबेस बड़ेगा, लेकिन जिस तरह से वॉट्सऐप का नेटवर्क बड़े स्तर पर फैला हुआ है, उसको तोड़ पाना आसान है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 6, 2019, 10:30 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...