WhatsApp पर फर्जी खबर को पहचानने का ये है तरीका, ऐसे करें कंट्रोल

इन तरीकों को अपनाकर आप WhatsApp पर Fake News को फैलने से रोक सकते हैं.

News18Hindi
Updated: August 9, 2019, 2:49 PM IST
WhatsApp पर फर्जी खबर को पहचानने का ये है तरीका, ऐसे करें कंट्रोल
इन तरीकों को अपनाकर आप WhatsApp पर Fake News को फैलने से रोक सकते हैं.
News18Hindi
Updated: August 9, 2019, 2:49 PM IST
सोशल मीडिया और इन्सटैंट मैसेजिंग सर्विस वॉट्सऐप पर फर्जी खबरें लगातार बढ़ती जा रही हैं. ऐसे में कई बार ऐसा होता है कि हम लोग ऐसी खबरों पर विश्वास भी कर लेते हैं. तमाम बार हम खुद भी किसी खबर को अपने स्तर पर चेक किए बिना उसे खुद भी फॉरवर्ड करने में लग जाते हैं ऐसी स्थिति में गलत खबर को फैलाने में साझीदार बन जाते हैं. तो इसके लिए कुछ सुझाव हैं जिन्हें अपनाकर इस चीज़ को रोका जा सकता है-

थोड़े अलग दिखने वाले संदेशों से सावधान रहें-
आपको मिलने वाले संदेशों या वेबसाइट्स के लिंक में अगर गलत स्पेलिंग होती है तो उनमें शामिल खबर झूठी होती है. इन संकेतों को देखें ताकि आप पता लगा सकें कि जानकारी सही है या नहीं.

मैसेज को सोच समझकर फॉरवर्ड करें-

ऐसा ज़रूरी नहीं है कि अगर संदेश कई बार शेयर किया जाए तो वह सच हो, कई बार अफ़वाहें ज़्यादा फ़ैलती हैं. सिर्फ़ इसलिए संदेश फ़ॉरवर्ड न करें क्योंकि संदेश भेजने वाला आपसे संदेश को शेयर करने के लिए बार-बार कह रहा है, सोच-समझकर संदेश को फ़ॉरवर्ड करें.

फ़ोटो और वीडियो पर जल्द ही यकीन न करें-
तमाम फ़ोटो, ऑडियो और वीडियो आपको बहकाने के लिए भी भेजे जाते हैं, उनमें दिखाया गया हमेशा सच नहीं होता. अगर खबर सच्ची होगी तो अवश्य ही किसी न्यूज़ चैनल या रेडियो पर भी दिखाई या सुनाई जाएगी, इसलिए खबर की सच्चाई का पता लगाएं. जब एक खबर कई जगह छपती है, को उसके सच होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं.
Loading...

ये भी पढ़ेंः इंस्टाग्राम अकाउंट डिलीट होने पर फूट-फूट कर रोई लड़की, देखें पूरा वीडियो

खबर के सच होने का पता लगाएं-
अगर आपको यकीन न हो कि संदेश में मौजूद जानकारी सच है या झूठ, तो ऐसे में तथ्यों की जांच करें और न्यूज़ पर खबर के सच होने की जांच करें. अगर आपको फिर भी यकीन न हो कि संदेश में मौजूद जानकारी सच है या झूठ, तो ऐसे में उन लोगों से पता करें जिन पर आपको भरोसा है.

किसी भी बात पर जल्द विश्वास न करें-
ऐसी जानकारी से बचें जो आपकी पूर्ववर्ती मान्यताओं की कन्फ़र्म करती है और किसी भी जानकारी को शेयर करने से पहले फैक्ट्स की अच्छे से जाँच कर लें. वे बातें जिनपर यकीन करना थोड़ा मुश्किल होता है वे अक्सर झूठी होती हैं.

ये भी पढ़ेंः Xiaomi फैंस के लिए खुशखबरी, जल्द सेल में मिलेगा Redmi Note 7 Pro का नया वेरिएंट

अफ़वाहों को फैलने से रोकें-
अगर आपको किसी ने ऐसा संदेश भेजा है जो आपको लगे कि सच नहीं है, तो जिसने आपको वह संदेश भेजा है उससे संदेश के सच होने का प्रमाण मांगें और अगर वह आपको संदेश के सच होने का प्रमाण न दे सकें तो उन्हें ऐसे संदेश भेजने से मना करें. अगर कोई ग्रुप में या कोई व्यक्ति बार-बार अफ़वाहें या झूठी खबरें भेजता है, तो उसकी रिपोर्ट करें.

नोट: अगर आपको लगता है कि आप या कोई अन्य व्यक्ति किसी भी प्रकार के खतरे में है, तो कृपया अपने पास के पुलिस स्टेशन या किसी भी प्रकार के कानून प्रवर्तन से संपर्क करें, ऐसी परिस्थितियों में वे आपकी बेहतर रूप से मदद कर सकते हैं.

ये भी पढ़ेंः लॉन्च हुआ दुनिया का पहला कलाई में बांधने वाला स्मार्टफोन, जानें कीमत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 9, 2019, 12:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...