लाइव टीवी

WhatsApp पर हैकर्स की नजर! आपके फोन में ना घुस पाए जासूस, जानें क्या करें और क्या नहीं

News18Hindi
Updated: November 3, 2019, 2:00 PM IST
WhatsApp पर हैकर्स की नजर! आपके फोन में ना घुस पाए जासूस, जानें क्या करें और क्या नहीं
1400 वॉट्सऐप यूजर के मोबाइल फोन पर मालवेयर से हमला किया गया है.

वॉट्सऐप (WhatsApp) ने खुद खुलासा किया है कि वॉट्सऐप के ज़रिए भारत में कई वकील, पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी हो रही थी. सुरक्षित रखने का दावा करने वाला वॉट्सऐप पर कितना भरोसा किया जा सकता है ये आप खुद ही तय करें...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 3, 2019, 2:00 PM IST
  • Share this:
वॉट्सऐप (WhatsApp) के ज़रिए हुई जासूसी को लेकर दो दिन पहले बड़ा खुलासा हुआ है. ये खुलासा किसी और ने नहीं बल्कि खुद वॉट्सऐप ने ही किया है. वॉट्सऐप के ज़रिए भारत में कई वकील, पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी हो रही थी. रिपोर्ट के मुताबिक इस कथित जासूसी में दुनिया भर में 1400 से लोगों के फोन हैक किए गए जिसमें भारतीय भी शामिल हैं.

खुद WhatsApp ने माना कि इजरायली फर्म के स्पाइवेयर के जरिए भारतीय पत्रकारों, वकीलों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी की गई. WhatsApp के मुताबिक मई महीने में उसे एक ऐसे साइबर हमले का पता चला, जिसमें उसकी वीडियो कॉलिंग के जरिए यूजर्स को मालवेयर भेजा गया.

ये भी पढ़ें- WhatsApp पर आ रहा है खास फीचर, बचेगी आपके फोन की बैटरी, देखें फोटो

वॉट्सऐप, Whatsapp, central government, केंद्र सरकार, फेसबुक, Facebook

जब इस जासूसी की भनक वॉट्सऐप को लगी तो उसने बाकायदा इन यूजर्स को मैसेज के जरिए इसकी जानकारी दी. जिनकी जासूसी हुई है उनमें कई नामों का खुलासा भी हुआ है जिसके बाद इस पर राजनीति भी गर्म है. लेकिन यहां पर मुख्य मुद्दा ये है कि क्या वॉट्सऐप के जरिए आप पर भी नजर रखी जा सकती है.

ये भी पढ़ें- भूलकर भी Google पर Search ना करें ये 10 बातें, मुसीबत में पड़ सकते हैं आप

दुनियाभर में WhatsApp का इस्तेमाल करने वालों की संख्या करीब 1.5 अरब है और भारत में सबसे ज्यादा करीब 40 करोड़ लोग WhatsApp का इस्तेमाल करते हैं. ऐसे में आपकी गोपनीयता को सुरक्षित रखने का दावा करने वाला वॉट्सऐप पर कितना भरोसा किया जा सकता है ये आप खुद ही तय करें.
Loading...

WhatsApp
WhatsApp


फोन में ना घुस पाए जासूस, क्या करें?
- फोन में सिर्फ ज़रूरत की App Install करें.
-फोन में गुमनाम App कभी Install नहीं करें.
-बेकार App को मोबाइल से तुरंत हटाएं.
-ज्यादा इस्तेमाल वाले App पर भी नजर रखें.
-App के अजीब बर्ताव पर सावधान हो जाएं.
-अजीब बर्ताव पर फोन में बेतुके विज्ञापन दिखेंगे.
-गमिंग, पॉर्न, फोटो App के जरिए ज्यादा अटैक.
-हमेशा सुरक्षित प्लेटफॉर्म से ही App Install करें.
-सिर्फ Play Store, iOS जैसे प्लेटफॉर्म App Install करें.
-मोबाइल में एंटी वायरस (AntiVirus) भी डालना ज़रूरी है.

ये भी पढ़ें- बड़ी खबर! इन स्मार्टफोन्स पर अब नहीं चलेगा WhatsApp, देखें लिस्ट में आपका फोन तो नहीं...

किस सॉफ्टवेयर से जासूसी?
इजरायल की NSO Group पर हैकिंग का आरोप लगा है. इसके लिए Pegasus नाम के स्पाईवेयर का इस्तेमाल हुआ है. इसके जरिए दुनियाभर के 1400 लोगों की जासूसी की गई है. Pegasus सॉफ्टवेयर 2016 में चर्चा में आया था. एंटी वायरस फर्म Kaspersky ने ये खुलासा कर बताया था कि Pegasus एक जासूसी सॉफ्टवेयर है.
(इनपुट-मनीकंट्रोल)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 3, 2019, 1:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...